स्नेहा मेरी बचपन की सहेली और हमराज है. आज वह पूना में है और मैं दिल्ली में. विवाह से पहले हम एक दिन भी एकदूसरे से मिले बिना नहीं रह पाते थे. अब एकदूसरे को देखे 16 साल बीत गए हैं. उस से मिलने की इच्छा हो रही थी. गरमियों की छुट्टियों में मुंबई गई तो स्वयं को रोक न पाई. अगले दिन पूना के लिए रवाना हो गई. साथ में 14 वर्षीय बेटा और पति भी थे. स्टेशन पर वह भी सपरिवार आई हुई थी. हम आपस में ऐसे मिले कि एकदूसरे को छोड़ने का मन ही नहीं

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
COMMENT