बंदिनी समान जीवन जीना और फिर मृत्यु को गले लगाना ही रेखा की नियति बन गई थी. पर जिस रिहाई की कीमत रेखा ने चुकाई थी, क्या वह उसे कभी मिल पाई?
अनलिमिटेड कहानियां आर्टिकल पढ़ने के लिए आज ही सब्सक्राइब करेंSubscribe Now