सुनीता राय, (लखनऊ)

मां
अपने आप को हमेशा आप जैसा बनाये ये सोचते है हम. हम अपनी मां को अम्मा ही बुलाया करते थे. पांच भाई-बहन मे हम सबसे छोटे. अम्मा हमारी बाबू जी की एक सीमित आय मे अपनी गृहस्थी को बहुत अच्छे से चलाना जानती थी. बाबू जी से कभी बहस करते देखा ही नहीं. बाबू जी गरम दिमाग के जल्दी गुस्सा होने वाले व्यक्ति थे. पर अम्मा हमेशा मौन रह कर उनका गुस्सा खत्म कर देती थी.

आप के जैसा साहस नही है हममे, न ही आप जैसा धैर्य. आप का मूल्य खुद मां बनने के बाद ज्यादा समझ आया. वो आप का समझाना और रोकना टोकना जो उस समय बुरा लगता था. अब समझ में आया कि वो एक मां की परवाह थी जब खुद हम पर आई बात. आप साथ मे नही हो पर हमेशा आप की बाते साथ होती हैं.

बहुत याद आती हो आप. तीन बच्चो की मां होने के बाद भी ...बच्ची बन जाती हू आप को याद करके और सोचती हू कितनी बदनसीब हूं कि आप मेरे साथ नहीं हो. और ये लाइन गुनगुनाने लगती हूं.

मां बच्चो कि जां होती है
वो होते है किस्मत वाले जिनकी मां होती है ।।
कितनी शीतल है कितनी सुंदर है,
प्यारी प्यारी है मां ....ओ मां।।

sunita-rai

ये भी पढ़ें- मेरी मां- मां की एक सीख ने दी जिंदगी को नई दिशा

......................................................

बिन्दू जैन, (लखनऊ)

मेरी मां ने बचपन से ही हमें यह बताया कि हम मां के सामने हो या ना हो. वो काम कभी नहीं करना है जो हम घर आकर उन्हें बता ना सके. अगर वह हमारे सामने नहीं है और हम कुछ ऐसा काम करने को सोच रहे हैं. तो हमें वह काम नहीं करना चाहिए.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT