डौक्टर सलाह देते हैं कि मिसकैरेज के बाद किसी महिला को पुन: कंसीव करने के लिए एक पूरे चक्र की प्रतीक्षा करनी चाहिए. हालांकि जिन्होंने मिसकैरेज के कारण को जानने के लिए टैस्ट या ट्रीटमैंट नहीं कराए उन्हें 2-3 मासिक चक्रों तक प्रतीक्षा करनी चाहिए. जो महिलाएं भावनात्मक रूप से अत्यधिक टूट गई हैं, उन्हें कम से कम 6 महीने से लेकर 1 वर्ष तक प्रतीक्षा करनी चाहिए.

लक्षण

– आत्मग्लानि से भर जाना.

– छोटीछोटी बातों पर अत्यधिकगुस्सा होना.

– अत्यधिक दुखी होना.

– भूख न लगना या खाना खाने का मन नहीं करना.

ये भी पढ़ें- मिसकैरेज के बाद डिप्रेशन से ऐसे निबटें

– उत्तेजित अनुभव करना.

– अत्यधिक थका अनुभव करने के बादभी सो नहीं पाना.

– अपने शरीर पर नियंत्रण न रहना.

– ध्यान केंद्रित करने में समस्या आना.

क्या करें: चिकित्सा विशेषज्ञों का मानना है कि एक महिला को दोबारा कंसीव का प्रयास करने से पहले थोड़ा समय प्रतीक्षा करनी चाहिए ताकि भावनात्मक रूप से स्थिर हो सके. लेकिन उस के साथ ही आप के शरीर को हील होने का अवसर मिल सके, क्योंकि आप स्वस्थ रूप से नहीं होंगी तो दोबारा मिसकैरेज होने की आशंका बढ़ जाएगी.

विशेषज्ञों का कहना है कि मिसकैरेज के बाद किसी महिला को सामान्य स्थिति में आने के लिए कम से कम 6 सप्ताह लगते हैं. मिसकैरेज के 3 महीने बाद अगली प्रैग्नेसी की योजना बनाना सब से सुरक्षित रहता है, लेकिन डाक्टर से चर्चा करें ताकि दूसरी बार मिसकैरेज से बच सकें. अगली प्रैग्नेसी से बचने के लिए ऐक्टिव  इम्यूनोथेरैपी उपचार लें. अगर 2 बार मिसकैरेज हो जाए तो विस्तृत जांच कराएं.

क्या न करें: हिम्मत न हारें. मिसकैरेज के बाद अधिकतर महिलाओं को डर सताने लगता है कि उन का पुन: मिसकैरेज हो जाएगा. हालांकि आंकड़े कहते हैं कि जिन महिलाओं का मिसकैरेज होता है उन में से लगभग 85% महिलाएं सामान्यरूप से कंसीव कर लेती हैं. उन का शरीर मिसकैरेज के बाद 2-4 सप्ताह में अंडोत्सर्ग के लिए तैयार हो जाता है.

ये भी पढ़ें- स्मार्ट वुमंस के लिए बेहद काम की हैं ये एप्स

नौर्मल होने की करें कोशिश

एक महिला के लिए बच्चे को खोने का दुख स्वाभाविक है. लेकिन आप लगातार दुख में डूबी रहेंगी तो आप न केवल अपनी सेहत खराब कर लेंगी, बल्कि दोबारा मां बनने की आशंका भी बढ़ा लेंगी. दुख और डिप्रैशन से उबरने के लिए निम्न प्रयास करें:

संक्रमण से बचें: संक्रमण से बचने के लिए साफसफाई का पूरा ध्यान रखें. रोज नहाएं. स्विमिंग न करें जब तक कि ब्लीडिंग और डिसचार्ज बंद नहीं हो जाता. मिसकैरेज के 2 सप्ताह तक सैक्स न करें. अगर 2 सप्ताह बाद भी शारीरिक संबंध बनाते समय तेज दर्द हो तो डाक्टर से संपर्क करें. दैनिक गतिविधियां करते समय सावधान रहें: मिसकैरेज के बाद अपनी दैनिक गतिविधियां करते समय सावधान रहें. हालांकि कई महिलाएं मिसकैरेज के तुरंत बाद अपनी सामान्य गतिविधियां शुरू कर देती हैं. वैसे कुछ दिनों तक आराम करना ठीक रहता है.

हल्की करें एक्सरसाइज

हलकी-फुलकी एक्सरसाइज आप को मिसकैरेज के बाद होने वाली शारीरिक समस्याओं से निबटने में सहायता कर सकती हैं. अगर आप नियमित एक्सरसाइज करेंगी तो आप को तनाव कम होगा, क्योंकि एक्सरसाइज करने से एंडोरफिन का स्राव होता है जिसे फीलगुड हारमोन कहते हैं. मिसकैरेज के बाद प्रतिदिन 30 मिनट तक टहलना स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा रहता है. डौक्टर से नियमित जांच कराएं कि आप बैक्टीरिया के संक्रमण, सैक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज और दूसरी समस्याओं से ग्रस्त तो नहीं जो आप को सामान्य रूप से कंसीव करने में रुकावट डालेंगी.

              -डा. नुपुर गुप्ता

कंसल्टैंट ओब्स्टट्रिशियन ऐंड गाइनोकोलौजिस्ट,निदेशक वैल वूमन क्लीनिक, गुड़गांव –

Tags:
COMMENT