कैंसर और न्युरोलोजिकल डिसऑर्डर मसलनअल्जाइमर,पार्किन्सनजैसी बिमारियों के इलाज में सकारात्मक परिणाम के उद्देश्य से भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) और मैसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलोजी (एमआईटी) अमेरिका के वैज्ञानिकों ने 3D प्रिंटेड बायोरिएक्टर की सहायता से मानव मस्तिष्क के टिश्यु को विकसित किया है, जिसे ‘ऑर्ग़ेनॉइड’ कहा जाता है. ये रिसर्च हेल्थकेयर और फार्मास्युटिकल इंडस्ट्री के लिए वरदान होगी,जहाँ सेल कल्चर के द्वारा किसी बीमारी को पहचान कर सही दवा देने में आसानी होगी.

इस डिवाइस का उद्देश्य मस्तिष्क के टिश्यु के विकास को ओब्जर्ब करना और एक ऐसी तकनीक का विकास करना, जो कैंसर अल्जाइमर और पार्किन्सन की जैसी न्युरोलोजिकल बीमारी की चिकित्सा और चिकित्सीय खोजो को जल्दी करने में समर्थ हो सकें. इस बारें में डिपार्टमेंट ऑफ़ इलेक्ट्रिकल इंजिनियरिंग (आईआईटी-मद्रास ) के प्रोफेसर अनिल प्रभाकर कहते है कि यह एक 3डी प्रिंटेड माइक्रो-इनक्यूबेटर और इमेजिंग चैंबर को एक हथेली के आकार के प्लेटफॉर्म में बनाया गया है,जिसे लंबे समय तक मानव मस्तिष्क कोशिकाओं की कल्चर और रीयल-टाइम इमेजिंग के लिए सफलतापूर्वक प्रदर्शित किया गया. इस 3D प्रिंट के द्वारा काफी दूर तक इंजिनियरिंग किया जा सकता है, क्योंकि एक डिवाइस में अलग-अलग चैनल बनाकर किसी में कम तो किसी में अधिकन्यूट्रीएंट्स, तापमान के आधार पर डालते है. इन न्यूट्रीएंट्स का सही बैलेंस ‘ऑर्ग़ेनॉइड’ ग्रोथ के लिए बहुत जरुरी होता है. इसमें फायदा यह होता है कि 30 ऐसे ऑर्ग़ेनॉइड’ ग्रो करने पर अधिक काम करने वाली न्यूट्रीएंट्स की कंडीशन के बारें में पता चलता है औरउसके अनुसार किसी में अधिक ड्रग और किसी में कम ड्रग डालने पर कोशिकाओं की स्ट्रेंथ के बारें में पता चल जाता है. इससे बीमारी जल्दी पकड़ में आने के अलावा इलाज करने में आसानी होती है. ऐसी कोशिकाओं को ग्रो करने में 3 सप्ताह लग जाते है. करीब एक सेंटीमीटर होने तक कंट्रोल करना पड़ता है, जिसे डिवाइस में डाला गया है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT