वेलेंटाइन वीक (Valentine week) में अगर आप खूबसूरत स्किन पाना चाहती हैं तो स्किन को मौइस्चराइज रखना जरूरी है.

विंटर सीजन में स्किन रूखी होने लगती है. उस की चमक गायब हो जाती है. कई बार इस कारण स्किन में खिंचाव भी होने लगता है. ऐसे में यह जरूरी हो जाता है कि स्किन के हिसाब से मौइस्चराइजर का प्रयोग करें. जिया आहूजा मेकअप स्टूडियो ऐंड सैलून की ब्यूटी और स्किन ऐक्सपर्ट जिया आहूजा कहती हैं कि स्किन अलगअलग तरह की होती है. ऐसे में जरूरी होता है कि स्किन केयर के लिए जो मौइस्चराइजर प्रयोग किया जा रहा हो वह स्किन के मुताबिक हो.

औयली स्किन

औयली स्किन ज्यादा सैंसिटिव होती है. इसलिए इस स्किन के लिए वाटर बेस्ड या जैल बेस्ड मौइस्चराइजर का ही प्रयोग करना चाहिए.

नौर्मल स्किन

नौर्मल स्किन बहुत ही क्लीन और क्लीयर टैक्स्चर वाली होती है. इस की खास बात यह होती है कि इस की ज्यादा केयर करने की भी जरूरत नहीं होती है. नौर्मल स्किन के लिए मौइस्चराइजर न ज्यादा औयली हो और न ही पूरी तरह से जैल बेस्ड. इस टाइप की स्किन पर नौर्मल स्किन लोशन भी अच्छी तरह काम करता है.

ये भी पढ़ें- 4 टिप्स : सेंधा नमक के इस्तेमाल से पाएं बेदाग स्किन

ड्राई स्किन

इसे सब से अधिक केयर की जरूरत होती है. ड्राई स्किन में पहले से ही मौइस्चर की कमी होती है, जिस की वजह से यह स्किन बहुत स्ट्रैच भी करती है. अगर इस स्किन की प्रौपर केयर न की जाए तो इस में क्रैक्स भी पड़ने लगते हैं.

ड्राई स्किन में रिंकल्स भी जल्दी पड़ते हैं. इस के लिए औयल बेस्ड मौइस्चराइजर परफैक्ट रहता है, क्योंकि यह उतना ही मौइस्चर प्रोवाइड करता है, जितनी ड्राई स्किन को जरूरत होती है. अगर स्किन ज्यादा ड्राई हो तो नियमित मौइस्चराइजर का प्रयोग करें.

तरह-तरह से स्किन केयर

स्किन केयर के लिए अब तरहतरह के उपाय भी करने होते हैं, जैसेकि ट्रैवल के समय सब से ज्यादा स्किन केयर की जरूरत होती है, क्योंकि उस समय धूल और धूप स्किन को सब से ज्यादा नुकसान पहुंचाती है. इस समय के लिए वाटर बेस्ड मौइस्चराइजर की जरूरत होती है. इस में विटामिंस और फ्रैगरैंस भी होती है. अगर स्किन में किसी तरह की परेशानी है जैसे रिंकल्स, डार्क स्पौट्स, डलनैस तो मौइस्चराइजर की जगह सीरम काफी लाभकारी होता है.

स्किन की केयर में स्किन औयल्स का भी प्रयोग अच्छा होता है. ये भी स्किन की बहुत सी समस्याओं को दूर करते हैं. इन औयल्स की खासीयत यह होती है कि इन्हें किसी भी स्किन पर यूज किया जा सकता है. ये पूरी तरह नैचुरल होते हैं और सैंसिटिव से ले कर एजिंग स्किन तक के लिए फायदेमंद होते हैं.

स्किन केयर में अगर स्किन टाइप के अनुसार मौइस्चराइजर या मेकअप प्रोडक्ट्स का प्रयोग नहीं किया जाता है तो यह स्किन के लिए नुकसानदायक हो सकता है. इसलिए सही स्किन केयर रूटीन और सही प्रोडक्ट्स का चुनाव जरूरी होता है. स्किन को साफ और मौइस्चराइज करने के लिए शहद का प्रयोग सब से बढि़या होता है. इस से स्किन में चमक आती है और वह साफ दिखती है.

अच्छी डाइट से हैल्दी स्किन

जिया आहूजा कहती हैं कि स्किन केयर के लिए अच्छी डाइट भी बहुत जरूरी होती है. इस के लिए डाइट में विटामिन सी को शामिल करें. बदलता मौसम स्किन को ड्राई कर देता है. स्किन पर मौइस्चराइजर का प्रयोग करने से स्किन जलवायु के अनुरूप खुद को ढालने में सफल हो जाती है. बदलते मौसम में जरूरी है कि स्किन को अच्छे क्लींजर और मौइस्चराइजर से सुरक्षित करें.

ये भी पढ़ें- Valentine’s Special: मिनटों में पाएं क्लीयर और स्मूद स्किन

शरीर के अन्य हिस्सों के मुकाबले चेहरे की स्किन ज्यादा नाजुक होती है, इसलिए इस की ज्यादा देखभाल की जरूरत होती है. विटामिन सी में ऐंटीऔक्सीडैंट होता है, जो स्किन को  झांइयों से बचाता है. विटामिन सी के लिए आप औरेंज, नीबू का रस, स्ट्राबेरी या ब्लूबेरी का इस्तेमाल कर सकती हैं. इन्हें मिला कर अच्छा नैचुरल फेस पैक तैयार कर सकती हैं.

बदलते मौसम में स्किन को नमी देने के लिए ब्लैक टी का इस्तेमाल कर सकती हैं. इस में इनफ्लैमेटरी गुण होते हैं. यह ऐंटीऔक्सीडैंट होती है. इस के साथ ही इस में सोडियम, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा काफी कम होती है. इस के अलावा यह शरीर को हाइड्रेट करती है और स्किन को मौइस्चराइज कर बेहतर बनाती है.

स्किन की देखभाल में संतुलित डाइट भी बेहद जरूरी होती है. डाइट में प्रोटीन शामिल करें. डाइट में ताजे फलों को शामिल करने से स्किन में चमक आती है.

Tags:
COMMENT