बैंक में खाता खोलने का जो सबसे जरूरी योग्यता है वो है ऐप्लिकेंट का 18 वर्ष से अधिक आयु का होना. 18 साल से कम उम्र के लोगों के लिए या जिन्हें हम माइनर या नाबालिग कहते हैं, बैंक खाता खुलवाना काफी मुश्किल होता है. पर देश के सबसे बड़े पब्लिक सेक्टर के बैंक स्टेट बैंक औफ इंडिया ने नाबालिगों के लिए दो तरह के खातों की शुरुआत की है. इसमें पहला है ‘पहला कदम’ और दूसरा है ‘पहली उड़ान’. ये दोनों खाते उन बच्चों के लिए हैं जिनकी उम्र 18 वर्ष से कम है.

आपको बता दें कि पहला कदम खाता 18 वर्ष से कम उम्र के किसी भी बच्चे के लिए है, इसमें खाताधारक के माता पिता नौमिनी होंगे.  वहीं पहली उड़ान खाता 10 वर्ष से अधिक सभी बच्चों के लिए है, इस खाते के लिए बच्चे को अपना हस्ताक्षर करना आना चाहिए. इन दोनों खातों के लिए किसी भी तरह के मिनिमम बैलेंस की जरूरत नहीं है. आसान शब्दों में कहें तो दोनों खाते में जीरो बैलेंस से कोई परेशानी नहीं है.

इस खबर में हम आपको इन दोनों खातों से जुड़ी जरूरी जानकारी देंगे.

योग्यता

पहला कदम खाते के लिए 18 वर्ष से कम उम्र का कोई भी बच्चा इस खाते के लिए योग्य है. पर इसके लिए बच्चे के माता-पिता या अभिभावक की ओर से साझा रुप से संचालित किया जा सकता है. वहीं पहली उड़ान के लिए 18 वर्ष से अधिक के सारे बच्चे योग्य हैं. बस जरूरी है कि वो अपना हस्ताक्षर स्वयं कर सकें.

खाते का संचालन

पहला कदम खाते को माता पिता की ओर से संचालित किया जा सकता है. वहीं पहली उड़ान खाते को एकल रूप से संचालित किया जा सकता है.

एटीएम या डेबिट कार्ड

इन दोनों खातो में डेबिट कार्ड पर बच्चे की तस्वीर लगी होती है. और दोनों का मैक्सिमम डेली विड्रौल लिमिट 5000 रुपये हैं.

इंटरनेट बैंकिंग

इन दोनों खातों में प्रतिदिन 5000 रुपये के लेनदेन की अनुमति होती है। हालांकि इसमें सुविधाएं सीमित होती है। इन दोनों खातों से इंटरनेट बैंकिंग की मदद से बिल्स का भुगतान और डिमांड के साथ ही इंटरनेट बैंक फंड ट्रांस्फर (एनईएफटी) की भी सुविधा मिलती है।

चेक बुक

पहला कदम खाते में अभिभावक की देखरेख में खाताधारक को 10 चेकलीफ वाली चेकबुक जारी किया जाता है. वहीं पहली उड़ान में अगर खाताधारक खुद हस्ताक्षर कर ले रहा है तो बच्चे या उसके माता-पिता या अभिभावक की ओर से साझा रुप से संचालित किया जा सकता है.

ब्याज दर

इन दोनों खातों पर समान्य ब्याज दर मिलता है. इसके अलावा नौमिनेशन की सुविधा भी मिलती है.

Tags:
COMMENT