यदि आप मानते हैं कि नारी की प्रगतिशीलता के मायने ड्रग्स का सेवन करना, खुलेआम शराब व सिगरेट पीना, अपने पति को गंदी गंदी गालियां देना, खुलेआम सेक्स व आर्गज्म पर बेबाक बातें करना है, तो फिल्म ‘‘वीरे दी वेडिंग’’ आपके लिए है, अन्यथा कहानी के नाम पर यह फिल्म शून्य है.

bollywood

जी हां! रोमांटिक कौमेडी फिल्म ‘‘वीरे दी वेडिंग’’ तमाम सामाजिक मान्यताओं व सोच को तोड़ने वाली बोल्ड फिल्म होते हुए भी विचलित करती है. पूरी फिल्म एकता कपूर की कंपनी ‘बालाजी टेलीफिल्मस’ मार्का सीरियल व कई तरह के विज्ञापनों का मुरब्बा है. फिल्मकार शशांक घोष ने अपनी इस फिल्म में नारी पात्रों के मार्फत विवाह को मूर्खता, दोस्ती को जीवन उद्धारक, शराब को पानी का पर्याय, यौन संबंध को स्वास्थ्यवर्धक,सिगरेट को तनाव भगाने का आसान उपाय, बदनामी को अति आवश्यक और फैशन को हर समय की जरुरत बताया है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT