ज़्यादातर लोग नौकरी को ही रोजगार मानने लगे हैं. विशेषकर, शिक्षितवर्ग में इस के प्रति आकर्षण बहुत बढ़ा है. व्यापार में परिश्रम तो अधिक है, पर उसी तुलना में उस में पैसा व सम्मान भी बहुत अधिक है. दुनिया में जितने भी संपन्न लोग हैं, सब व्यापारी हैं. नौकरी में अकसर अफसर की धौंस सुननी पड़ती है, जबकि व्यापार में इंसान खुद मालिक होता है.

Digital Plans
Print + Digital Plans

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT