गृहशोभा विशेष

नोएडा, गाजियाबाद, चैन्‍नई, दिल्‍ली के द्वारका में एक-एक के बाद बिल्डिंगें गिरने की घटनाएं हो रही हैं. इससे आपको सचेत होना चाहिए, खासकर तब, जब आप या आपका कोई जानकार घर खरीदने पर विचार कर रहा है. आपको सतर्कता बरतते हुए कुछ ऐसे कदम उठाने चाहिए, जिससे आप ऐसी किसी दुर्घटना से बच सकें. ज्‍यादा के लालच में बिल्‍डर्स बिल्डिंग कंस्‍ट्रक्‍शन की क्‍वालिटी से खिलवाड़ करते हैं, जिसका खामियाजा बायर को भुगतना पड़ सकता है. हम आपको यह बताने की कोशिश करेंगे कि ऐसी कौन सी सावधनियां बरत कर आप इस तरह की दुर्घटनाओं से बच सकते हैं.

बि‍ल्‍डर से मांगें बिल्डिंग प्‍लान

जब हम घर बुक कराने जाते हैं तो आपको बिल्‍डर से उस बिल्डिंग प्‍लान की कौपी लेनी चाहिए, जो स्‍थानीय अथौरिटी से अप्रूव हो. बिल्डिंग प्‍लान को ध्‍यान से देखना चाहिए. इस बिल्डिंग प्‍लान में बिल्डिंग के सेफ्टी फीचर्स दिए जाते हैं. यदि यह बिल्डिंग प्‍लान काफी टैक्‍निकल होने के कारण आपको समझ नहीं आ रहा है तो किसी प्राइवेट आर्किटेक्‍ट से संपर्क करें और उससे प्‍लान की जांच कराएं. साथ ही, लोकल एरिया लेआउट की भी जांच कराएं .

finance

बि‍ल्‍डर से लें स्‍ट्रक्‍चर इंजीनियर की रिपोर्ट

भुज में आए भीषण भूकंप के बाद देश के बिल्डिंग कोड में कई तरह के ठोस बदलाव किए गए. इनमें से एक है कि बिल्‍डर को बिल्डिंग प्‍लान अथौरिटी से पास कराते वक्‍त किसी स्‍ट्रक्‍चर इंजीनियर से भी सर्टिफाई कराना होता है. एक्सपर्ट्स के अनुसार नक्‍शा पास कराते वक्‍त बिल्‍डर्स को कई ऐसे प्रावधानों का उल्‍लेख करना पड़ता है, जिससे बिल्डिंग सेफ रहे. बायर को यह रिपोर्ट तो लेनी ही चाहिए, बल्कि पजेशन लेते वक्‍त भी बिल्‍डर से पूरी बिल्डिंग का स्‍ट्रक्‍चरल स्‍टेबिलिटी सर्टिफिकेट भी लेना चाहिए. अभी बायर्स इस बारे में जागरूक नहीं हैं, इसलिए वे बिल्‍डर से यह सर्टिफिकेट नहीं लेते और ना ही अथौरिटी द्वारा औक्‍यूपेंसी सर्टिफिकेट देते वक्‍त यह सर्टिफिकेट लिया जाता है. इसलिए बायर्स को इस बारे में जागरूक करना बेहद जरूरी है.

बायर्स भी करा सकते हैं टेस्‍ट

एक्सपर्ट्स के अनुसार यदि बायर ने कब्‍जा ले लिया है और उसके बाद उसे बिल्डिंग की कंस्‍ट्रक्‍शन क्‍वालिटी पर शक है तो वह शहर के किसी प्रमुख स्‍ट्रक्‍चरल इंजीनियर से बिल्डिंग और घर की जांच करा सकता है. इसके लिए 20 से 25 हजार रुपए का खर्च आता है, लेकिन इसके लिए स्‍ट्रक्‍चरल इंजीनियर केवल बिल्डिंग प्‍लान और बिल्डिंग को बाहर से ही देख सकता है, परंतु यदि बिल्डिंग की कंस्‍ट्रक्‍शन क्‍वालिटी का पूरी जांच करानी है तो उसमें खर्च सवा लाख से डेढ़ लाख रुपए तक आता है. इसलिए बिल्डिंग में रह रहे सब लोगों को मिलकर बिल्‍डर पर दबाव बनाना चाहिए कि वह बिल्डिंग की स्‍ट्रक्‍चरल जांच कराए या बिल्डिंग में रह रहे सब लोग मिलकर यह खर्च उठा सकते हैं.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं