भारत में सदियों से ‘पितृसत्तात्मक सोच’के साथ साथ ‘वंश चलाने के लिए लड़की नहीं लड़का चाहिए’की सोच हावी रही है. इसी सोच के साथ लड़की के पैदा होते ही उसे मार दिया जाता रहा. अथवा लड़कियो की भ्रूण हत्याएं होती रही हंै. इसी चलन के चलते पूरे देष के अन्य राज्यों के मुकाबले पंजाब और हरियाणा में लड़कों के अनुपात में लड़कियों की संख्या बहुत कम रहती रही. यह अलग बात है कि कुछ वर्षों में इसमें सुधार आया है. अब कई नए कानून बनने व वक्त के साथ आए सामाजिक बदलाव के चलते लड़के व लड़कियों में काफी समानता की बातें होने लगी है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT