वसु शादी के बाद से ही दिनेश को अपने इशारे पर नचाने की कोशिश करती रही. दिनेश कई बार तो उस की बात मान जाते तो कई बार इनकार भी कर देते. ऐसा होने पर दोनों में खूब झगड़ा होता. वसु ने एक बार तो अलमारी नहीं खरीदने पर फिनाइल तक पी डाला.

हर पत्नी चाहती है कि उस का पति उस के इशारों पर नाचता रहे, लेकिन पति के दिल के करीब पहुंचने के लिए यह भी जरूरी है कि पत्नी उन की पसंदनापसंद को भी जाने. यदि वह उन पहलुओं पर भी गौर करे कि पति किन बातों से चिढ़ते और नफरत करते हैं, तो पत के दिल पर राज करने का रास्ता आसान हो जाएगा. मैरिज काउंसलर एन.के. सूद क मुताबिक पतिपत्नी में हमेशा प्यार और अपनापन बना रहे इस के लिए जरूरी है इन बातों पर ध्यान देना:

जब आजादी न मिले

पति हर वक्त पत्नी के पल्लू से बंध कर रहना पसंद नहीं करते, लेकिन कई जगह ऐसा करने के लिए उन्हें बाध्य किया जाता है. आर.के. पुरम में रहने वाली रूमा यही चाहती है कि राकेश हर समय उस के पल्लू से बंध कर रहें. वह खुद औफिस जाती है, लेकिन रिटायर्ड पति से चाहती है कि जब वह औफिस के लिए जाए तो राकेश दरवाजा बंद करें और जब वह औफिस से वापस आए तो राकेश उस के लिए दरवाजा खोलें.

राकेश पारिवारिक जिम्मेदारी निभाने के लिए ऐसा करते हैं लेकिन कभीकभी वे चंद घंटों के लिए घर से निकल ही जाते हैं. इतना ही नहीं, राकेश का कहना है कि वे दोस्तों के साथ मौजमस्ती करने की आजादी चाहते हैं, इसलिए अकसर वे जयपुर चले जाते हैं जहां कुछ दिन रह कर हर तरह के मौजमस्ती का आनंद लेते हैं.

औफिस से जरा देर से लौटते ही प्रश्नों की बौछार करना, छुट्टी वाले दिन पूरे समय घर में बैठे रहने की जिद करना पुरुष के नफरत का ही कारण बनता है. पुरुष भी कुछ समय अपनी इच्छानुसार  बिताना चाहते हैं. उस पर भी पत्नी का हावी रहना उन को नागवार गुजरता है. वे कुछ कह तो नहीं पाते, लेकिन खुद को ठगा सा महसूस करते रहते हैं. ऐसे पति अकसर घर से बाहर दूसरे संबंध बनाते हुए नहीं झिझकते हैं.

जब मांगों की लिस्ट हो लंबी

वसु की सिर्फ इस मांग पर दिनेश ने यह किया कि उस ने अलमारी लेने के लिए मना कर दिया. वसु ने घर जा कर फिनाइल की पूरी बोतल पी ली तो डाक्टर को बुलाना पड़ा. दिनेश कई दिन तक परेशान रहे. कई पति यह कहते हैं कि उन की पत्नियां अत्याधुनिक फ्लैट, शानदार गाड़ी, फाइवस्टार होटल में पार्टी, गहने, कपड़े आदि की मांग बारबार कर के उन्हें परेशान करती रहती हैं. इस के लिए पति पर ज्यादा कमाई के लिए दबाव डालना या दूसरों से उस की तुलना करते रहना उस को अकसर चिड़चिड़ा बना देता है.

जब पत्नी कनफ्यूज करे

मनोवैज्ञानिक डा. प्रकाश का कहना है कि बहुत बार पत्नियां जो कहती हैं, वह उन की बौडी लैंग्वेज के ठीक विपरीत होता है यानी जबान पर कुछ और दिल में कुछ और होता है. वे चाहती हैं कि उन के दिल की बात को समझा जाए. लेकिन पत्नी द्वारा कही गई बात एवं उन के हावभाव में तालमेल न होने से पति अकसर असमंजस की स्थिति में हो जाते हैं. यहीं से समस्या खड़ी होनी शुरू होती है. पत्नी के ऐसे व्यवहार से पति नफरत करते हैं.

जब बातबात पर निकलें आंसू

डा. प्रकाश की मानें तो पत्नियों का किसी भी बात को ले कर हर समय रोना पति को उकता देता है. अकसर पत्नियां पति का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए छोटीछोटी चालों का सहारा लेने लगती हैं. लेकिन जरा सी बात का बतंगड़ बना कर जल्दी ही परेशान हो कर रोने लग जाना पति को पसंद नहीं होता है.

जब पत्नी रहे अस्तव्यस्त

डा. दिनेश के मुताबिक अकसर देखा जाता है कि शादी के कुछ समय बाद ही महिलाएं अपनी वेशभूषा के प्रति लापरवाह हो जाती हैं. गुडि़या सी दिखने वाली महिला की मुसकराहट कहीं गायब हो जाए और पूरे दिन मैक्सी पहने और छोटा सा जूड़ा बनाए घूमती रहे, तो पति को कोफ्त होना लाजिम है. घर के कामकाज का रोना रोते हुए अस्तव्यस्त कपड़ों और बिखरे बालों वाली महिला को पुरुष पसंद नहीं करते हैं.

जब सैक्स बने हथियार

सैक्स सुखी वैवाहिक जीवन का अहम पहलू है. महिलाएं सैक्स को हथियार की तरह इस्तेमाल करती हैं. मनमुटाव या अपनी मांग पूरी करवाने के लिए सैक्स को हथियार की तरह इस्तेमाल करना पुरुष पसंद नहीं करते. सैक्स के मामले में पत्नी का उत्साहित न होना, हमेशा बेरुखी से पेश आना या बिस्तर पर ठंडा होना भी पति पसंद नहीं करते हैं. सैक्स के प्रति खुलापन ही पति बिस्तर पर पसंद करते हैं.

Tags:
COMMENT