क्या हम यह मानते हैं कि भारत आज 21वीं सदी में भी महज जादू टोने व सांप संपेरों का देश है? कम से कम चीन की फिल्म निर्माण कंपनी के साथ संयुक्त रूप से सोनू सूद द्वारा निर्मित फिल्म ‘‘कुंगफू योगा’’ तो इसी बात को साबित करती है. फिल्म के नाम के साथ योगा शब्द जुड़ा है, मगर फिल्म में योगा नदारद है. फिल्म के एक सीन में जब जैक खलनायकों से जान बचाते हुए पानी में गिर जाते हैं, तब अश्मिता उनसे कहती है कि योगा के बल पर आठ मिनट तक सांस ली जा सकती है. अन्यथा पूरी फिल्म से योगा नदारद है. हकीकत में यह फिल्म न सिर्फ भारतीय दर्शकों के साथ खिलवाड़ करती है, बल्कि देश की अस्मिता के साथ भी खिलवाड़ करती है. फिल्म देखने के बाद सबसे पहला व अहम सवाल उठता है कि आखिर सोनू सूद की क्या मजबूरी थी, जो कि उन्होंने न सिर्फ फिल्म ‘‘कुंगफू योगा’’ में अभिनय किया, बल्कि इसका सह निर्माण व भारत में वितरण भी किया? यह फिल्म सोनू सूद के करियर पर एक बड़ा धब्बा साबित हो जाए, तो कोई आश्वर्य नहीं होना चाहिए. कथानक के नाम पर भी यह फिल्म शून्य है. बहुत बारीकी से सोचा जाए तो यह फिल्म पूर्णरूपेण भारत को लेकर चीन की जो सोच है, उसे जरुर परिलक्षित करती है. 

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
COMMENT