भारत भर में कई महिलाओं को अक्सर दूध उत्पादन की समस्याओं का सामना करना पड़ता है. देश के कई हिस्सों में, नई माताओं को बच्चे के जन्म के बाद पहले चालीस दिनों के दौरान ताकत और पोषण प्राप्त करने के लिए कुछ विशेष खाद्य पदार्थों को शामिल किया जाता है, और उसमें से एक प्रसिद्ध ‘गोंद का लड्डू’ है. खाने वाली गोंद, देसी घी, चीनी, किशमिश, नट्स और ड्राई फ्रूट्स इत्यादि से तैयार किया गया, गोंद का लड्डू, कैलोरी से भरपूर होता है और एक नई मां में आवश्यक अतिरिक्त कैलोरी को पूरा करना बहुत ही आवश्यक होता है, और वैसे में जबकि वह नए जन्मे बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग कराती है.

नई माताओं में लैक्टेशन को बढ़ावा देने वाले खाद्य और जड़ी-बूटियों को गैलेक्टोगोग्स कहा जाता है. ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली मां के आहार में बहुत सारे प्राकृतिक खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता और मात्रा दोनों, माताओं में प्राकृतिक दूध को प्रोत्साहित कर उसे बनाए रखा जा सकता है. तथा, बहुत ज़रूरी है कि जितनी भी नई माताओं को प्राकृतिक रूप से कम दूध आता है, वे अच्छी डाइट और कुछ ख़ास फूड्स का अवश्य सेवन करें.

फूड्स जो कि ब्रेस्टफीडिंग को बढ़ाते है:

1. मेथी: मेथी के बीज और पत्ते दोनों ही ब्रेस्टमिल्क उत्पादन को बेहतर बनाने के लिए बेहद उपयोगी हैं. मेथी एक गैलेक्टागॉग साबित हुआ है जिसका अर्थ है कि इनके बीजों के सेवन से महिलाओं में लैक्टेशन ग्रंथियों को प्रोत्साहित करेगा, जिससे दूध की आपूर्ति बढ़ जाएगी. चूंकि इसका सेवन करना आसान है और इसे कई रूपों में खाया जा सकता है. मेथी के बीज, दूध की आपूर्ति के लिए संघर्ष कर रहे नए माताओं के लिए एक आशीर्वाद रहा है. ब्रेस्टफीड को बढ़ाने के लिए मेथी के बीज का उपयोग सबसे महत्वपूर्ण रहा है.

ये भी पढ़ें- जानिए क्यों बच्चे के लिए जरुरी है मां का दूध

2. पालक: यह आयरन का एक उत्कृष्ट स्रोत है. आयरन ऊर्जा को बहाल करने और एनीमिया और कमजोरी से लड़ने में मदद करता है. किसी भी संक्रमण से बचने के लिए, खासकर मानसून के दौरान, पालक को सेवन से पहले अच्छी तरह से उबाला जाना चाहिए.

3. सौंफ: सौंफ या सौंफ के बीज फाइबर युक्त होने के अलावा, यह पोटेशियम, फोलेट, विटामिन सी, विटामिन बी -6 और फाइटोन्यूट्रिएंट से भी भरा हुआ है.साथ ही इनमें ओस्ट्रोजेनिक गुण होते हैं. इसीलिए सौंफ भी नई माताओं में दुग्ध उत्पादन में मदद करते हैं.

4. लौकी: यह सब्जी ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिला को अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रखने में मदद करती है. लौकी पानी से भरा है, जो आपके शरीर को हाइड्रेटेड रखता है. साथ ही विटामिन सी, ए और के का एक समृद्ध स्रोत भी है और सोडियम, कैल्शियम, आयरन, जिंक और मैग्नीशियम जैसे आवश्यक खनिजों में भी समृद्ध है. इसीलिए लौकी का सेवन भी नई माताओं में दुग्ध उत्पादन करने में मदद करते हैं.

ये भी पढ़ें- 4 टिप्स: ऐसे करें घर में एक्सरसाइज

5. नट्स: ये सेरोटोनिन का एक उत्कृष्ट स्रोत हैं, जो लैक्टेशन को बढ़ाने में मदद करता है. साथ ही ये विटामिन और स्वस्थ ओमेगा- 3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं. ब्रेस्टफीडिंग के एक सत्र के बाद मुट्ठी भर काजू और बादाम को मिलाकर उसे बारीकी से पीसकर एक पाउडर बनाएं और स्मूदी और फ्रूट जूस में मिलाकर इसका सेवन करें.

6. लहसुन: यह ब्रेस्टफीडिंग कराने के लिए सबसे अच्छा खाद्य पदार्थों में से एक है. आहार में एक नया स्वाद प्रदान करने के अलावा, यह एक उत्कृष्ट पाचन के रूप में भी कार्य करता है.

लगभग 88% ब्रेस्टमिल्क पानी से बना होता है, एक ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली मां के लिए ज़रूरी है कि वह खुद को अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रखें. ब्रेस्टफीडिंग कराने के दौरान नई माताओं को बहुत अधिक भूख और प्यास लगना स्वाभाविक है. ऐसे कई युवा माताओं को इन समान चुनौतियों से निपटने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा होंगा. ऐसे में, इन सभी खाद्य पदार्थों का बारी-बारी से सेवन करते रहें और मातृत्व का आनंद उठाते रहें.

डौ. रीता बक्शी, स्त्री रोग विशेषज्ञ व आईवीएफ एक्सपर्ट, इंटरनेशनल फर्टिलिटी सेंटर

ये भी पढ़ें- मौनसून में हेल्थ के लिए खतरनाक हो सकती हैं हरी सब्जियां

Tags:
COMMENT