सौंदर्य विशेषज्ञों के अनुसार चेहरे को विषाणुरहित और स्मूद बनाने तथा उस की मसल्स को फिट रखने के लिए फेशियल सर्वश्रेष्ठ तरीका है. इस से न केवल चेहरे की मृत कोशिकाएं यानी डैड सैल्स हट जाते हैं, बल्कि इस से चेहरे की त्वचा को पौष्टिकता भी मिलती है.

क्या है कोलोजन

कोलोजन शरीर के उन प्रमुख प्राकृतिक प्रोटीन्स में से एक है, जो त्वचा को लचीला, मुलायम एवं जवां बनाए रखता है. उम्र बढ़ने के साथ कोलोजन का उत्पादन कम होने लगता है. परिणामस्वरूप चेहरे पर झुर्रियां दिखाई देने लगती हैं. उम्र बढ़ने के साथ कोलोजन के उत्पादन एवं त्वचा की आंतरिक परत में इलास्टिन की कमी से त्वचा ढीली पड़ने लगती है. 25 साल की उम्र के बाद त्वचा में कोलोजन का स्तर धीरेधीरे कम होने लगता है. तनाव, जीवनशैली, गलत खानपान, फास्ट फूड पर जरूरत से ज्यादा निर्भरता, शराब, धूम्रपान, प्रदूषण, व्यायाम की कमी आदि कारण उम्र के प्रभाव को बढ़ा देते हैं.

कोलोजन शरीर के हर भाग में होता है. रिसर्चर द्वारा 29 तरह के कोलोजन पहचाने जा सके  हैं. हाइप 1 कोलोजन उम्र के प्रभाव को कम करता है तथा त्वचा को मजबूती एवं लचीलापन प्रदान करता है. चूंकि कोलोजन को त्वचा के द्वारा औब्जर्व नहीं किया जा सकता है, इसलिए महिलाएं पूरक इस्तेमाल करती हैं, जो शरीर में कोलोजन के स्तर को बढ़ा देता है. कोलोजन के पूरक त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं, क्योंकि ये झुर्रियों, फाइन लाइंस को कम करने, त्वचा को पुन: पुरानी अवस्था में लौटाने, त्वचा को मजबूती देने, उसे जवान बनाने तथा उस के लचीलेपन को बढ़ाने में सहायता करते हैं.

फोटो फेशियल की प्रक्रिया

फोटो फेशियल करीब 60 मिनट की प्रक्रिया है, जिस की शुरुआत हर फेशियल की तरह चेहरे की साफसफाई से ही होती है. इस पूरी प्रक्रिया को प्रशिक्षित डाक्टर द्वारा पूरा किया जाता है. इस में आईपीएल यानी इंटैस्ड पल्स लाइट मशीन का प्रयोग कर त्वचा के भीतर जीनोन लाइट को छोड़ा जाता है जो त्वचा की दूसरी लेयर में जा कर कोलोजन बनने की प्रक्रिया को बढ़ाती है. दरअसल कोलोजन त्वचा के अंदर मुख्य संरचनात्मक प्रोटीन है, जो डर्मिस सतह में स्थित होता है.

फोटो फेशियल से लाभ

इस उपचार से कोलोजन बनना 50% बढ़ जाता है, जिस से बढ़ती उम्र के निशान जैसे फाइन लाइंस व झुर्रियां कम होती हैं और त्वचा का ढीलापन दूर हो कर उस में कसाव आता है. इस के अलावा त्वचा में भूरे धब्बे बनाने वाले मेलानिन का उत्पादन कम होता है और त्वचा में मौजूद पोषण करने वाले तत्व बढ़ते हैं जो त्वचा को बेहतर बनाते हैं. इस उपचार से मैटाबोलिज्म सक्रिय होता है.

इस फेशियल के अंत में यंग स्किन मास्क लगाया जाता है. यह नवीनतम टैक्नोलौजी झुर्रियां हटाने के अलावा पिगमैंटेशन के निशान भी ठीक करती है और ऐजिंग की प्रक्रिया को स्लो करती है.

Tags:
COMMENT