लड़कियां हों या महिलाएं, वैजाइना के बाहरी या अंदरूनी हिस्से में अक्सर इचिंग यानी कि खुजली होने लगती है जो काफी बेचैन करने वाली होती है. यह खुजली जब तक खत्म नहीं होती, परेशान करती रहती है. लड़कियों को इसके बारे में किसी से बात करने में भी संकोच होता है और सबके सामने खुजाना खराब लगता है और न खुजाओ तो यह और परेशान करती है. ऐसे में क्या यह ईस्ट इंफेक्शन है, यह कैसे हुआ, इसे कैसे ठीक करें जैसे सवाल सभी के मन में आने लाजिमी ही हैं, लेकिन सभी महिलाओं को पता होना चाहिए कि वैजाइना में होने वाली खुजली हमेशा ईस्ट इंफेक्शन से ही नहीं होती. इसकी दूसरी भी कई वजहें होती हैं. आपका यह जानना बेहद जरूरी है कि इस खुजली की असल वजह क्या है. वैजाइना में होने वाली यह खुजली एक रेजर से होने वाले इरिटेशन जैसी हार्मलेस भी हो सकती है जबकि एसटीडी (सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिज़ीज़) जैसी खतरनाक भी हो सकती है. इसलिए इसके पीछे की असली वजह जानकर उसका इलाज कराना बेहद जरूरी है.

1. लाइफस्टाइल की वजह से खुजली

अगर आपको वैजाइना के बाहरी हिस्से में खुजली और लाली महसूस हो रही है तो यह एक किस्म का स्किन इंफेक्शन हो सकता है और इसकी वजह रेजर, कसी हुई पेंटी या आपको आनेवाला पसीना भी हो सकता है. हालांकि यह सुनिश्चित करने के लिए कि यह कोई खतरनाक इंफेक्शन तो नहीं है, आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है. उनके बताए टेस्ट निगेटिव आएं, तभी यह कहा जा सकता है कि यह स्किन इंफेक्शन की वजह से है. इससे बचने के लिए आपको हर पांच इस्तेमाल के बाद अपना रेजर बदल देना चाहिए. रात को सोते वक्त कसी पेंटी की जगह कुछ ढीला- ढाला कपड़ा पहनना चाहिए और पसीने से तरबतर होने के बाद नहाकर तुरंत अपने कपड़े बदल लेने चाहिए. इसके अलावा अपने वैजाइना क्षेत्र को गीला नहीं, बल्कि सूखा रखना चाहिए. अगर फिर भी खुजली बरकरार रहे तो इस पर वैसलीन या फिर नारियल का तेल रोजाना लगाया जाना चाहिए, जरूर आराम मिलेगा.

ये भी पढ़ें- इलाज से पहले जानें आखिर क्यों होती है एलर्जी

2. सेक्स से होने वाली खुजली

अगर आपने पिछली बार सेक्स करते वक्त कोई नया लुब्रिकेंट इस्तेमाल किया है, तो यह भी आपकी खुजली की वजह हो सकता है. डौक्टरों का कहना है कि कई लुब्रिकेंट्स में मौजूद एल्कोहल या लेटेक्स अक्सर वैजाइना में परेशानी और एलर्जी का सबब बन जाता है. इसके अलावा कई बार अगर आप बिना लुब्रिकेशन के सेक्स करते हैं तो भी बार- बार की रगड़ की वजह से आपको इरिटेशन या खुजली महसूस हो सकती है. इस बारे में डॉक्टर का सुझाव है कि आर्टिफिशियल लुब्रिकेंट की जगह आप नारियल का तेल इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन नारियल का तेल तब इस्तेमाल न करे, जब आप कंडोम का इस्तेमाल कर रहे हों, क्योंकि नारियल तेल की वजह से कंडोम ब्रेक भी हो सकता है. ऐसे में आप बिना खुशबू वाला वौटर बेस्ड कंडोम का ही चुनाव करें.

