लेखक- राजेश गुप्ता

वैसे तो सिंगापुर के बाजार,  सैंटोसा आइलैंड्स, नाइट सफारी, भव्य मौल, पर्यटन पौइंट आदि के बारे में बहुत कुछ लिखा जाता है पर डाउनटाउन ईस्ट अछूता सा है. किसी जमाने में सिंगापुर के कर्मचारियों के लिए बनाया गया क्लब अब पूरी तरह एक रिजौर्ट बन गया है जिसमें वाटर गेम हैं, खाने-पीने की कईं सुविधाएं हैं, मनमोहक वातावरण है और सिंगापुर का स्ट्रिक्ट अनुशासन भी नहीं है.

अपने आप में एक स्वतंत्र छोटा सा शहर आप को कहीं और जाने की जरूरत ही नहीं देता. इसके बीच से न सड़कें गुजरती हैं न ट्रैफिक का शोर है. रहने की कई लेवल की सुविधाएं हैं और भारतीय पर्यटकों के लिए देशी खाना भी आसानी से मिल जाता है.

यह भी पढ़ें- गरमी में नेचर का लेना है मजा, तो केरल है बेस्ट औप्शन

कई सौ एकड़ में फैला नदी किनारे हरा-भरा डाउनटाउन ईस्ट मेन सिंगापुर से अलग लगता है. यह छंगी एअरपोर्ट से बहुत ज्यादा दूर नहीं है और रहने की सुविधाएं सस्ती हैं. एक बार इस में आकर कोई भी पर्यटक अपने 2-3 दिन आराम से बिना बाहर निकले निकाल सकता है.

ये देखना न भूलें…

डाउनटाउन ईस्ट का मुख्य आकर्षण उस का वाइल्डवाइल्ड वैट वाटर पार्क है जिस में ट्यूब से निकलने वाला वोर्टेक्स है, पानी में खासी ऊंचाई से फिसलने वाले ब्रोकन रेसर्स है. वोर्टेक्स की ऊंचाई 18.5 मीटर तक है और स्लाइड 134 मीटर की है जिस में फिलसते हुए स्पीड 600 मीटर प्रति मिनट तक हो जाती है. आप का वजन थोड़ा ज्यादा हो तो चिंता न करें, 136 किलोग्राम तक के पर्यटकों को अनुमति है. ब्रोकन रेसर्स 13 मीटर के हैं और स्लाइड 91 मीटर की है. वाटर पार्क में रौयन फ्लश भी है जिस में चक्कर लेते पानी में नया थ्रिल पैदा होता है. यह भी 16 मीटर ऊंचा है. फ्री फाल एकदम सीधा पानी के साथ हिम्मती को बहा कर लाता है और 55 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से एक बड़े पौंड में पटक देता है. अगर इन थोड़े डरावने वाटर गेम्स से बच्चों को डर लगे तो उन के लिए किड्स जोन, वैट एंड वाइल्ड फौउंटेन, स्प्लैश प्ले भी हैं. आराम करने के लिए टैंट टाइप कबाना भी मिल जाते हैं.

विदेश में बढि़या देशी खाना और शौपिंग भी करें ट्राई

डाउनटाउन ईस्ट में खाने के 50 से ज्यादा रेस्ट्रां पगपग पर मौजूद हैं. कुछ में बढि़या देशी खाना भी है. शौंपिग का शौक है तो सस्ता टिकाऊ सामान भरपूर है. एक से एक दुकान में कपड़े, घरेलू सामान, ज्वैलरी, जूते, चश्मे हैं. ब्यूटी ट्रीटमैंट भी कराया जा सकता है. चीयर्स कनवीनीऐंस स्टोर है जो 24 घंटे खुला रहता है. लौंड्री लौफ्ट से कपड़े धुलवा सकते हैं जो भारतीय मुद्रा वालों को तो महंगे लगेंगे पर पर्यटन में कपड़े गंदे तो होंगे ही. गैजेट मिक्स से नएनए से इलैक्ट्रौनिक गैजेट खरीदे जा सकते हैं. सिंगटेल से लोकल सिम कार्ड लिया जा सकता है. डाउनटाउन ईस्ट चाहे कभी सिंगापुर के हजारों कर्मचारियों के लिए बना शौपिंग और मनोरंजन केंद्र हो पर अब यह सिंगापुर का एक मुख्य क्षेत्र है जहां रह कर विदेशी मौजमस्ती का आनंद लिया जा सकता है.

लिटिल इंडिया

singapore-little-india

पीकौक चौक यानी मोरों वाला चौक के पास ही एक लिटिल इंडिया नाम का इलाका बसता है, जिसे सिंगापुर का सेंटर प्वाइंट भी कहा जा सकता है. यह इलाका भारतीय लोगों के लिए बहुत ही आकर्षण का केंद्र है, क्योंकि एक तो इसका नाम हमारे देश से जुड़ा हुआ है दूसरा वहां पर बहुत से भारतीय लोग रहते और काम करते हैं. वहां का वातावरण काफी हद तक भारतीय है. लिटिल इंडिया में ज्यादातर मद्रासी लोगों की दुकानें हैं. यहां पर पंजाबी खाना भी आसानी से उपलब्ध हो जाता है. इसी इलाके में एक बहुत बड़ा बहुमंजिला मौल भी है जहां बहुत सारा सामान मिलता है. इस का नाम मुस्तफा मौल है. इसकी इमारत 2-3 भागों में बंटी है. यह चौबीस घंटे और सातों दिन खुला रहता है. इस में बहुत सारे भारतीय और पाकिस्तानी लोग काम करते हैं. लिटिल इंडिया में एक आम भारतीय को हिंदी, तमिल और पंजाबी बोलने वाले लोग मिल ही जाते हैं. उन लोगों को जिन को अंगरेजी बोलनी नहीं आती, वे भी यहां आराम से अपनी बात कह और सुन सकते हैं. यहां का वातावरण काफी हद तक भारत जैसा ही है, इसलिए इसे छोटा भारत भी कहा जाता है. भारतीय लोग जोकि सिंगापुर में रहते या काम करते हैं यहां पर अकसर आम दिनों के अलावा छुट्टी यानी शनिवार और रविवार को खरीदारी करते या घूमते हुए मिल जाते हैं.

इसी इलाके में भारतीय और पाकिस्तानी लोगों के होटल भी हैं. यहां पर उन्हें अपनेअपने देश जैसा खाना मिल जाता है. इन होटलों में अकसर अंगरेज लोग भी भारतीय और पाकिस्तानी भोजन का आनंद लेते देखे जा सकते हैं. यहां पर आनंदभवन नाम का एक मद्रासी रैस्टोरैंट है. यहां पर स्वादिष्ठ मद्रासी खाना रिजनेबल प्राइस में मिलता है.

क्राइम रेट है जीरो

यहां पर जीरो क्राइम रेट है. लोग भी काफी ईमानदार हैं. व्यवसाय भी सुचारु ढंग से चलती है. सारे का सारा सिंगापुर सीसी टीवी कैमरों से युक्त है. अपहरण करने वाला यहां से बच कर नहीं जा सकता है. इसलिए भी यह देश अपराधमुक्त है. यहां पर आप को कहीं भी यह लिखा हुआ नहीं मिलेगा कि जेबकतरों से सावधान. यहां की इंटरनेट सेवा भी उत्तम स्तर की है. यहां पैदावार के नाम पर शायद ही कुछ पैदा होता हो. ज्यादातर सामान दूसरे देशों से ही मंगवाया जाता है. जैसे पानी मलयेशिया से, दूध, फल, सब्जियां न्यूजीलैंड व आस्ट्रेलिया से, दाल-चावल और रोजाना इस्तेमाल की चीजें थाईलैंड और इंडोनेशिया से आयात की जाती है.

व्यवस्थित यातायात

सिंगापुर का यातायात अंतर्राष्ट्रीय स्तर का है. सड़कें बहुत ही खूबसूरत और सुव्यवस्थित हैं. बड़ी और छोटी गाडि़यों के लिए अलगअलग लेन बनी हैं. पैदल चलने और साइकिल चलाने वालों के लिए भी अलगअलग रास्ते बने हैं. पैदल चलने वालों के लिए रास्ते में थोड़ीथोड़ी दूर पर उन के आराम करने के लिए जगहजगह शीशे के वाटरप्रूफ शैड और बड़ेबड़े वाटरप्रूफ टैंट लगे हैं जिन के नीचे वे लोग बारिश और गरमी से राहत पाने के लिए सोए या बैठे मिल जाते हैं.

बीच वेकेशन के लिए सबसे जरुरी चीज़ें ले जाना ना भूलें

पर्यटक देश होने के कारण यहां बहुत से स्थान देखने योग्य हैं. जैसे सिंगापुर शहर, सिंगापुर फ्लायर, यूनिवर्सल स्टूडियो, सी ऐक्वेरियम, सैंटोसा, बीच, मैरीनाबे, जू, नाइट सफारी, जोरांगबर्ड पार्क, केबल कार राइड, स्काई राइड, लक्यूज, स्काई टावर, गार्डन बाय द बे आदि. मूलरूप से सिंगापुर मैन मेड देश है, जिसे पर्यटन की दृष्टि से बहुत ही योजनाबद्ध ढंग से विकसित किया गया है. इन सभी स्थानों और चीजों को बहुत ही आधुनिक ढंग से डिजाइन किया गया है ताकि देखने वाले की उत्सुकता बनी रहे.

कैसे जाएं

सिंगापुर जाने के लिए हमारे पास सब से पहले पासपोर्ट होना जरूरी है. पंजाब के लोगों के लिए अमृतसर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा सब से बढि़या विकल्प है. दिल्ली से भी सिंगापुर जाने के लिए उड़ाने मिल सकती हैं. भारतीय लोगों को होटल बुक करवाने से पहले यह जरूर ध्यान कर लेना चाहिए या फिर जान लेना चाहिए कि वे लिटिल इंडिया में ही हो ताकि आप को बाजार घूमनेफिरने और खरीदारी करने में आसानी रहे.

एनिमल लवर्स इन जगहों की करें सैर, मूड हो जाएगा फ्रेश

पीकौक चौक के एक तरफ लिटिल इंडिया है, तो दूसरी तरफ बुग्गी स्ट्रीट है जोकि हमारे बाजारों जैसे ही बाजार है जहां हर तरह के सामान की दुकानें हैं. यहां दिनभर काफी भीड़ रहती है. सिंगापुर एक पर्यटन प्रधान देश है, इसलिए यहां पर आप को हर देश के पर्यटक मिल ही जाएंगे.

यहां जाना न भूलें

– मैरिलिन पार्क में पर्यटकों की बहुत भीड़ होती है. यह शहर के सैंटर में स्थित है. यह पार्क मरीना बे पर स्थित है. यहां फोटो खिंचवाने के लिए बहुत ही उपयुक्त वातावरण है. यहां पर शेर का एक बुत बना हुआ है, जिस के मुख से जल की धारा निरंतर चलती रहती है. इस बुत का सिर शेर का है और धड़ मछली का है.

हवाई यात्रा के दौरान इन चीजों से बना लें दूरी

– सैंटोसा में केबल कार राइड लोकप्रिय है. यह लोहे का एक बहुत ही बढि़या वातानुकूलित कैबिन होता है जोकि बहुत ही आधुनिक ढंग से बनाया गया है जिस में में 8 जने बैठ सकते हैं. यह माउंट फैबर से सैंटोसा तक 15 मिनट में पहुंच जाता है. यह रोप वे 1650 मीटर लंबा है. कैबिन से नीचे सारे का सारा समुद्र दिखता है साथ ही उस के आसपास के जंगल इस के चारों तरफ लगे खूबसूरत शीशों के भीतर से बाहर देखना बहुत ही अच्छा अनुभव देता है. इसे पूरी तरह से सुरक्षित बनाया गया है.

– मैडम तुसाद म्यूजियम इंबाह, सैंटोसा में स्थित है. यहां पर आप को सिंगापुर के शुरुआत से ले कर वर्तमान तक की पूर्ण कहानी एक फिल्म और फिर वहां बुतों के रूप में आवाज और रोशनी के माध्यम से दर्शायी और बताई जाती है कि कैसे एक साधारण सा देश अपनी सोच, मेहनत और साफ नीयत के कारण कहां से कहां पहुंच गया, जिस में कि हमारे भारतीयों का भी बहुत बड़ा योगदान है. इस म्यूजियम में संसार के प्रसिद्ध क्रांतिकारियों, राजनेताओं, कलाकारों, खिलाडि़यों के मोम के पुतले बनाए गए हैं.

– स्काई राइड मैडम तुसाद के बिलकुल बगल में ही है. यह एक सोफा सैटी नुमा झूला है जिस पर 4 व्यक्ति बैठ सकते हैं. यह बिलकुल खुले रूप में होता है. इस पर बैठ कर आप हवा से बातें कर सकते हैं. यह लोहे के मजबूत तारों पर चलता है. इस की सीट के आगे एक लोहे का हैंडलनुमा लौक होता है, जिस से आप की सीट को लौक भी किया जाता है और आप इस की अपनी सुरक्षा के लिए पकड़ कर बैठ भी सकते हैं. यह भी रोप वे से चलता है.

समर वेकेशन के लिए बेस्ट है दार्जिलिंग

– विंग्स औफ टाइम यानी समय के पंख, यह भी वहीं सैटोसा में ही मौजूद है जोकि समुद्र के किनारे एक लेजर प्रकाश द्वारा प्रस्तुत किया जाने वाला शो है. रोशनी का शो होने के कारण यह शाम के समय ही चलता है. यह शो सैंटोसा में ही सिलीसी बीच पर समुद्र से पानी की हवा में उछाल कर उस पर लेजर प्रकाश से एक फिल्म के रूप में प्रस्तुत किया जाता है.

– यूनिवर्सल स्टूडियो एक बहुत बड़ा यानी एशिया का दूसरा सब से बड़ा और थीम बेस पार्क है. इसे 49 एकड़ क्षेत्र में बनाया गया है. यह सैंटोसा आइलैंड में ही स्थित है. यह मनोरंजक पार्क बहुत ही बुद्धिमत्ता से बनाया गया है. इसमें 21 राइड में 6 रोलर झूले और 2 वाटर राइड हैं जोकि बहुत ही साहसिक लय पैदा करने वाली हैं.

– गार्डन बाय द बे एक प्राकृतिक पार्क है. यह सिंगापुर के मध्य मरीना बे में मौजूद है. यह अच्छा पिकनिक प्लेस भी है. यहां लोग आ कर पिकनिक मनाते हैं. यहां पर छोटे और बड़े बच्चे अपनेअपने विद्यालय की तरफ से भी पिकनिक मनाने आते हैं.

– जोरांग बर्ड पार्क के नाम से ही स्पष्ट हो जाता है कि यह पक्षियों का पार्क है. यहां कुछ पक्षी पिंजरों में, कुछ बाड़ों में, कुछ के लिए खुला स्थान तो कुछ के लिए झील जैसा वातावरण बनाया गया है. यहां हर पक्षी को उसके स्वभाव अनुसार वातावरण दिया गया है. जोरांग बर्ड पार्क एक बहुत ही बड़ा जंगलनुमा पार्क है.

– नाइट सफारी, जिस के लिए शाम तक का इंतजार करना होता है. यह यात्रा सूर्य के ढलने के साथ शुरू होती है और यह आधी रात तक चलती है. यह सिंगापुर की ही नहीं, अपितु विश्व की पहली विशेष नाइट सफारी है. इस में लगभग 120 नस्ल के 1040 जानवर मौजूद हैं. यह जंगल चार लाख स्क्वेयर मीटर में बसाया गया है. इस जंगल को सात जोन में बांटा गया है. रात को चमकते चांद और टिमटिमाते सितारों की लौ में इन जानवरों की कुदरती हरकतों को आप देख कर एक अद्भुत आनंद प्राप्त कर सकते हैं.

Tags:
COMMENT