नवजात के लिए मां का दूध बेहद जरूरी होता है. बच्चे को जितना पोषण मां की दूध से मिलता है, उतना किसी और चीज से नहीं मिलता. जानकारों की माने तो दूध में जटिल शर्करा का विशेष संयोजन होता है, जो भविष्य में होने वाली एलर्जी से बच्चों को  बचाता है. इससे उनमें रोगों से लड़ने के लिए प्रतिरोधक क्षमता विकसित होती है.

आपको बता दें कि मां के दूध में ओलिगोसैकराइड्स (एचएमओ) पाया जाता है. जिसकी संरचनात्मक में जटिल शर्करा के अणु होते हैं. यह मां के दूध में पाए जाने वाले लेक्टोज और वसा के बाद तीसरा सबसे बड़ा ठोस घटक है.

असल में बच्चे इसे पचा नहीं पाते हैं लेकिन लेकिन शिशु के आंत में माइक्रोबायोटा के विकास में प्रिबॉयोटिक के तौर पर काम करते हैं. माइक्रोबायोटा एलर्जी की बीमारी पर असर डालता है.

इस शोध को एक साल से कम उम्र के बच्चों पर किया गया. उनकी त्वचा पर इसकी जांत की गई. जिसमें पाया गया कि स्तनपान करने वाले शिशुओं ने खाद्य पदार्थ की एलर्जी के प्रति संवेदनशीलता नहीं दिखाई.

शोध में शामिल शोधार्थियों की माने तो, परीक्षण में सकारात्मक लक्षण का पाया जाना जरूरी नहीं है कि वह एलर्जी का साक्ष्य हो, लेकिन यह उच्च संवेदनशीलता का संकेत अवश्य देता है. बाल्यावस्था के संवेदीकरण हमेशा बाद के दिनों तक नहीं बने रहते हैं, लेकिन वे भविष्य में एलर्जी बीमारी के महत्वपूर्ण नैदानिक संकेतक और संभावनाओं को उजागर करते हैं.

Tags:
COMMENT