पिछला भाग पढ़ने के लिए- मौन प्रेम: भाग-1

तभी एक लड़का मोटरसाइकिल को स्लो कर मेरे पास आ कर बोला, ‘‘उठा परदा, दिखा जलवा.’’

मैं ने जल्दी से साड़ी नीचे कर ली, पर मेरा पैर फिसल पड़ा और गिरने लगी. मगर इस के पहले कि मैं सड़क पर गिरती पीछे से किसी के हाथों ने मुझे संभाल लिया वरना मैं पूरी तरह कीचड़ से सन जाती. जब मैं पूरी तरह सहज हुई तो देखा वे हाथ प्रसून के थे.

इसी बीच मोटरसाइकिल वाले लड़के की बाइक कुछ दूर आगे जा कर स्लिप हुई और वह गिर पड़ा. उस के कपड़ों और चेहरे पर कीचड़ पुता था.

प्रसून ने जोर से कहा, ‘‘बुरी नजर वाले तेरा मुंह काला.’’

वह लड़का उठा और गुस्से से हमें देखने लगा. प्रसून बोला, ‘‘ऐसे क्यों घूर रहा है. वह देख तेरे सामने जो ट्रक गया है उस के पीछे यही लिखा है.’’

इस बार मैं भी खुल कर हंस पड़ी थी. फिर पूछा, ‘‘आज आप पैदल चल रहे हैं? आप के दोस्त मधुर नहीं हैं?’’

‘‘नहीं, आज वह मेरे साथ नहीं आया है.’’

मैं ने प्रसून को हिस्टरी पेपर में उस की मदद के लिए धन्यवाद दिया. वह मेरे साथसाथ चौराहे तक गया. वहां मुझे रिकशा मिल गया. प्रसून अपने घर की तरफ चल पड़ा. उस के घर का पता मुझे अभी तक मालूम नहीं था न ही मैं ने जानने की जरूरत समझी या कोशिश की.

कुछ दिनों बाद कालेज लाइब्रेरी में प्रसून मुझे मिला. मैं ने गुड मौर्निंग कह कर पूछा, ‘‘आप कैसे हैं?’’

‘‘बिलकुल ठीक नहीं हूं और तुम कैसी हो? ओह सौरी, मेरा मतलब आप कैसी हैं?’’

‘‘इट्स ओक विद तुम, पर क्या हुआ आप को?’’

‘‘यह आपआप कब तक चलेगा हमारे बीच. आप मैं औपचारिकता है, वह अपनापन नहीं जो तुम में है. अगर अब मुझ से बात करनी है तो हम दोनों को आप छोड़ कर तुम पर आना पड़ेगा… समझ गईं?’’

‘‘समझ गईं नहीं, समझ गई,’’ और फिर हम दोनों हंस पड़े.

प्रसून बड़ा हंसमुख लड़का था. किसी ने उस के चेहरे पर उदासी नहीं देखी थी. पढ़नेलिखने में भी टौप था और उतना ही स्मार्ट भी. किसी भी लड़की या लड़के से बेखौफ, बेतकल्लुफ मिल कर बातें करता, हंसनाहंसाना उस की फितरत में था. किसी की नि:स्वार्थ मदद करने को हमेशा तैयार रहता. कालेज के फंक्शंस में भी बढ़चढ़ कर हिस्सा लेता. अनेक लड़के और लड़कियां उस के प्रशंसक थे और उस से नजदीकियां बढ़ाना चाहते थे. मैं भी उस की प्रशंसा सुन प्रभावित हुई और उस की ओर आकर्षित हुई. मेरे मन में उस के लिए एक मौन प्यार जाग उठा था.

हम दोनों अब लाइब्रेरी के अतिरिक्त कभी कैंटीन तो कभी मार्केट में मिलने लगे और कभी मूवी हौल में भी. पर बीच में कोई न कोई कबाब में हड्डी जरूर बनता. कभी मधुर तो कभी कोई अन्य लड़का या फिर लड़की.

उस की ओर से कभी प्यारमुहब्बत की बातें सुनने के लिए मैं तरस रही थी, प्रोपोज

करना तो बहुत दूर की बात थी.

फाइनल ईयर तक जातेजाते मैं ने अनुभव किया कि जब कभी वह एकांत में होता फोन पर किसी लड़की से बात करता होता. यह देख मुझे ईर्ष्या होती. 2-3 दिन की छुट्टियों में वह बिना बताए लापता हो जाता. कहां जाता, किसी को नहीं बताता था.

प्रसून कुछ अन्य विषयों में भी मेरी काफी सहायता करता. मुझे उस समय तक पता नहीं था कि कालेज में कुछ मनचली लड़कियां भी हैं जो पौकेट मनी के लिए मौजमस्ती करने से बाज नहीं आतीं.

एक बार ऐसी ही एक लड़की मंजुला मुझे कौफी पिलाने के लिए एक कैफेटेरिया में ले गई. उस कैफेटेरिया के ऊपर ही एक गैस्ट हाउस था. पर कौफी पीने के बाद मेरा सिर चकराने लगा और हलकीहलकी नींद सी आने लगी. मंजुला मुझे गैस्टहाउस में एक कमरे में ले गई और मुझे एक बैड पर लिटा दिया. कुछ देर आराम करने को कह बोली, ‘‘मैं थोड़ी देर में कोई दवा ले कर आती हूं.’’

इस के बाद जब मेरी आंखें खुलीं तो मैं ने देखा कि मेरे पास प्रसून और मधुर दोनों बैठे थे. मधुर ने कहा, ‘‘तुम्हें मंजुला के बारे में पता नहीं था? तुम उस के साथ कालेज से बाहर क्यों गई थीं?’’

‘‘मैं बस उसे कालेज का स्टूडैंट समझती थी और 2 पीरियड फ्री थे तो थोड़ी देर के लिए कौफी पीने चली गई उस के साथ.’’

‘‘अपने कालेज की कैंटीन में भी कौफी मिलती है या नहीं? फिर बाहर जाने का क्या मतलब था?’’

ये भी पढ़ें- आज दिन चढ़या तेरे रंग वरगा: भाग-5

‘‘मंजुला बोली कि कैंटीन में तो रोज ही पीते हैं. आज कौफी टाइम है, बाहर चल कर पीते हैं.’’

‘‘और तुम भोली बच्ची की तरह उस के पीछेपीछे चल दी. बेवकूफ लड़की,’’ उस ने डांटते हुए कहा.

प्रसून ने बीच में रोक कर कहा, ‘‘तुम भावना को क्यों इतना डांट रहे हो? उसे जब मंजुला के बारे कुछ पता नहीं है तो उस की क्या गलती है?’’

‘‘पर मंजुला के बारे में तुम लोग क्या कहना चाहते हो?’’

मधुर बोला, ‘‘मंजुला मौजमस्ती और पौकेटमनी के लिए खुद तो अपना चरित्र खो चुकी है और अब दूसरी लड़कियों के लिए दलाली करने लगी है. प्रसून उस कैफे की तरफ से गुजर रहा था और उस ने तुम्हें मंजुला के साथ अंदर जाते देखा तो उस ने तुरंत फोन कर मुझे भी यहां आने को कहा और स्वयं तुम्हें खोजते हुए ऊपर गैस्टहाउस तक पहुंचा. अगर थोड़ी भी देर होती तो तुम्हारी इज्जत मिट्टी में मिल गई होती.’’

‘‘उफ, मैं तो अपने कालेज की लड़कियों के बारे में ऐसा सोच भी नहीं सकती थी. तुम लोगों ने पुलिस में सूचना दी है?’’ मैं ने पूछा.

‘‘मैं तो देने जा रहा था, पर प्रसून ने मना किया, क्योंकि फिर तुम्हें बारबार पुलिस थाने और कोर्ट जाना पड़ता गवाही के लिए. फिर तुम जान सकती हो कि कुछ दिनों के लिए शहर में तुम ब्रेकिंग न्यूज का विषय रहती.’’

‘‘तो क्या मंजुला और उस बदमाश लड़के को यों ही छोड़ दिया जाए?’’

‘‘उस लड़के की अच्छी पिटाई की गई है. पता नहीं अच्छा किया या बुरा, पर 2-4 चांटे मैं ने मंजुला को भी जड़ दिए. प्रिंसिपल से उस की शिकायत कर दी है. शायद वह रैस्टीकेट हो जाए. वह लड़का तो अपने कालेज का नहीं था,’’ मधुर बोला.

‘‘पर मुझे तुम लोग यहां क्यों लाए हो? यह किस का घर है?’’

‘‘यह प्रसून का कमरा है. इस छोटे से कमरे में वह किराए पर रहता है. इस के बारे में बाद में बात करेंगे. अब तुम देर नहीं करो, शाम होने को है. तुम्हें घर छोड़ देते हैं.’’

ये भी पढ़ें- चुभन: भाग-3

मैं कृतज्ञतापूर्ण नजरों से प्रसून को देख कर बोली, ‘‘तुम मेरे लिए आज मसीहा बन कर आए मैं तुम्हारे उपकार का बदला नहीं चुका पाऊंगी प्रसून,’’ बोल कर मैं उस का हाथ पकड़ कर रो पड़ी.

उन दोनों की मदद से मैं सहीसलामत घर लौट आई. उस दिन मेरे मन में प्रसून के लिए बहुत प्यार उमड़ आया पर प्रसून के बरताव से मैं नहीं समझ पा रही थी कि मेरे लिए उस के मन में क्या है.

आगे पढ़ें- मैं ने बीए कर लिया और प्रसून पीसीएस में कंपीट कर…

Tags:
COMMENT