बेहतर भविष्य और अच्छी नौकरी की चाह में घर से दूर रहने वाले युवाओं की संख्या दिनबदिन बढ़ती जा रही है. चूंकि अत्याधुनिक समाज में आए तकनीकी विकास ने आज संभावनाओं के नए द्वार खोल दिए हैं, लिहाजा यह दूरी बच्चों और उन के परेरैंट्स के लिए ज्यादा माने नहीं रखती है, क्योंकि मोबाइल, इंटरनेट, सोशल साइट्स के जरीए ये अपनों के संपर्क में लगातार बने रहते हैं. मगर घर से दूर रहने वाले युवाओं के लिए बाहर इतना आसान भी नहीं होता. कई बच्चे बाहर रह कर होम सिकनैस का शिकार हो जाते हैं, जिस से अपनी पढ़ाई या नौकरी में अपना सौ प्रतिशत नहीं दे पाते. यह होम सिकनैस उन की कार्यक्षमता को प्रभावित करती है, लिहाजा सफलता पाने की दौड़ में वे पीछे रह जाते हैं.

आखिर क्या है होम सिकनैस

बाहर रहने वाला बच्चा जब घर की याद कर अकेलापन महसूस करे और तनावग्रस्त रहने लगे तो यह लक्षण होम सिकनैस का है. घरपरिवार से अत्यधिक लगाव की स्थिति में बच्चा कहीं बाहर रहने से घबराता है और यदि बाहर रहना पड़े तो वह बारबार बीमार पड़ जाता है या अपनी पढ़ाई और अन्य कार्यों के प्रति उदासीन हो जाता है. यह स्थिति बच्चे के मानसिक व शारीरिक विकास को तो बाधित करती ही है, उस की कार्यक्षमता पर भी बेहद बुरा प्रभाव डालती है. यह समस्या ज्यादातर उन युवाओं के समक्ष खड़ी होती है जो पहली बार घरपरिवार से दूर रह रहे होते हैं या फिर वे इस का शिकार आसानी से बनते हैं जो कुछ अधिक संवेदनशील होते हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT