‘‘मां ये देखो गोवा के टिकट, अगले हफ्ते हम सब गोवा जा रहे हैं,’’ सूरज मेरे कमरे में आते ही खुशी से बोला. उस के पीछेपीछे मेरी बहू रीता और पोता मयंक भी मेरे कमरे में आ गए.

‘‘दादी पता है वह बहुत बड़ा समंदर है. हमारी टीचर ने बताया था... कितना मजा आएगा न?’’ कहते हुए मयंक ने मुझे खुशी से गले लगा लिया. मेरी बहू ने हंसते हुए कहा, ‘‘मां, इस बार मैं आप की एक नहीं सुनूंगी. आप को भी गोवा में जींस पहननी होगी.’’

‘‘चल पगली, मैं और जींस... दुनिया देखेगी तो हंसेगी मुझ पर,’’ मैं ने झूठा गुस्सा दिखाते हुए कहा.

‘‘मां इस बार आप को रीता की बात माननी ही होगी,’’ सूरज ने मेरी गोद में सिर रख कर कहा.

‘‘अच्छाअच्छा सोचूंगी, अभी चलो सब सो जाओ बहुत रात हो गई है.’’ सब के अपने कमरों में जाने के बाद मैं खुशी के मारे सो ही नहीं पाई. मैं ने कभी समंदर नहीं देखा था. अगले हफ्ते समंदर के किनारे बैठी होऊंगी, सोचसोच कर मन नाच रहा था. फिर यह भी सोचा कि कल सत्संग में जा कर सब को बताऊंगी कि मैं गोवा जा रही हूं. सुबह रीता मयंक के स्कूल जाने के बाद मुझे सत्संग के लिए छोड़ कर औफिस चली गई. मुझे अपनी सहेलियों को गोवा जाने की बात बताने की बहुत जल्दी थी. सत्संग का तो बहाना होता है. यहां आने वाली सब औरतें आमतौर पर घर की बातचीत कर के ही वक्त बिताती हैं. मयंक ने जब से स्कूल जाना शुरू किया है मैं भी वक्त गुजारने के लिए कभीकभी यहां आ जाती हूं. सत्संग शुरू हो चुका था. मैं ने धीरे से अपने पास बैठी शीला से कहा, ‘‘सुन, अगले हफ्ते सत्संग में नहीं आ पाऊंगी. मैं अपने बेटेबहू के साथ गोवा जा रही हूं.’’

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT