‘वर्ल्ड हैल्थ और्गेनाइजेशन’ के मुताबिक भारत की करीब 30% आबादी नियमित रूप से शराब का सेवन करती है. ‘नैशनल क्राइम रिकौर्ड्स ब्यूरो’ के आंकड़ों के मुताबिक भारत में प्रतिदिन करीब 15 लोगों की मौत शराब की लत के कारण होती है.

जिन महिलाओं के पतियों को शराब की लत होती है उन्हें अपने और अपने बच्चों की सुरक्षा और भविष्य को ले कर हमेशा चिंता बनी रहती है. कई बार ऐसी स्थिति आती है कि महिलाएं हिम्मत हार जाती हैं.

इस संदर्भ में रिलेशनशिप रिफौर्मर मानव आहुजा कहते हैं कि यह सच है एक शराबी पति के साथ रहना वैवाहिक जीवन की सब से बड़ी चुनौतियों में से एक है. पर धैर्य और तर्कसंगत तरीके से निबटने का प्रयास किया जाए तो इस से छुटकारा पाया जा सकता है, क्योंकि अलकोहलिज्म एक बीमारी है जो समय के साथ ठीक हो सकती है.

अपने व्यवहार पर नियंत्रण रखें

जब आप के पति नशे में हों तो आप चीखेंचिल्लाएं नहीं. इस से स्थिति और खराब होगी. अगर आप अपने व्यवहार पर नियंत्रण रखेंगी तो इस का आप के पति पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा. वे समय के साथ अपनी गलती जरूर महसूस करेंगे. अगर स्थिति आप की बरदाश्त के बाहर हो जाए तब भी धैर्य और शांति बनाए रखें, क्योंकि यह आप के और आप के बच्चों के जीवन के लिए बहुत जरूरी है.

खुद पर फोकस करें

अगर आप सारा दिन अपने पति की शराब की लत को ले कर कुढ़ती रहेंगी तो यह आप के जीवन में ग्रहण लगा देगा. हमेशा पति के बारे में न सोचती रहें. अपने और अपने बच्चों के बारे में भी सोचें. अपना ध्यान रखें. अपने लिए समय निकालें. अपने दोस्तों या परिवार के अन्य सदस्यों के साथ आउटिंग पर जाएं. मूवी देखें. बाहर खाना खाएं. इस से आप का स्ट्रैस लैवल कम होगा. स्टैमिना बढ़ेगा और आप अपनी परेशानियों को बेहतर तरीके से हल कर पाएंगी.

काउंसलिंग है जरूरी

अपने पति को किसी साइकिएट्रिस्ट या रिलेशनशिप रिफौर्मर के पास ले जाएं. चाहें तो अपने परिवार के किसी ऐसे सदस्य की सहायता भी ले सकती हैं, जो इस स्थिति से बाहर आया हो. कई मामलों में काउंसलिंग के बड़े पौजिटिव रिजल्ट आते हैं.

चर्चा करें

जब आप के पति नशे में न हों तब उन से विभिन्न विषयों पर खुल कर चर्चा करें. उन्हें समझाएं कि किस तरह उन की शराब की लत शादी और उन के जीवन को प्रभावित कर रही है. फ्यूचर विजुलाइज कराएं कि उन की शराब पीने की लत का बच्चों पर कितना गलत प्रभाव पड़ रहा है. अगर ऐसा ही चलता रहा तो बच्चे उन का सम्मान करना बंद कर देंगे. अगर उन्होंने अपनी आदतें नहीं सुधारीं तो भविष्य में कई समस्याएं हो जाएंगी.

सेहत से जुड़ा डर पैदा करें

सेहत को ले कर पति के मन में थोड़ा भय विकसित करें. उन्हें अपने पासपड़ोस, दोस्तों रिश्तेदारों में से किसी का उदाहरण दे कर बताएं कि किस तरह शराब की लत ने उन की सेहत को खराब कर दिया. अगर आप लगातार उन्हें उन की सेहत को लेकर समझाती रहेंगी तो वे जरूर सोचने पर मजबूर होंगे कि किस तरह नशा उन की सेहत को नुकसान पहुंचा रहा है.

मोटिवेट करें

उन्हें अपने साथ योगा क्लासेज ले जाएं. इस से विल पावर स्ट्रौंग होगी और उन के लिए इस लत से बाहर आना संभव होगा. अगर आप के शहर में कोई मोटिवेशनल सेमिनार हो रहा है तो आप वीकैंड पर पति के साथ वहां जाएं इस से ज्ञान भी बढ़ेगा और जिंदगी को देखने का नजरिया भी बदलेगा. उन्हें इंटरनैट पर भी मोटिवेशनल विडियोज देखने के लिए प्रेरित करें.

बुरी संगत से दूर रखें

पति को ऐसे दोस्तों या लोगों से दूर रखें जो उन्हें शराब पीने को उकसाते हैं. पति को समझाएं कि ऐसे लोगों का साथ उन के निजी जीवन और परिवार को कितना प्रभावित कर रहा है. अगर फिर भी वे उन से मिलने की जिद करें तो उन्हें महीने में 1-2 बार से अधिक न जाने दें.

कुछ समय के लिए दूरी बढ़ा लें

अपने बच्चों के साथ कुछ दिनों के लिए अपने मायके या किसी और रिश्तेदार के यहां चली जाएं. पति को एहसास कराएं कि उन की शराब की लत की वजह से उन्हें यह निर्णय लेना पड़ा. अपनी अहमियत का उन्हें एहसास होने दें.

Tags:
COMMENT