आजकल हेयर कलर का बड़ा क्रेज है. इस की खासीयत यह है कि यह कभी आउट औफ ट्रैंड नहीं रहता. अगर आप भी न्यू लुक के लिए पहली बार कलर करवाना चाहती हैं, लेकिन कौन सा कलर सही रहेगा या हेयर फौल तो नहीं होगा आदि सवाल मन में उठ रहे हैं तो हम यहां मेकअप ऐंड हेयर आर्टिस्ट पूनम चुग से बातचीत के आधार पर आप को पूरी जानकारी दे रहे हैं, जिस से आप की सारी उलझनें खत्म हो जाएंगी.

1. कैसे करें कलर का चुनाव

हेयर कलरिंग टीन और मैच्योर एजिंग दोनों के ऊपर की जा सकती है. टीनऐजिंग के लिए फैशन कलर का यूज किया जाता है. फैशन कलर को हम टाइम टु टाइम चेंज कर सकते हैं, जिस में रियल कलर से हट कर गोल्डन, ऐश, ब्लौन, रैड या कोई भी फैशन कलर बालों में किया जा सकता है. इस का यूज फैशन के रिगार्डिंग भी किया जाता है. मैच्योर हेयर्स यानी जिन के बाल ग्रे और व्हाइट होते हैं, उन के बालों में रियल कलर किया जाता है. रियल कलर के लिए ब्राउन, ब्लैक या डार्क ब्राउन कलर का इस्तेमाल किया जाता है.

2. बालों की केयर है जरूरी

अगर आप फैशन कलर करा रही हैं तो स्कैल्प से एकडेढ़ इंच ऊपर से कराएं. ऐसा करने से आप के बाल सेफ रहेंगे. कलर करवाने के बाद बालों की कंडीशनिंग बहुत अच्छी तरह की जानी चाहिए. इस के लिए अच्छे शैंपू, कंडीशनर, हेयर स्पा और औयलिंग की बहुत जरूरत होती है. ऐसा इसलिए किया जाता है, क्योंकि इस से बालों का नैचुरल कलर बना रहता है और वे खराब यानी डैमेज नहीं होते.

ये भी पढ़ें- Winter Wedding में ऐसे करें आई मेकअप और पाएं परफेक्ट लुक

ग्रे कवरेज में भी कंडीशनिंग की काफी ज्यादा जरूरत होती है, क्योंकि कैमिकल से बालों को नुकसान पहुंचता है. स्कैल्प की केयर करने के लिए कंडीशनिंग के साथ औयलिंग जरूरी है. कलर करने के साथसाथ बालों की देखभाल करने के लिए खानेपीने की चीजों पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए. इस के लिए अच्छी डाइट लेनी चाहिए. डाइट में प्रोटीन शामिल करना न भूलें.

3. धूप से सुरक्षा

धूप में जाते समय हमेशा सिर कवर करें, क्योंकि फैशन कलर बहुत जल्दी उड़ जाते हैं. जैसे जब हम रैड कलर करते हैं तो वह कुछ ही वाश के बाद निकल जाता है. इसलिए कंडीशनिंग, सीरम और हैड कवर करना बहुत जरूरी होता है.

4. बार-बार वौश करने से बचें

जो महिलाएं हर 15 दिनों में ग्रे कवरेज के लिए बालों में कलर करती हैं उन्हें भी बालों को गीला बारबार नहीं करना चाहिए, क्योंकि जितना हैड को वाश करेंगी उतना ही बालों के रूट के पास कलर निकल जाएगा, साथ ही यह भी कोशिश करें कि बालों में पसीना न आए, क्योंकि पसीने की वजह से भी उन का कलर निकल जाता है.

5. अच्छी क्वालिटी के कलर से बनेगी बात

अच्छे ब्रैंड के कलर ही यूज करें. ये बालों के लिए अच्छे होते हैं. सस्ते के चक्कर में अपने बाल खराब न करें. बालों को साफ रखना भी बहुत जरूरी है. मगर आप के बालों में कुछ एक परसैंट भी ग्रे कलर है तो कैमिकल से बचने की कोशिश करें और आंवला, रीठा, शिकाकाई जैसे नैचुरल सोर्सेस से बालों को कलर करें.

6. समय निकालें

आजकल ज्यादातर महिलाएं व्यस्त रहने की वजह से बालों की देखभाल के लिए समय नहीं निकाल पातीं. लेकिन अगर आप ने बालों को कलर करवाने का मन बना लिया है तो समय निकालना भी शुरू कर दीजिए, क्योंकि कलर के साथ केयर बहुत जरूरी होती है. इस से कलर काफी लंबे समय तक चलता है.

7. ग्रे न कराएं

हाईब्लड प्रैशर पेशैंट और प्रैगनैंट महिलाओं को हेयर कलर अवौइड करना चाहिए. अगर कलर करवाना ही है तो कोशिश करें कि बालों की रूट से कलर न करवाएं और ओपन एरिया में बैठ कर ही कलर करवाएं, जहां वैंटिलेशन हो.

8. किसी की कौपी न करें

इस बात का विशेष ध्यान रखें कि अगर किसी ने कलर करवाया है तो आप को उस की कौपी नहीं करनी चाहिए. बालों में कलर हमेशा अपने हेयर, फेस और प्रोफैशन के हिसाब से ही करवाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- साबुन बढ़ा सकता है पिंपल्स की प्रौब्लम

9. नैप एरिया पर टैस्ट

जब भी पहली बार बालों में कलर करवाएं तो 100% बालों में कलर न करवाएं. पहले नैप एरिया पर थोड़े से बाल ले कर कलर करवाएं. इस से एग्जैक्ट क्या कलर आने वाला है या कोई साइड इफैक्ट  तो नहीं हो रहा है इस का पता चल जाएगा. इसलिए बालों में कलर हेयर ऐक्सपर्ट से ही करवाएं. कलर चुनते समय सिर्फ  बौक्स पर छपी तसवीर को न देखें, बल्कि उस के नंबर और लेटर्स पर भी फोकस करें. आप चाहें तो ऐक्सपर्ट की मदद ले सकती हैं.

10. ब्लीच से बचें

बहुत सी महिलाएं हाइलाइट्स के अंदर ब्लीच कर लेती हैं, जो बालों के लिए नुकसानदायक होता है. जिन बालों में ब्लीच होती है उन का जल्दी सफेद होने का डर रहता है. इसलिए कोशिश करें कि जब भी बालों को हाइलाइट करवाएं तो अच्छे कलर से ही कराएं.

11. स्मार्ट टिप

अगर आप चाहती हैं कि कलर में मौजूद कैमिकल से आप के बालों को नुकसान न हो तो कम से कम 3 दिन पहले से हौट औयल ट्रीटमैंट करें.

Tags:
COMMENT