3. मेनोपौज के दौरान होने वाली खुजली

ऐसा समय जब आपका एस्ट्रोजेन स्तर काफी कम हो जाता है, यानी कि आपका मेनोपौज का समय, तब आपकी वैजाइना का पीएच बैलेंस भी बदल जाता है. ऐसे में वैजाइना की दीवारें पतली और ड्राई हो जाती हैं जो आमतौर पर खुजली का भी कारण बन जाता है. इसे वैजाइनल एट्रौफी कहा जाता है. इसके प्रमुख लक्षणों में खुजली, इरिटेशन और सेक्स में दर्द होते हैं. इसके इलाज के लिए आपको अपने डौक्टर की सलाह लेना जरूरी होता है. उनकी सुझाई हुई दवाओं से ही आपको आराम मिलेगा.

4. साबुन से होने वाली खुजली

शायद आपको पता नहीं होगा कि वैजाइना में सफाई के लिए साबुन का इस्तेमाल बिलकुल नहीं करना चाहिए. इससे वैजाइना का नेचुरल बैक्टीरियल बैलेंस बिगड़ सकता है. और कई बार डूश (सफाई के लिए पानी के जेट का इस्तेमाल) से भी वैजाइना की खुजली हो सकती है. इस बारे में डॉक्टरों का कहना है कि वैजाइना एरिया में इस्तेमाल किये जाने वाले सभी प्रोडक्ट्स ऐसे होने चाहिए, जिनमें कोई खुशबू न हो. इन प्रोडक्ट्स से वैजाइना का बैक्टीरिया बैलेंस गड़बड़ा जाता है. इसके अलावा वैजाइना को अंदर से सफाई की जरूरत नहीं होती, क्योंकि यह खुद ही अपनी सफाई करती है. वैजाइना की अपनी एक खुशबू होती है, अगर उसकी जगह आपको कोई और गंध आने लगे तो आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए.

5. बैक्टीरियल वैजिनोसिस से खुजली

बैक्टीरियल वैजिनोसिस वैजाइना का काफी कौमन इंफेक्शन होता है और बैक्टीरिया के इनफ्लेमेशन से होता है. यह किसी भी उम्र वाली महिला को हो सकता है, लेकिन रिप्रोडक्टिव एज यानि कि 25 से 35 साल की महिलाओं को ज्यादा होता है. ऐसे में डूश या बिना प्रोकेक्शन के किया जाने वाला सेक्स इसे बढ़ा सकते हैं. इसमें खुजली के साथ- साथ ग्रे कलर का डिस्चार्ज भी आता है, जिसमें मछली जैसी गंध हो. अगर आपको भी कुछ ऐसे ही लक्षण प्रतीत हों तो तुरंत अपने डौक्टर की सलाह लें. बैक्टीरियल वैजिनोसिस का इंफेक्शन एंटीबायोटिक या प्रोबायोटिक दवाओं से ही खत्म होता है.

ये भी पढ़ें- मामूली जख्मों के लिए ट्राय करें ये होममेड टिप्स

6. अगर ईस्ट इंफेक्शन ही हो तो…?

अगर आपको पहली बार ईस्ट इंफेक्शन होने जैसे लक्षण दिख रहे हैं तो आपको अपने डौक्टर से मिलना चाहिए, ताकि किसी खतरनाक इंफेक्शन होने की आशंका न रहे. ईस्ट इंफेक्शन का पता लगने के बाद डौक्टर आपको दवाएं देंगे. ईस्ट इंफेक्शन के लक्षणों में वैजाइना की जलन और खुजली (सेक्स और पेशाब करने के दौरान), वैजाइना के रैश और बिना गंध वाला पनीर जैसा डिस्चार्ज या फिर पानी जैसा डिस्चार्ज शामिल है.

चेतावनी – वैजाइना में किसी भी तरतह की खुजली होने पर सबसे पहले अपने डौक्टर से मिलकर इंफेक्शन का पता जरूर लगा लें. जब आपका डौक्टर इस खुजली के कारणों के बारे में बता दे, तब उसकी सलाह से ही अपना घरेलू इलाज करें.

Tags:
COMMENT