बरात विदा होने के दूसरे दिन जया का वापस जाने का प्रोग्राम था, परंतु लता ने मम्मीजी को फोन कर के जया को कुछ दिन रोकने का आग्रह किया तो मम्मीजी मान गई. दो दिन में सब मेहमान विदा हो गए.

अब जया को सुधीर के कटाक्ष रहरह कर याद आने लगे थे और उन्हें सीख देने

की उस की बेचैनी बढ़ती जा रही थी. लता के साथ जया ने कनाट प्लेस जा कर जींस, ट्राउजर, लो कट टौप, कमीज आदि खरीदे. सैलून में जा कर फेशियल कराया और बाल सेट कराए.

लता ने उसे बताया कि जींसटौप पहन कर जया खूब सुंदर व मौडर्न लग रही थी. शाम को लता के साथ जया क्लब गई. क्लब में जब स्त्रीपुरुष एकदूसरे के गले में बांहें डाल कर उन्मुक्त डांस करने लगे, तो कुछ लड़कों ने जया के साथ डांस करने की इच्छा प्रकट की. तब सिरदर्द होने का बहाना बना कर जया अपनी कुरसी पर बैठी रही, परंतु वह डांस करते हुए जोड़ों के हावभाव एवं पदसंचालन को भलीभांति देखती रही. जरूरत पड़ने पर वह सुधीर के सामने डांस भी कर सकने हेतु अपने को तैयार कर रही थी. यह काम लगभग प्रतिदिन चलता रहा.

पहले दिन से ही जया लता की फैमिली में घुलमिल गई थी और जल्द ही उस के भाइयों के साथ उस ने खुल कर बात करना सीख लिया था. जल्द ही आधुनिक सोशल लाइफ लीड करने को उस ने अपने को तैयार कर लिया.

लता के पति शैलेंद्र ने जया को लखनऊ वापस जाने के लिए एसी में बर्थ रिजर्व करा दी.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT