रूना सिंघल,

मेरी मां मेरी सबसे अच्छी दोस्त, सबसे अच्छी सलाहकार. मेरी मां ने हर कदम पर मेरा साथ दिया मुझे हर काम करने के लिये प्रोत्साहित किया है. हमेशा मेरे एग्जाम की तैयारी कराना. घण्टो मेरे साथ बैठ कर ड्राइंग करवाना. एक वक्त ऐसा भी आया जब मैं बिल्कुल टूट गयी तब सिर्फ मां तुमने भरोसा किया तुम ने साथ दिया. मेरी जिंदगी के हर पहलू में हर फैसले में हर सही गलत का परिचय कराया. मेरे बाहर पढ़ने जाने के जब सब खिलाफ थे मां बस तुमने सबको मनाया और भरोसा भी दिलाया. जितना भी मां तुम्हारा धन्यवाद करूं कम है. बस दो पंक्तियां मां तुम्हारे लिये----

"मां से बढ़कर कोई जन्नत नही होती, मां के बिना कोई खुशी पूरी नही होती

मां तू है तो लगता है महफ़ूज हूं मैं, क्योंकि मां तेरे बिना तो कुछ भी नही हूं मैं"

ये भी पढ़ें- मेरी मां- ‘हर गलती पर ऐसे बचा लेती थी मां…’

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

गृहशोभा डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...