कौम्पिटिशन के इस समय में आजकल लोग एक दूसरे से आगे निकले में अपनी सेहत पर ध्यान देना बंद कर चुके हैं. साथ ही काम और पढ़ाई में प्रेशर बढ़ने के कारण किशोरों और युवाओं में डिप्रेशन के मामले तेजी से बढ़ते जा रहा हैं. डिप्रेशन का मुख्य कारण काम, पढ़ाई का प्रेशर, ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाने की ललक होता है. खासकर अगर हम युवाओं की बात करें तो भारत में सबसे ज्यादा डिप्रेशन के शिकार युवा हो रहे हैं. हाल ही में एक आईआईटी-हैदराबाद में पढ़नेवाले मार्क एंड्रयू चार्ल्स ने पढ़ाई और करियर  के  तनाव की वजह से सुसाइड कर लिया. आज हम आपको बताते है कि डिप्रेशन क्या है, क्यों बढ़ रहा है और इसे कैसे दूर किया जा सकता है.

क्या होता है डिप्रेशन

वैसे तो किसी ना किसी वजह से उदास होना आम बात है, लेकिन जब यह एहसास ज्यादा समय तक बन रहा है तो समझ जाइए कि डिप्रेशन की स्थिती बनती जा रही हैं. डिप्रेशन एक ऐसा मानसिक विकार है जिसमें व्यक्ति को कुछ भी अच्छा नही लगता और उसे लगने लग जाता है कि उसकी जिंदगी में सिर्फ दुख है या उसकी जिंदगी में जीने के लिए अब कुछ नही बचा है.

ये भी पढ़ें- मिसकैरेज के बाद कैसे करें कंसीव

महिलाओं को होता है डिप्रेशन का सबसे ज्यादा खतरा

वर्ल्ड हेल्थ ऑग्रजेइशेन के रिपोर्ट मुताबिक महिलाओं के डिप्रेशन के चपेट में आने का खतरा पुरूषों के मुकाबले में कही ज्यादा होता हैं. आधुनिक समय में महिलाओं पर घर, परिवार, बच्चे और करियर के साथ ही अन्य और जिम्मेदारियां होती हैं. साथ ही वीकेंड के दिन भी महिलाएं घर का काम करती है, जिसके कारण उन्हें आराम नही मिलता. महिलाओं मे डिप्रेशन ज्यादा होने का एक मुख्य कारण हार्मोनल बदलाव भी होता है, जिसके कारण वे ज्यादा डिप्रेशन का शिकार होती है.

क्यों होता है डिप्रेशन

नौकरियां और पढ़ाई की वजह से आज युवाओं पर जिस तरह का दबाव और डिप्रेशन बढ़ा है, उसकी वजह से आज कई युवा गलत कदम उठाने के लिए मजबूर हो जाते है. नौकरियों में काम का दबाव बढ़ने और उसमें सफल ना होने के कारण मानसिक रोग अवसाद बन जाता है.

डिप्रेशन से होने वाले नुकसान

हर वक्त का डिप्रेशन इन्सान के शरीर को बहुत नुकसान पहंचाता है, जिसमें सबसे पहला नुकसान हर वक्त का चिड़चिड़ापन, जल्दी गुस्सा आना, नींद कम आना जैसी बातें आम है. डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति को हार्ट अटैक आने का खतरा बढ़ जाता है.

ये भी पढ़ें- मिसकैरेज के बाद डिप्रेशन से ऐसे निबटें

डिप्रेशन से बच्चों को ऐसे बचाएं

– नकारात्मक सोच से ज्यादा से ज्यादा बचने की कोशिश करें.

– वर्तमान में जीना सीखें, जो है उसमें खुश रहें और जो नही उसके बारे में सोचकर अपना आज बर्बाद ना करें.

– खाली समय में अपने आपकों खुश रखने की कोशिश करें.

– भरपूर नींद लें, लेकिन जरूरत से ज्यादा ना सोएं. समय पर सोनें और समय पर उठें.

– दोस्तों व परिवार के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताएं.

– हेड मसाज, सोना या स्टीम बाथ लें. इससे शरीर को आराम मिलेगा तो दिमाग को राहत मिलेगी.

– ध्यान लगाएं या योग करें. डिप्रेशन से दूर रहने के लिए योग बहुत अच्छा तरीका है.

– कम उम्र के बच्चों को भी ऐसे दौड़ भाग वाले खेलों को अपनाना चाहिये जिससे शारीरिक रसायन का संतुलन बना रहे और निराशा और डिप्रेशन से दूर रहें.

– सभी उम्र के लोगों को प्रकृति में रह कर कुछ समय बिताना चाहिये. जहां उन्हें सूर्य की रोशनी, ताजी हवा और आकाश का साथ मिल सके.

Tags:
COMMENT