स्वदेशी आन्दोलन के समय विदेशी कपड़ो के विरोध में जब गाँधी जी ने  जन-जन से खादी पहनने का अवहान किया था तो किसी ने नही सोच था कि एक दिन यही खादी  फैशन का पैमाना बनकर उभरेगा. खादी में डिजायनों में खूबसूरती की नई संभावनाएं नजर आने लगी हैं. इसे देखते हुए अब लग रहा है कि भारत में खादी के वस्त्रों का फैशन भी आने वाले दिनों में चल निकलेगा. इसको लेकर भारत के फैशन डिजायनर कई किस्मों के परिधान और समयानुसार नई डिजाइनों में लेकर उतरने लगे हैं. इससे खादी के उत्पाद को प्रोत्साहन और खादी के व्यवसाय में वृद्धि हुई है. साथ ही  फैशन की दुनिया में अगर फैब्रिक्स की बात करें तो खादी की अपनी अलग जगह है. खादी की शुरूआत तो अंग्रेजों की नीतियों की विरोध करने के लिए हुआ था लेकिन आज ये एक फैशन ट्रेंड बन चुका है. उस वक्त  किसी को ये अंदाजा भी नहीं होगा कि खादी इस तरह फैशन का पैमाना बनकर उभरेगा.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT