‘‘हंड्रेड डेज’’, ‘‘सितम’’,  ‘‘दलाल’’, ‘‘अग्निसाक्षी’’, ‘‘खोटे सिक्के’’ जैसी 15 से 20 फिल्मों के निर्देशक पार्थो घोष पूरे आठ वर्ष की खामोशी के बाद वह बतौर निर्देशक फिल्म ‘‘मौसम इकरार के, दो पल प्यार के’’ लेकर आए हैं. अफसोस इस फिल्म को देखकर इस बात का अहसास ही नहीं होता कि इसका निर्देशन किसी अनुभवी निर्देशक ने किया हो.

संगीतमय प्रेम कहानी प्रधान फिल्म की कहानी के केंद्र में अमर सक्सेना (मुकेश जे भारती) और अंजली (मदालसा शर्मा) की प्रेम कहानी है. अमर अपनी मां दिव्या (उषा बच्छानी) के साथ पेरिस में रहता है, मगर पीएचडी करने के लिए वह मुरादाबाद आता है, जहां कभी उसके माता पिता रहा करते थे. कौलेज जाते समय अंजली की ही कार से उसे टक्कर लगती है और उसके हाथ में फ्रैक्चर हो जाता है, तब अंजली उसे अस्पताल ले जाती है. फिर अंजली, अमर को अपने घर ले जाती है, जहां अमर की मुलाकात अंजली की मां मधु (नीलू कोहली) और पिता राजेश मल्होत्रा (अविनाश वधावन) से होती है. अमर जब तक पूर्णरूपेण स्वस्थ नहीं हो जाता, तब तक अंजली के ही घर में रहता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT