कोरोना वायरस (Corona virus) के संक्रमण से बचने के लिए अपनी और दूसरों की सुरक्षा के लिए मास्क पहनना जितना जरूरी हो गया है. उतना ही ये हमारे फेफड़ों के लिए कितना खतरनाक साबित हो सकता है. वो कैसे? आइए जानें -

कोविड-19 के संक्रमण से बचने के लिए पूरी दुनिया मास्क का सहारा ले रही है। पर विशेषज्ञ का कहना है कि मास्क पहनकर सांस लेने से हमारे फेफड़ों, वायटैलिटी और इम्यूनिटी पर काफी बुरा असर पड़ता है.इतना ही नहीं हम कई गंभीर बीमारियों के शिकार भी हो सकते हैं.

बी एल के हॉस्पिटल के चेस्ट एंड रेस्पिरेटरी डिसीसेस के सीनियर डायरेक्टर एंड एचओडी डॉक्टर संदीप नायर का कहना है कि अपनी और दूसरों की सुरक्षा के लिए मास्क पहनना जरूर है. लेकिन लगातार मास्क पहने रखना हमारे फेफड़ों के लिए कितना खतरनाक साबित हो सकता है.
मास्क पहनने पर कार्बन डाईऑक्साइड की मात्रा ज्यादा होने पर इसमें मौजूद हाइपरकेनिया सिरदर्द और चक्कर जैसी समस्या बढ़ा सकते हैं. इसके लिए आपको कुछ तरीके अपनाने होंगे.

1. अकेले हैं तो मास्क ना लगाएं

राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान का मानना है कि ज्यादा समय तक मास्क लगाने पर शरीर को कई नुकसान हो सकते हैं, इसलिए जब ज्यादा लोगों के बीच मौजूद हो तो मास्क जरूर लगाएं, लेकिन जब बहुत ज्यादा भीड़ में न हो, घर पर अकेले हो या फिर अकेले ड्राइव कर रहे हैं तो मास्क का उपयोग कम कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें- जानें क्यों जरूरी है नए कपड़ों को धोना

2. मॉर्निग वॉक करते समय मास्क ना लगाएं

अगर आप मॉर्निंग वॉक पर जाते हैं तो रनिंग, जॉगिंग व व्यायाम करते समय N95 मास्क ना पहनें. क्योंकि दौड़ लगाते समय ऑक्सीजन की अधिक जरूरत होती है इसलिए ट्रिपल लेयर सर्जिकल या क्लॉथ मास्क पर्याप्त है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT