सवाल-

मैं 21 वर्षीय युवती हूं. मुझे घूमनाफिरना, मौजमस्ती करना अच्छा लगता है. मेरा मन न तो पढ़ाई में लगता है और न ही घर के कामों में. इन वजहों से घर में भी सब मुझ से नाराज रहते हैं. बताएं मैं अपनी आदतें कैसे बदलूं?

जवाब-

आप अपनी आदतें बिलकुल बदल सकती हैं. अभी आप को घूमनाफिरना, मौजमस्ती करना बेशक अच्छा लग रहा हो, लेकिन जब आप के दोस्त मेहनत और पढ़ाई से आगे बढ़ जाएंगे, नौकरी करने लगेंगे, तो तब आप को बहुत पछतावा होगा.

आप की घर के कामों में भी दिलचस्पी नहीं है, तो जाहिर है आप न तो अपना कैरियर संवार पाएंगी और न ही घर के कामों में ही दक्ष हो पाएंगी.

यों तो मातापिता काफी हद तक अपने बच्चों को बरदाश्त करते हैं, उन के ऐब छिपाते हैं, बावजूद उन्हें प्रेम करते हैं, मगर जब आप की शादी होगी तो जरूरी नहीं कि ससुराल में सब आप को इसी रूप में स्वीकार कर लें.

इसलिए बेहतर होगा कि आप समय रहते खुद को बदलने का जतन करें. इस के लिए आप को अपनी रूटीन लाइफ बदलनी होगी.

रात को जल्दी सोएं और सुबह जल्दी उठ कर बाहर टहलने जाएं, व्यायाम करें. अच्छी पत्रिकाएं और किताबें पढ़ें. कोई ऐसा काम करें, जिस से दूसरों का भला हो, साथ ही घर के कामकाज में भी हाथ बंटाएं.

शुरुआत में ये सब थोड़ा बोझिल लगेगा पर जल्द ही आप को अपनी जिम्मेदारियों का एहसास होने लगेगा और आप न सिर्फ घरपरिवार की चहेती बन जाएंगी, अपना कैरियर भी संवार पाएंगी.

ये भी पढ़ें-

कभी-कभी औफिस में काम करतेकरते अचानक मूड औफ हो जाता है या फिर घर में कोई नईपुरानी बात याद कर मन बेचैन हो उठता है तो आप को सतर्क हो जाना चाहिए. सतर्क तो आप को उस वक्त भी हो जाना चाहिए जब खुद आप को ऐसा लगने लगे कि आप की रूटीन जिंदगी में बेवजह का खलल पड़ने लगा है.

आप वक्त पर अपने तयशुदा काम नहीं कर पा रही हैं, भूख कम या ज्यादा लग रही है, नींद पूरी नहीं हो पा रही है, आप पति, घर बच्चों पर पहले जैसा ध्यान नहीं दे पा रही हैं, बातबात पर चिड़चिड़ाहट, गुस्से या डिप्रैशन का शिकार होने लगी हैं तो तय मानिए आप अपनी ब्रैन सैल्स को मैनेज नहीं कर पा रही हैं. यह एक ऐसी वजह है जिसे हरकोई नहीं जानता, लेकिन इस का शिकार जरूर होता है.

इन लक्षणों में से आप किसी एक का भी शिकार हैं तो  तय यह भी है कि आप की ही कुछ आदतें आप की ब्रेन सैल्स को नुकसान पहुंचा रही हैं, जिस का एहसास या अंदाजा आप को जानकारी के अभाव के चलते नहीं होता. लेकिन ये सबकुछ सामान्य है और वक्त रहते आदतें सुधार ली जाएं तो सबकुछ ठीक और आप के कंट्रोल में भी हो सकता है.

क्या हैं ब्रेन सैल्स

नुकसान चाहे जिस भी वजह से हो रहा है उसे अगर वैज्ञानिक और तकनीकी तौर पर सम झ लिया जाए तो फिर कोईर् खास मुश्किल नुकसान से बचने में पेश नहीं आती. बात जहां तक ब्रेन सैल्स को सम झने की है तो उन के बारे में इतना जानना ही काफी है कि वे हमारे शरीर का महत्त्वपूर्ण हिस्सा हैं जो हमें हर फीलिंग से न केवल परिचित कराती हैं, बल्कि उन से होशियार रहने के लिए भी सचेत करती हैं.

ये भी पढ़ें- दिमाग की दुश्मन हैं ये आदतें

Tags:
COMMENT