दूध, दही आदि डेयरी प्रोडक्ट्स स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छे होते हैं. इस के बावजूद दुनिया में करोड़ों लोग ऐसे हैं जिन्हें दूध या अन्य डेयरी प्रोडक्ट सूट नहीं करते या कह सकते हैं उन्हें इन से ऐलर्जी होती है. मैडिकल भाषा में इसे लैक्टोज इनटौलरैंस कहते हैं. वे इन्हें पचा नहीं पाते हैं .

लैक्टोज क्या है:

दूध में शुगर होती है जिसे लैक्टोज कहते हैं. हालांकि लैक्टोज इनटौलरैंस कोई बीमारी नहीं है पर यह आप के लिए असहज हो सकती है. हमारे शरीर में एक ऐंजाइम ‘लैक्टेज’ होता है जो शरीर को शुगर एब्जार्ब करने में मदद करता है. यह एंजाइम छोटी आंत में होता है पर कुछ लोगों को यह नहीं होता है या बहुत कम होता है. जिन्हें लो लैक्टोज होता है वे डेयरी प्रोडक्ट्स नहीं पचा पाते हैं यहां तक कि दूध से बनी स्वादिष्ठ देशी मिठाइयां भी.

लो लैक्टोज से क्या होता है:

जिन्हें लैक्टोज ऐंजाइम की कमी है उन की छोटी आंत में दूध का शुगर, लैक्टोज, ब्रेक डाउन नहीं हो पाता है. यह नीचे कोलन में जा कर वहां बैक्टीरिया से मिलता है और फरमैंट करता है जिस के चलते गैस, डकार, दस्त और उलटियों की शिकायत होती है.

ये भी पढ़ें- सीने में दर्द ही नहीं, बल्कि हार्ट अटैक के इन 6 संकेतों को न करें इग्नोर

लैक्टोज इनटौलरैंस किसे हो सकता है:

इस में कोई अपवाद नहीं है, यह शिकायत दुनियाभर में करोड़ों लोगों को है खासकर व्यस्कों को. इस में कोई आश्चर्य नहीं है कि लगभग 40% लोगों में 2 से 5 साल के बाद लैक्टोज ऐंजाइम बनना बंद हो जाता है या बहुत कम हो जाता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT