रेटिंगः ढाई स्टार

निर्माताः लुक बुस्सी, अदिति आनंद, जैम मिटेस व अन्य.

निर्देशकः केन स्टौक

कलाकारः धनुष, अमृता संत, एरिन मोर्टियाटी, बेरेंसी बेंजो, एबल जाफरी व अन्य.

अवधिः एक घंटा 40 मिनट

स्पेन और हिंदुस्तान की सह प्रोडक्शन वाली फिल्म ‘‘द एक्स्ट्रा और्डीनरी जर्नी औफ फकीर’अंग्रेजी भाषा में बनी हौलीवुड फिल्मकार केन स्टौकी की वह फिल्म है, जिसे नार्वे व स्पेन सहित कई अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोहों में पुरस्कृत किया जा चुका है. फिल्म मुंबई के एक महाराष्ट्यिन गरीब बालक की जीवन यात्रा है जो कि गैर कानूनी तरीके से कई देशो की यात्रा कर वापस भारत लौटकर गरीब बच्चो को शिक्षा देने का काम कर रहा है.

इन दिनों जिस तरह से हौलीवुड फिल्मकार व कलाकारों के बीच अचानक भारत व बौलीवुड प्रेम जागा है, उसी का प्रतीक है फिल्म ‘‘द एक्स्ट्रा और्डीनरी जर्नी औफ फकीर’’ निर्देशक ने इसमें दक्षिण भारत के मशहूर कलाकार धनुष को केंद्रीय भूमिका रखने के साथ ही स्पेन की मशहूर अदाकारा बेरेंसी बेंजो सहित कुछ हौलीवुड कलाकारों को भी जोड़ा है. तो वहीं उन्होने इसमें बौलीवुड का अहसास दिलाने के लिए जिस तरह से गाने पिरोए हैं, उससे वह फिल्म को बेहतर की बजाय बदतर बना देते है.

हौलीवुड निर्देशक केन स्टौक ने इस अंग्रेजी भाषा में बनी फिल्म का कुछ हिस्सा मंबुई व मंबुई के धोबीघाट पर फिल्माने के साथ ही कुछ जगहों पर हिंदी व मराठी भाषा में संवाद भी रखे हैं.

ये भी पढ़ें- Web Series Review: कोटा फैक्ट्री

कहानीः

फिल्म की कहानी शुरू होती है मंबुई से. जब अजातशत्रु लवांश पटेल उर्फ आजा (धनुष) अपराधी किस्म के अबोध बालकों को जेल जाने से बचने के लिए स्कूल आने के लिए बात करेन जाता है,तो वह खुद को गरीब बताते हुए अपनी कहानी सुनाता है.फिर कहानी आजा के बचपन से शुरू होती है. उसकी मां (अमृता संत) धोबीघाट पर कपडे़ धोने का काम करती है. उसकी मां ने उसे पट्टी पढ़ाई है कि उसके पिता नहीं है, वह तो जादू के बल पर धरती पर आया है. बचपन में उसे छह दिन जेल की हवा, खानी पड़ती है. लेकिन जब आजा स्कूल पढ़ने जाता है, तब उसे पता चलता है कि वह गरीब है और इस संसार में उसका कोई न कोई पिता जरुर है. उसकी मां अक्सर उससे पेरिस जाने की बात करती है. बड़ा होकर आजा सड़क पर जादू का खेल दिखाकर लोगों को ठगना शुरू करता है. अब उसका एकमात्र सपना है कि वह अमीर बने और मां को पेरिस ले जाए. मां की मौत के बाद मां के बक्से से मिली एक चिट्ठी व तस्वीर से आजा को पता चलता है कि उसके पिता स्पेनिस हैं और पेरिस में रहते हैं और उसी की तरह सड़क पर जादू का खेल दिखाया करते हैं. अब वह पेरिस जाने के लिए निकल पड़ता है. सबसे पहले वह नकली सौ यूरो की नोट के बल पर पेरिस पहुंचता है, जहां उसकी मुलाकात मरी (एरियन मोरियार्टी) से होती है और उससे वह प्यार कर बैठता है. दूसरे दिन मरी से आयफिल टावर पर मिलने का वादा करता है, पर वादे को पूरा करने से पहले ही हालात ऐसे बनते हैं कि वह एक अलमारी के अंदर बंद होकर अजीबोगरीब तरीके से इंग्लैंड, बर्सिलोना व लीबिया पहुंचता है. उसे पूरे विश्व की कुछ कड़वी सच्चाईयों का भी पता चलता है. इसी यात्रा में उसकी मुलाकात स्पेनिश अभिनेत्री नेली (बेरेंसी बेंजो) से होती है, जो उसकी अपने शर्ट पर लिखी गयी कहानी को हजार ऐरो में बिकवाकर उसे मालामाल कर देती है.पर अंत में वह सारा पैसा रिफ्यूजियों के बीच बांटकर,उनका तारनहार बन सही पासपोर्ट के साथ भारत लौटता है. उसकी यह यात्रा काफी एडचेंरस रहती है. कहानी खत्म होते ही बच्चे स्कूल जाने का ऐलान कर देते हैं.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

गृहशोभा डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...