राहुल गांधी का रेप इन इंडिया रिमार्क भारतीय जनता पार्टी को ज्यादा ही खला. गनीमत है कि उस के मंत्रियों, संतरियों ने चौकीदार चोर है के कटाक्ष के दौरान किए मैं हूं चौकीदार की तर्ज पर मैं हूं रेपिस्ट लिखना शुरू नहीं किया जबकि इस पर सोचा जरूर गया होगा. जिस तरह देश में रेप की खबरें फैली हुई हैं उस से लगता तो यही है कि अचानक यह नई महामारी डेंगू या एड्स की तरह की है जो हाल ही में  पनपी है.

सच तो यह है कि बलात्कार हमेशा ही हमारे देश में औरतों पर अत्याचार का जरीया रहा है. यह उन्हें गुलाम बनाए रखने की साजिश है ताकि पुरुषों को हर समय सेवा करने वाली हाड़मांस की मशीनें मिलती रहें. बलात्कार की शिकार को समाज ने बलात्कार करने वालों से ज्यादा गुनहगार माना और ये शिकार हमेशा के लिए समाज में मुंह छिपाने वाली हैसीयत बन कर अपने पापों का बो झ जीवनभर ढोतीं और इन पर वही बलशाली पुरुष राज करते, जिन्होंने असल मर्यादा को नष्ट करा.

ये भी पढ़ें- पशुओं के प्रति क्रूरता और मानव स्वभाव

हमारे यहां कानूनों को सख्त करने की बात चल रही है, जल्दी फैसला करने की मांग उठ रही है, बिना सुबूतों के किसी को भी बलात्कारी मान कर गोलियों से

उड़ा देने पर तालियां पिट रही हैं. ये सब ठीक है पर कोई यह नहीं कह रहा कि बलात्कारी के घर का हुक्कापानी बंद कर दिया जाए. बलात्कार की चेष्टा करने वाले पुरुष मर्द कहलाए जाते हैं. पत्नियां उन पुरुषों को छोड़ कर नहीं जातीं जिन पर बलात्कार का शक हो. बलात्कारी गैंग की तरह काम करते हैं यानी उन के दोस्तों और उन की सामाजिक स्थिति में कोई फर्क नहीं पड़ रहा.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT