‘हाय प्रिया”

अजनबी नंबर से आए कौल पर किसी अपरिचित द्वारा अपना नाम लिए जाने पर वह थोड़ी चौकी जरूर थी फिर सोचा कि शायद कोई हो जो जानता हो मुझे. उस ने सवाल किया, “आप कौन?”

“आप के चाहने वाले और कौन?”

सामने वाले की आवाज में शरारत भरी खनक थी. न चाहते हुए भी वह बरबस बोल पड़ी,” चाहने वाले का कुछ नाम तो होगा.”

“जो नाम चाहे वह रख लीजिए. आप के नर्म, गुलाबी होठों पर हर नाम खूबसूरत लगेगा. ”

प्रिया ने उस की लच्छेदार बातों पर विराम लगाते हुए जल्दी से यह कहते हुए फ़ोन काट दिया कि मैं अजनबियों से बात नहीं करती.

पर यह क्या आधे घंटे के अंदर दोबारा उसी नंबर से फोन देख कर पिया थोड़ी असहज हो गई. फोन उठाती हुई कठोर स्वर में बोली, “हू  इज दिस ,डिस्टर्ब क्यों कर रहे हो?”

ये भी पढ़ें- शिकारी आएगा जाल बिछाएगा  

“मैं तो दोस्ती कर रहा हूं.”

“पर मैं अजनबियों से दोस्ती नहीं करती.”

“अजनबी कहां अभी तो बात हुई थी आप से. जहां तक नाम की बात है तो लोग मुझे राज बुलाते हैं. यदि पहचान की बात है तो आप के ही किसी दोस्त से नंबर मिला है मुझे.”

“अच्छा बोलो क्या कहना चाहते हो?”

“बस यही कि आप की निगाहें दिल में खंजर जैसी घुस जाती है. कसम से आप सामने होती तो……. ”

“तो क्या ….. ”

इस के बाद थोड़ी मस्ती भरी ,थोड़ी नोकझोंक भरी, थोड़ी रोमांटिक और थोड़ी अश्लील बातों का दौर चल पड़ा. शुरुआत में नेहा को किसी अजनबी से यों बातें करने में संकोच लगा मगर उस के बिंदास अंदाज ने वह संकोच भी दूर कर दिया. अब तो नेहा को भी मजा आने लगा. वह युवक धीरेधीरे अश्लील बातों पर उतर आया.  एकदो बार नेहा ने डांटा मगर फिर बेपरवाह हो गई. अब तो दोनों मिलने भी लगे. फिर एक दिन नेहा को अपने घर पर बुला कर उस युवक ने दोस्तों के साथ मिल कर उस के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया.

इस तरह की घटनाएं अक्सर लड़कियों और महिलाओं के साथ होती हैं. कई बार विवाहित महिलाओ को भी ऐसे फेक कॉल्स करने वाले से बातें करने की लत लग जाती है जो आगे जा कर बड़ी परेशानी की वजह बनती है.

हाल ही में द्वारका सेक्टर-7 में रिटायर्ड विंग कमांडर की पत्नी मीनू जैन (52 ) की गत 25 अप्रैल को की गई हत्या और लूट के पीछे एक ऐसे अनजान शख्स दिनेश दीक्षित का हाथ माना जा रहा है जिस ने पहले तो मीनू जैन को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी. फिर दोस्ती करने के बाद उस के घर में घुस कर उस की हत्या कर दी और करीब 50 लाख के गहने और कैश ले कर गायब हो गया.

पुलिस के मुताबिक़ मोबाइल के डेटिंग ऐप के जरिए शादीशुदा महिलाओं से दोस्ती करने में उसे खास दिलचस्पी थी. वह फ़ोन पर अश्लील फोटो और मैसेज भेज कर उन्हें अपने जाल में फंसाने का प्रयास करता. इसी क्रम में उस ने मीनू को अपना शिकार बनाया था.

इसी तरह दिल्ली की 44 वर्षीया, 2 बेटों की मां सुधा स्वीकारती हैं कि वह भी एक ऐसे ही फेक फ़ोन कौल करने वाले की गिरफ्त में आ कर अपना सुखचैन और साथ में डेढ़ लाख रूपए गंवा चुकी हैं.

वह बताती हैं कि एक बार वह किसी रोंग नंबर से बात करने लगीं और बात करतेकरते उस के प्यार में पड़ गईं. उन के बीच यह रिश्ता काफी लम्बे समय तक चला. एक दिन मोबाइल पर बहुत घबराए आवाज में उस युवक ने नेहा से कहा कि उस की बहन का एक्सीडेंट हो गया है और तुरंत ऑपरेशन की जरुरत है. डॉक्टर ढाई लाख रूपए मांग रहे हैं. मगर इतनी जल्दी में वह डेढ़ लाख ही इंतजाम कर पाया है सो हो सके तो 1 लाख की हेल्प कर दे. सुधा उस से इमोशनली इतनी ज्यादा जुड़ चुकी थी की वह इंकार नहीं कर पाई और 1 लाख रूपए उस के अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए. इसी तरह झांसा दे कर उस युवक ने सुधा से 50 हजार और निकलवा लिए. उस युवक की वजह से सुधा की अपने पति के साथ भी विवाद गहरे होने लगे. बाद में रूपए और सुखचैन गवाने के बाद सुधा को अहसास हुआ कि वह तो बुरी तरह ठगी गई है. युवक काम निकलने के बाद उस की दुनिया से गायब भी हो चुका था

इसी तरह अनजान शख्स कभीकभी महिलाओ को बदनाम करने का प्रयास भी करते है. लड़की या महिला द्वारा विरोध करने पर उसे मार डालने की धमकियाँ दी जाती हैं. जरा इन घटनाओं पर गौर करें;

अप्रैल 12, 2019

महरौली : एक राजनीतिक पार्टी से जुड़ा शख्स पवन (25 ) अपनी ही पार्टी की महिला कार्यकर्ताओं से सोशल मीडिया पर दोस्ती करता. उन को अश्लील मेसेज और विडियो भेजता, गंदीगंदी बातें करता, खुद की भी अश्लील फोटो भेजता. महिलाएं विरोध करतीं तो हाथ में चाकू लिए फोटो भेज कर उन्हें और परिवार को जान से मारने की धमकी देता. सोशल मीडिया पर बारबार अपनी आईडी बदलता ताकि पकड़ में न आ सके. महरौली थाने की पुलिस ने उसे ट्रैक कर बुधवार को गिरफ्तार कर लिया. आरोपी को कोर्ट ने जुडिशल कस्टडी में भेज दिया है.

मार्च 10, 2018

रांची की एक अदाकारा जो फिल्म एमएस धौनी: द अनटोल्ड स्टोरी में काम कर चुकी है, की फेक फेसबुक आईडी बना कर और उस से अश्लील मैसेज व फोटो भेज कर, दुरुपयोग किया गया. अदाकारा ने  इस संबंध में पुलिस में शिकायत की.

ये भी पढ़ें- यह तो होना ही था

फेक फेसबुक आईडी बनाने वाला यह शख्स फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर महिलाओं को बदनाम करने की धमकी देता है. उन्हें कहता है कि तुम्हें पूरी तरह से बदनाम कर दूंगा.

अप्रैल 1 ,2019

उज्जैन के शिवाजी कॉलोनी में रहने वाली २३ वर्षीया युवती को एक अनजान शख्स द्वारा लगातार अश्लील मैसेज और फोटो पोस्ट किये जाने का मामला सामने आया. युवती ने उस का नंबर ब्लॉक कर दिया तो वह दूसरे नंबर से वही काम करने लगा. युवती द्वारा विरोध किये जाने पर उस पर तेज़ाब फेंकने की धमकी दे डाली. इस के बाद युवती ने थाने जा कर शिकायत दर्ज कराई.

दरअसल आजकल तकनीकी विकास और मोबाइल के बढ़ते प्रयोग ने जहाँ जिंदगी आसान बनाई है वहीँ लोगों की निजी जिंदगी में घुसपैठ करना भी आसान हो गया है. अब कोई भी ऐरागैरा आप के जीवन में ताकझांक कर सकता है और आप को परेशान भी कर सकता है. खास कर महिलाएं और लड़कियां आवारा लड़कों के निशाने पर होती हैं. जो उन्हें अक्सर अश्लील मेसेजेस ,फोटोज और फेक कॉल्स से परेशां करते हैं.

हाल ही में (अप्रैल 17, 2019) मोबाइल एप ट्रूकौलर द्वारा 2,150 महिलाओं पर करवाए गए एक सर्वे में यह बात सामने आई है कि देश में मोबाइल का इस्तेमाल करने वाली 3 में से 1 महिला को नियमित रूप से अश्लील फोन या मैसेज आते है. जिन में 11% लोग उन की जानपहचान वाले होते हैं. हालांकि ये मामले 2017 के मुकाबले 2018 में कुछ कम हुए हैं.

महिलाओं पर प्रभाव

इस तरह मोबाइल पर भेजे जाने वाले अश्लील मेसेजेस और फोटोज के कारण महिलाओं को मानसिक उत्पीड़न का शिकार होना पड़ता है. उन के मानसिक स्वास्थ्य पर भी इस का बुरा असर पड़ता है. करीब पांच में से चार महिलाओं ने कहा कि इस तरह के कॉल्स के कारण उन्हें क्रोध और चिड़चिड़ाहट महसूस हुई जब कि तीन में से एक महिला ने इन की वजह से डर और चिंता के भाव महसूस किये.

क्या करती हैं महिलाएं

62% महिलाएं उस अनजान कौलर को सर्च करने की कोशिश करती हैं. 16% महिलाएं सोशल मीडिया पर इस का जिक्र करती हैं, स्क्रीन शॉट और नंबर शेयर करती हैं. 1% अपने परिवार के किसी पुरुष सदस्य या दोस्त को कौल रिसीव करने को कहती हैं. 11% अपना नंबर बदल देती हैं. 32% ऐसे कौल को नजरअंदाज करती हैं. वहीं 92% महिलाएं सीधे नंबर ब्लॉक कर देती हैं.

कितनी बार आते हैं ऐसे कौल्स

सर्वे में शामिल की गई महिलाओं में से करीब 50 प्रतिशत महिलाओं को अश्लील और सेक्सुअल कन्टेन्ट से जुड़े कौल  सप्ताह में एक बार आए वहीं 9 प्रतिशत महिलाओं ने माना कि उन्हें ऐसे कॉल्स का सामना रोज करना पड़ता है.

कौन भेजता है महिलाओं को इस तरह के मैसेज या कौल

सर्वे के मुताबिक महिलाओं को अश्लील कौल या मैसेज करने वालों में 74% अनजान कौलर होते हैं. 23% स्टौकर होते हैं, वहीं 11% लोग महिला की पहचान वाले होते हैं. सर्वे में शामिल हुईं 53 प्रतिशत से ज्यादा महिलाओं ने माना कि उन्हें जालसाजी व ठगी से जुड़े कौल किए गए.

फोन पर उत्पीड़न में दिल्ली टौप पर

दिल्ली में 28% महिलाओं को हर सप्ताह यौन उत्पीड़न से जुड़े कौल या मैसेज आते हैं. जो बाकि किसी भी राज्य की तुलना में सब से ज्यादा है. इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन औफ इंडिया की तरफ से जारी रिपोर्ट ‘इंटरनेट इंन इंडिया 2017’ के मुताबिक देश में 50 करोड़ इंटरनेट यूजर्स हैं जिन में 30% यानी 14.3 करोड़ महिलाएं हैं. देश में इंटरनेट का सब से अधिक इस्तेमाल यंगस्टर्स और स्टूडेंटस करते हैं. गांवों में 100 इंटरनेट यूजर्स में 36 महिलाएं ही इंटरनेट का इस्तेमाल करती हैं. एनसीआरबी के मुताबिक 2016 में देश में महिलाओं के खिलाफ साइबर क्राइम के 930 मामले दर्ज किए गए थे.

ये भी पढ़ें- यह अच्छा निर्णय है  

क्या करें

  1. दोस्ती करें सोच समझ कर — किसी ने आप को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी और आप ने तुरंत स्वीकार कर लिया इस टेंडेंसी को छोड़ दें. दोस्ती हमेशा सोचसमझ कर करें. अनजान लोगों की रिक्वेस्ट को इग्नोर करें या डिलीट मार दें. यदि कोई पुराण दोस्त जानबूझ कर आप को परेशान कर रहा है तो पहले उसे समझाने का प्रयास करें कि आप को यह सब पसंद नहीं. मगर यदि वह न माने तो उसे तुरंत ब्लॉक कर दें. किसी को भी इतनी ढील न दें कि वह आप को परेशान कर सके.
  2. झांसे में न आएं

कभी भी अश्लील मैसेज और फेक कौल्स करने वाले व्यक्ति के झांसे में न आएं. यदि किसी वजह से आप ने उस से दोस्ती कर ली है तो भी कभी उस के बुलाने पर अकेली, सुनसान जगह या अकेले उस के घर पर मिलने न जाएं. मिलना ही है तो मॉल या मेट्रो स्टेशन जैसी खुली जगहों पर मिलें. उसे अपनी निजी बातें न बताएं और कभी भी ऐसी निजी तस्वीरें शेयर न करें जिन का वह गलत इस्तेमाल कर सके.

  1. कानून का सहारा लें

फोन पर बिना मर्जी दोस्ती के लिए कहना भी अपराध है. महिलाओं के साथ होने वाले इस तरह के छेड़छाड़ या उत्पीड़न के मामलों में सामान्यतः आरोपी के खिलाफ धारा 354 के तहत मुकदमा दर्ज किया जाता है. महिलाओं को फोन या सोशल मीडिया पर उन की इच्छा के बिना दोस्ती के लिए कहना उत्पीड़न का मामला है. इस तरह किसी की निजता में दखल देना अपराध माना जाता है. बारबार टैक्स्ट मैसेज भेजना, मिस्ड कौल करना, फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजना, महिला के स्टेटस अपडेट पर नजर रखना और सोशल मीडिया पर उस के पीछे लगे रहना आईपीसी की धारा 354 डी के तहत दंडनीय अपराध है.

पुलिस में शिकायत करें

महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा के लिए पुलिस ने अब इस तरह के मामलों में साइबर क्राइम के तहत मामला दर्ज करना शुरू कर दिया है. पहले फोन पर मैसेज करने या अश्लील फोटो भेजने पर पुलिस रिपोर्ट तो दर्ज कर लेती थी लेकिन ऐसे मामलों में कार्रवाई करना मुश्किल होता था. क्यों कि ज्यादातर लड़के फेक आईडी पर सिम कार्ड ले कर इस तरह की हरकत करते हैं. ऐसे में कई बार उन्हें सबक सिखाने के लिए आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर मामले की जांच की जिम्मेदारी क्राइम ब्रांच को सौंप दी जाती है  ताकि क्राइम ब्रांच सर्विलांस की मदद से आरोपी पर कार्रवाई कर सके.

ये भी पढ़ें- मेरी देह मेरा अधिकार

Tags:
COMMENT