कुछ दिनों से दिल्ली के हवा में परिवर्तन देखने को मिल रहा है अर्थात दिल्ली की हवा एक बार फिर से जहरीली हो चुकी है. पड़ोसी राज्यों में पराली के जलने के कारण शहर की आबो-हवा में प्रदूषण बढ़ गया है. यह प्रदूषण (दूषित हवा) बच्चों के स्वास्थ्य के लिए विशेषतौर पर नुकसानदेह है. यह समस्या दीपावली के मौके पर पटाखों के जलने के कारण और भी ज्यादा गंभीर हो सकती है. अपने नन्हें-मुन्नों को स्वस्थ रखने के लिए हम आपको बताने जा रहे हैं उनकी सेहत का ख्याल रखने के कुछ टिप्स, तो एक बार जरूर डालिए इनपर एक नजर...

air pollution

प्रदूषित वातावरण बच्चों के लिए खतरनाक

प्रदूषण बच्चों की सेहत के लिए बेहद खतरनाक है. इससे उनकी एयर पाइप में सूजन और सिकुड़न की समस्या पैदा हो सकती है और इस समस्या के लंबे समय तक चलने से यह स्थाई रूप से अस्थमा की बीमारी का रूप भी ले सकता है. इसके अलावा बच्चों को सांस संबंधी अन्य बीमारियां जैसे सर्दी, खांसी-जुकाम आदि भी हो सकते हैं. इसके अलावा दीपावली आने को है. इस दिन बहुत सारे पटाखे छुड़ाने के बाद वातावरण का प्रदूषण बहुत ज्यादा बढ़ जाता है. इस दौरान सांस लेने पर बच्चों को दम घुटने, खांसी आने की समस्या हो सकती है. इसके अलावा आंखों में जलन और आंखों से पानी गिरने की परेशानी भी पैदा हो सकती है.

air pollution

प्रदूषण से बच्चों की रक्षा के उपाय

प्रदूषण के बुरे असर से बच्चों को बचाने के लिए उन्हें घर से बाहर ना निकालें और कोशिश करें कि उन्हें सुबह और शाम के समय बिल्कुल भी बाहर ना ले जाएं. एकदम सुबह और शाम के समय तापमान कम होता है जिससे वायु में मौजूद हानिकारक प्रदूषक तत्व बिल्कुल नीचे होते हैं. इस दौरान सांस लेने पर श्वसन संबंधी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है. दिन के समय धूप निकलने पर तापमान थोड़ा बढ़ जाता है जिससे हवा का प्रदूषण थोड़ा कम हो जाता है इसलिए कोशिश करें की बहुत जरुरी हो तभी बच्चों को बाहर लेकर जाएं और वो भी दिन के समय मास्क लगाकर.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT