छत्तीसगढ़ राज्य के भाटापारा के करीब भैसा सकरी गांव निवासी साहेब दास मानिकपुरी जब कुछ वर्ष पहले मुंबई पहुंचे थे,उस वक्त वह शुद्ध हिंदी नही बोल पाते थे.एक मित्र की मदद से उन्हे ‘इस्कौन’मंदिर में ‘कंस वध’नामक नाटक में अभिनय करने का मौका जरुर मिला,पर उनकी हिंदी को लेकर सवाल उठ रहे थे. ऐसे में हिम्मत हारने की बजाय साहेब दास ने उस वक्त के रंगकर्मी व अब सफल भोजपुरी अभिनेता संजय पांडे, रंगकर्मी व लेखक राजेश दुबे तथा सशक्त रंगकर्मी स्व.पं.सत्यदेव दुबे की छत्रछाया में काम कर अपनी हिंदी पर इतनी मेहनत की आज वह शुद्ध व क्लिष्ट हिंदी बोलते हैं. अब तक कई टीवी सीरियलों में हास्य किरदार निभाकर शोहरत बटोर चुके साहेब दास माणिकपुरी बीच बीच में फिल्मों मे भी छोटे,पर महत्वपूर्ण  किरदारों में नजर आते रहते हैं, इन दिनों वह सब टीवी के सीरियल ‘‘जीजाजी छत पे हैं’’ में हवलदार मंगीलाल के किरदार में काफी पसंद किए जा रहे हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT