कोरोना की दूसरी लहर में नीता और उसके पति की अकस्मात मृत्यु हो गयी. एक मल्टीनेशनल कंपनी में कार्यरत इकलौता बेटा अमन फ्लाइट्स के न चलने के कारण भारत नहीं आ पाया. जब 3 माह बाद वह आया तो तब तक उसके घर का आधे से अधिक समान नाते रिश्तेदार ले जा चुके थे. लंबे समय से भारत न आने के कारण उसे अपने पिता की परिसम्पत्तियों की भी कोई जानकारी नहीं थी जिसके चलते उसे क्लेम्स लेने में अच्छी खासी परेशानी का सामना करना पड़ा.

वीणा कोचिंग संस्थान को भोपाल में सफलतापूर्वक चलाने वाले वर्मा दम्पत्ति की अचानक कोरोना के कारण मृत्यु हो गयी दोनों बच्चे अभी नाबालिक हैं. माता पिता के जाने के बाद न तो परिवार में किसी को उनकी परिसम्पत्तियों के बारे में पता है और न ही कोई बच्चों की देखभाल करने वाला है.

कोरोना काल से पूर्व यदि परिवार का मुखिया परिवार के समक्ष वसीयत की बात करता था तो परिवार के सदस्य उसे "क्यों व्यर्थ की बातें कर रहे हो" कहकर झिड़क देते थे और बात आई गयी हो जाती थी पर कोरोना के आगमन के बाद से वसीयत एक आवश्यक आवश्यकता बन गयी है. कोरोना काल से पूर्व पति या पत्नी में जीवित सदस्य आर्थिक मैनेजमेंट कर लिया करता था परन्तु कोरोना की दूसरी लहर के दौरान पूरे पूरे परिवार ही कोरोना की चपेट में आकर इस संसार से विदा ले गए. इसके अतिरिक्त कई बच्चों के माता पिता एक साथ चले जाने से वे अनाथ हो गए ऐसे में बच्चों की परवरिश कौन करेगा यह बहुत बड़ा यक्ष प्रश्न है. वसीयत करना तो हमेशा से ही सुरक्षाप्रद रहा है. वसीयत के अभाव में इसके अतिरिक्त कुछ अन्य कारणों से भी वसीयत करना अत्यंत आवश्यक है-

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT