आजकल हेयर स्टाइलिंग टूल्स का चलन काफी बढ़ गया है. लेकिन इन का इस्तेमाल करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है.

हेयर ड्रायर

बालों को नया हेयरस्टाइल देने के लिए बिजली के उपकरणों में हेयर ड्रायर मुख्य है. बालों के अच्छे रखरखाव के लिए आप हफ्ते में 1 बार हेयर ड्रायर का प्रयोग कर सकती हैं. रोज या लगातार प्रयोग करने से बालों में डैंड्रफ, ड्राईनैस जैसी समस्याएं बढ़ सकती हैं. हेयर ड्रायर के बेहतर परिणाम के लिए इन जरूरी बातों का ध्यान रखें:

– अगर आप के लिए हेयर ड्रायर का इस्तेमाल जरूरी है, तो बालों की नियमित औयलिंग करें. हफ्ते में ज्यादा से ज्यादा 1 बार ही इसे प्रयोग में लाएं.

– ड्रायर का इस्तेमाल करने से पहले बालों की कंडीशनिंग करना न भूलें.

– हेयर ड्रायर प्रयोग करने से पहले बालों में नरिशमैंट सीरम लगा लें ताकि ड्रायर की हीट से बाल मुलायम हो सकें.

– बालों के प्रकार व आवश्यकतानुसार हेयर ड्रायर इस्तेमाल करें जैसेकि बाल कर्ली हैं, रूखे हैं, सौफ्ट हैं या फिर सिल्की.

– हेयर ड्रायर को 6 से 9 इंच की दूरी से ही प्रयोग करें वरना बालों में रूखापन बढ़ जाएगा.

– रूखे बालों में ड्रायर का इस्तेमाल कम से कम करें. कोल्ड ड्रायर का इस्तेमाल करें.

हेयर आयरन

बालों को स्ट्रेट रखने के लिए हेयर आयरन का आजकल बहुत प्रयोग किया जा रहा है. लेकिन इस के अच्छे परिणाम के लिए बेसिक चीज जो ध्यान में रखनी है वह यह कि हमेशा अच्छी क्वालिटी का फ्लैट और अलगअलग तापमान के लिए सिरेमिक प्लेट्स वाली आयरन लेनी चाहिए, जो औटो शट औफ हो. अगर बाल बहुत पतले और डैमेज हैं, तो शुरुआत लो सैटिंग से करें. अगर बाल कर्ली और मोटे हैं तो हाई सैटिंग पर जाएं.

बालों पर आयरन यूज करने से पहले उन्हें शैंपू और कंडीशनिंग करें. गीले बालों में कभी स्ट्रेटनिंग नहीं की जाती है, इसलिए पहले बालों को ब्लो ड्रायर से सुखा लें. बालों को बीचबीच में ठंडी हवा से भी ब्लो ड्रायर करें वरना उन के जलने का डर रहता है. बालों में अच्छे हीट प्रोटैक्टर का प्रयोग करें ताकि वे हौट आयरन की वजह से खराब न हों. इसे खरीदते वक्त ध्यान रखें कि इस में तेल या ज्यादा मात्रा में सिलिकौन नहीं होना चाहिए. इस की केवल 1 बूंद ही काफी रहेगी.

वाइब्रेटर मसाजर

वाइब्रेटर मसाजर द्वारा की जाने वाली मसाज हाथ के द्वारा की गई मसाज से अलग होती है. वाइब्रेटर सिर की मांसपेशियों और खोपड़ी की त्वचा में कंपन पैदा कर के उत्तेजना बढ़ाता है, जिस से रक्तसंचार तेज होता है और नसों का तनाव दूर हो कर थकान दूर होती है. बालों को स्वस्थ रखने के लिए यह काफी फायदेमंद है.

बालों का आपस में रगड़ खाना उन के लिए हानिकारक होता है. हाथ से की गई मालिश से बाल काफी हद तक आपस में रगड़ खाते हैं. वाइब्रेटर द्वारा की गई मालिश से बालों के आपस में रगड़ खाने की संभावना खत्म हो जाती है, साथ ही रक्तसंचार बढ़ने से बालों की जड़ें अधिक मजबूत हो जाती हैं. वाइब्रेटर मसाजर से मसाज करने के लिए ढक्कन की तरह गोल आकार के दांत वाले ऐंप्लिकेशन का प्रयोग किया जाता है.

बेहतर रिजल्ट के लिए सिर की त्वचा पर मसाज देने के लिए वाइब्रेटर की शक्ति 2000 प्रति मिनट कंपन से अधिक नहीं होनी चाहिए. मसाज करते समय हिलनाडुलना नहीं चाहिए क्योंकि किसी तरह का झटका लगने पर चोट लग सकती है. वाइब्रेटर मसाजर को रूखे बालों में भी तेल लगाने के बाद प्रयोग किया जा सकता है.

स्कैल्प स्टीमर

बिजली से चलने वाला यह उपकरण पानी को थोड़ी देर में भाप बना देता है. हर प्रकार की समस्या से ग्रस्त बालों के लिए भाप उपचार विशेष लाभकारी होता है. भाप से स्किन के पोर खुल जाते हैं और उन में फंसी गंदगी बाहर निकल आती है. रक्तसंचार तेज होने से बालों को पूरी तरह पोषण मिलने लगता है. इस के बेहतर रिजल्ट के लिए स्कैल्प स्टीमर से भाप उपचार को नियमित रूप से 2 हफ्ते तक देना चाहिए. बालों को दिए जाने वाले सभी उपचारों में भाप पद्धति खासतौर पर फायदेमंद है.

भाप देने के बाद बालों को धोना नहीं चाहिए. यदि किसी हेयर टौनिक को लगा कर भाप उपचार दिया गया हो तो बालों को धोने की जरूरत नहीं रहती.

इन्फ्रारेड रेज लैंप

इन्फ्रारेड रेज गरमी प्रदान करने वाली वे किरणें हैं, जो दिखाई नहीं देतीं. यदि इन्हें रोशनी के साथ मिलाया जाए तो ये दिखाई देने लगती हैं. इन्फ्रारेड से लिया गया ताप शुरू में अपनी गति धीमी रखता है, कुछ मिनट में पूरी तरह उच्च तापमान तक पहुंच जाता है. इस के द्वारा त्वचा के अंदर मांसपेशियों और त्वचा पर जो असर पड़ता है वह लंबे समय तक रहता है.

शुद्ध रक्तधमनियों में और अशुद्ध रक्त को हृदय की ओर ले जाने वाली रक्तनलिकाओं में ब्लड सर्कुलेशन की तेज गति होने के कारण उस स्थान पर जरूरी पोषक तत्त्व एवं औक्सीजन पर्याप्त मात्रा में मिलने लगती है. इस से मांसपेशियों में हुई परेशानियां जैसे सूजन, जकड़न तथा नलियों की थकान और दर्द को दूर करने में विशेष लाभ मिलता है.

इन्फ्रारेड का इस्तेमाल करते समय आंखें क्लीन रखें. कौंटैक्ट लैंस या चश्मा लगाती हों तो उतार दें. सोनेचांदी या किसी अन्य धातु के आभूषण पहने हों तो उन्हें भी उतार दें वरना वे गरम हो कर स्किन को जला सकते हैं. लैंप को इस्तेमाल करने के बाद स्किन के सामान्य होने के बाद शैंपू कर कुनकुने पानी का इस्तेमाल करें. लैंप को 25 से 30 इंच की दूरी पर रखें. उसे प्रयोग करते समय गरदन, कमर और कंधों को तौलिए से ढकना न भूलें.

ओजोन रेज लैंप

बिजली से चलने वाले इस उपकरण से ओजोन रेज का निर्माण होता है. ओजोन किरणें रोग को पूरी तरह खत्म कर देती हैं. इन किरणों का प्रयोग करते रहने से बालों और सिर की स्किन में किसी प्रकार के संक्रमण या कोई बीमारी होने की संभावना नहीं रहती है. सफेद बालों की समस्या, गंजापन, बालों का अधिक मात्रा में झड़ना इन सभी समस्याओं को खत्म करने में ओजोन किरणें पूरी तरह सक्षम होती हैं. उपकरण के साथ एक कंघानुमा बल्ब भी होता है. इस के इस्तेमाल से ओजोन किरणों को आसानी से सही प्रकार से बालों की जड़ों तक पहुंचाया जा सकता है.

ओजोन किरणें हमेशा सूखे बालों में ही दी जाती हैं. गीले बालों में भूल कर भी इन का प्रयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि इन में विद्युत तरंग होने के कारण करंट लग सकता है.

बालों में किसी संक्रमण या रोग के अधिक बढ़ जाने पर नियमित रूप से डेढ़दो मिनट तक ओजोन रेज दी जा सकती हैं. रोग खत्म होने के बाद कुछ महीनों तक प्रति सप्ताह यह उपचार देना चाहिए और उपचार के बाद किसी हेयर टौनिक को बालों की जड़ों में लगा लेना चाहिए. यह बहुत लाभकारी होता है. इस उपचार द्वारा बालों की वृद्धि को विशेष लाभ मिलता है.

Tags:
COMMENT