लेखक- जीतेंद्र मोहन भटनागर

राघव एकदम से उछल कर बैठ गया जैसे प्रसन्नता का कोई करंट उसे लग गया हो लेकिन तुरंत ही कुछ सोच कर उस के चेहरे पर उदासी छा गई और मेरी बगल में धीरे से फिर लेटते हुए बोला, ‘‘लेकिन पैरों के बारे जान कर वे शायद ही राजी हों?’’

राघव ने यह कहा तो मैं ने सारी परिस्थितियों पर विचार करते हुए कहा, ‘‘राघव, कल तुम बस, इतना करो कि शोभा के जितने भी फोटो तुम्हारे मोबाइल में हैं उन्हें किसी बहाने भाईसाहब को दिखाओ. बाकी सब मुझ पर छोड़ दो.’’

राघव किसी सोच में डूब गया. उसे सोच में डूबा देख कर मैं ने उठ कर कमरेदरवाजे की सांकल को चैक किया. वे बंद थीं. फिर कमरे की सारी बत्तियां बुझा कर राघव की आगोश में आ कर लेट गई. राघव ने मुझे चूमना शुरू कर दिया.

सवेरे मेरी आंख जल्दी ही खुल गई थी. सास ने कहा था कि कल जल्दी उठ जाना क्योंकि लेडीज संगीत में महल्ले की सभी आमंत्रित महिलाएं आएंगी तो घर थोड़ा व्यवस्थित और सजासंवरा दिखना चाहिए.

इसलिए मैं राघव को सोता छोड़ कर नहाईधोई, फिर तैयार हो कर नीचे पहुंच गई. जेठजी के कमरे का दरवाजा बंद था. मैं ने अनुमान लगा लिया कि वे अभी उठे नहीं थे.

ये भी पढ़ें- विस्मृत होता अतीत: शादी से पहले क्या हुआ था विभा के साथ

दीदी के साथ मिल कर घर को खूब सुसज्जित कर के जब खाली हुई तो सास ने अपने कमरे में ले जा कर मुझे एक बहुत ही सुंदर जौर्जेट की साड़ी ब्लाउज पेटीकोट के साथ देते हुए कहा, ‘‘लेडीज संगीत में तुम्हें यह नई साड़ी ही पहन कर बैठना है. ब्लाउज मैं ने तुम्हारे पुराने नाप से थोड़ा बीस सिलवा लिया था. मुझे उम्मीद है ठीक आएगा.’’

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT