सवाल-

हैलो डाक्टर! मैं 26 वर्षीय युवती हूं. मैं तीन महीने से प्रेगनेंट हूं. पिछले कुछ समय से मैं बहुत तनाव में रहने लगी हूं. मैं जानना चाहती हूं क्या इसका असर मेरे होने वाले बच्चें के स्वस्थ पर भी पड़ सकता हैं? मुझे इसे रोकने के लिए क्या करना चाहिए?

जवाब-

उत्तर- जी हां, तनाव का असर मां और बच्चें दोनों पर ही पड़ता है. जब आप तनाव से गुजरती हैं तो, शरीर से स्ट्रेस हार्मोन रिलीज होता है जो एक तरह से जहरीला होता है और शरीर के लिए हानिकारक भी. जिस वजह से चिढ़चिढ़ापन, बात बात पर गुस्सा आता है. तनाव ज्यादा बढ़ने पर डिप्रेशन भी हो सकता है. प्रेग्नेंसी के दौरान पहले से ही शरीर में हार्मोनल बदलाव होने शुरू हो जाता है. जो शारीरिक और मानसिक बदलाव को भी दर्शाता है. तनाव के बुरे प्रभाव से बचने के लिए पहले आपको यह सोचना है की आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण क्या है, आपकी गर्भाव्स्था या तनाव. तनाव को आप नजरअंदाज कर सकती हैं, लेकिन गर्भावस्था को नहीं. इसलिए अपनी प्रेग्नेंसी पर ज्यादा ध्यान दें. तनाव से बचने के लिए आप कुछ हेल्दी एक्टिविटी कर सकती हैं जैसे मेडिटेशन, अच्छी किताबे पढ़ सकती हैं, रोजाना वॉक पर जा सकती हैं, कुछ ऐसे गाने सुन सकती हैं जिससे आपको सकारात्मकता महसूस हो. हमेशा वही सब करें जिससे आपको खुशी मिलती हो..

ये भी पढ़ें- मेरे पति का अफेयर चल रहा है?

ये भी पढ़ें

मां बनना एक बेहद खूबसूरत एहसास है, जिसे शब्दों में पिरोना मुश्किल ही नहीं, बल्कि असंभव सा भी प्रतीत होता है. कोई महिला मां उस दिन नहीं बनती जब वह बच्चे को जन्म देती है, बल्कि उस का रिश्ता नन्ही सी जान से तभी बन जाता है जब उसे पता चलता है कि वह प्रैगनैंट है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT