क्या आप को हमेशा सिर में, गरदन पर, कानों के पीछे खुजली होती है या आप को ऐसा महसूस होता है कि आप के सिर में कुछ रेंग रहा है और आप को अपना सिर भारी लगता है? हां, तो ये सभी संकेत इस तरफ इशारा करते हैं कि आप के बालों में जूंएं हैं, जो धीरेधीरे आप का खून चूस रही हैं और बालों की जड़ों को कमजोर बना रही हैं.

बालों में जूंएं क्यों होती हैं

किसी भी रोग या बीमारी के बारे में केवल उस के पूर्ण इलाज के बारे में जानना ही काफी नहीं होता, बल्कि उस के कारणों के बारे में भी जानकारी होनी जरूरी होती है. इसी प्रकार बालों में जूंओं के होने की प्रमुख वजह गंदगी ही है, मगर कई बार अन्य कई कारणों जैसे किसी का कंघा, रबड़बैंड, तौलिया आदि इस्तेमाल करने पर भी आप के सिर में जूंएं हो सकती हैं. इस के अलावा बालों में नमी या पसीने के कारण भी जूंएं पैदा हो सकती हैं.

ये भी पढ़ें- ठंड में बच्चे की स्किन का ऐसे रखें ख्याल

बच्चे हैं आसान शिकार

वैसे तो जूंएं घर के किसी भी सदस्य को हो सकती हैं, लेकिन स्कूलगोइंग बच्चे इन का शिकार अधिक होते हैं, क्योंकि जब बच्चे साथसाथ खेलते हैं, बैठते हैं, उठते हैं, तो ऐसे में सिर से सिर भी जुड़ते हैं, जिस वजह से जूंएं एकदूसरे के बालों में चली जाती हैं और अपना घर बना लेती हैं.

ऐसे में बच्चे सारा दिन अपना सिर खुजलाते रहते हैं, जिस से सिर में जख्म भी हो जाते हैं. इतना ही नहीं जूंएं स्कैल्प से खून भी चूसती हैं, जिस से बालों की जड़ें कमजोर हो जाती हैं और बाल टूटने लगते हैं. जूंओं के साथ इन के अंडे भी अनगिनत संख्या में होते हैं, जो बालों में चिपके रहते हैं और फिर जूंओं में तबदील हो जाते हैं और अगर सही समय पर इन का इलाज न किया जाए, तो इन से छुटकारा पाना मुश्किल हो जाता है.

आइए, जानें जूंओं से छुटकारा पाने में कौन से उत्पाद आप की मदद कर सकते हैं और उन में क्या है खास:

मेडिकर

जब ऐंटीलाइंस शैंपू की बात आती है, तो सब को मेडिकर की ही याद आती है, क्योंकि यह सब से पुराना प्रोडक्ट है जो

1968 में बाजार में आया था. यह क्लीनिकली टैस्टेड है और पूरी तरह से बालों व स्कैल्प के लिए सुरक्षित है. लेकिन सिर की जूंओं को निकालने में यह काफी समय लेता है और 4 हफ्तों में जा कर इस का असर दिखता है, जिस वजह से सिर में मौजूद जूंओं से पीछा छुड़ाने में काफी समय लग जाता है और अधिक शैंपू करने से बाल रूखे भी हो जाते हैं.

जंगली फौर्मूला शैंपू

यह सिर की जूंओं को खत्म करने में काफी असरदार है. यह पूरी तरह से कीटनाशकमुक्त है और बच्चों के लिए सुरक्षित है. साथ ही इस का कोई साइडइफैक्ट भी नहीं है. लेकिन यह  झागदार नहीं है और इस की अनचाही खुशबू आप को परेशान कर सकती है.

लाइस शील्ड शैंपू ऐंड कंडीशनर

यह बालों की जूंओं को खत्म करने के लिए एक सही विकल्प है, क्योंकि यह न केवल जूंओं की सफाई करता है, बल्कि बालों की कंडीशनिंग भी करता है और बालों को रूखा नहीं बनाता है लेकिन यह जूंओं को मारने में असरदार नहीं है. साथ ही यह एक प्रकार का जहर है जो आप की त्वचा में जा कर आप को नुकसान पहुंचा सकता है.

हेयर शील्ड शैंपू

यह ऐंटीलाइंस क्रीम शैंपू दावा करता है कि इस का वन वॉश ऐंटीलाइंस फॉर्मूला एक बार में ही आप के सिर में मौजूद जूंओं को मार डालता है और आप को राहत देता है.

इस में मौजूद गुलदाउदी, रीठा और शिकाकाई के प्राकृतिक अर्क हैं. इसीलिए यह आप के बालों की कंडीशनिंग करता है ताकि आप के बाल उल झें नहीं और मुलायम रहें, साथ ही यह हेयर शील्ड शैंपू आप को जूंओं से ही नहीं, बल्कि उन के अंडों यानी लीखों से भी छुटकारा दिलाता है. इस के अलावा इस की खुशबू बेहद लुभावनी है और इस के पैक के साथ लाइंस स्पैशलिस्ट कौंब भी फ्री है. यह बच्चों के लिए पूरी तरह सुरक्षित है.

ये भी पढ़ें- 12 टिप्स: ऐसे करें सर्दी में पैरों की देखरेख

ये उपाय भी असरदार

विनेगर

यह किचन में आसानी से मिल जाता है. इस से जूंएं और लीखें आसानी से निकल जाती हैं. बाल घने हैं या पतले उस के अनुसार पानी और सिरके की मात्रा 50-50 के रेशे में ले उसे स्कैल्प व बालों में अच्छी तरह से लगा कर सिर को शौवर कैप से कवर कर दें और रातभर लगा रहने दें. सुबह बालों को शैंपू से धो लें.

औलिव औयल

यह जूंओं को मारने में असरदार है. इस तेल से सिर की मालिश कर के सिर को ढक कर सो जाएं और फिर सुबह उठ कर बालों को धो लें और बालों से जूंओं को कंघी की मदद से निकाल दें.

नींबू

नीबू के रस में अदरक का पेस्ट मिला कर बालों में 20 मिनट तक लगाए रखें. जब यह सूख जाए तो बालों को ठंडे पानी से धो लें.

Tags:
COMMENT