लौकडाउन के समय सरकार ने दोपहिया वाहनों पर केवल एक सवारी के ही चलने का नियम बना दिया. इस नियम को तोडने वाले 500 लोगों से केवल उत्तर प्रदेश में जुर्माना वसूल किया गया. कडाउन के दौरान सबसे अधिक दो पहिया वाहनों का प्रयोग किया गया. लौकडाउन में अप्रैल-जून माह में दोपहिया वाहनों की बिक्री षून्य रही. लौकडाउन खुलते ही वाहन बाजार मंस सबसे पहले दो पहिया वाहनो की ही बिक्री षुरू हुई. जुलाई माह में 5 फीसदी ब्रिकी के साथ अगस्त माह में 15 फीसदी के कारीब ब्रिकी होने लगी.
दो पहिया वाहन कारोबार के जानकार मोहम्मद जफर कहतें है कि फेस्टिवल सीजन में दो पहिया वाहनो की बिक्री 50 फीसदी से अधिक पहुचने की उम्मीद दिख रही है. इसका अर्थ यह है कि पिछले साल इन महीनों के दौरान जितनी बिक्री हुई थी उसके 50 फीसदी तक पहंुचने की उम्मीद है. मंहगी बाइको के मुकाबले कम कीमत वाली किफायती बाइक अधिक बिक रही. इसमें भी स्कूटी की सेल सबसे अधिक है. क्योकि इसका प्रयोग महिला और पुरूश दोनो कर लेते है. इसमें आगे घरेलू सामान भी रखने की जगह होती और इसको चलाना भी बाइक के मुकाबले सरल होता है. पावर में यह मोटर बाइक के कम नहीं होती है. जिन घरों में कार है वहां भी एक स्कूटी या बाइक को रखा जाने लगा है. कार के मुकाबले दो पहिया वाहन से जल्दी गंतव्य तक पहुंचा जा सकता है.

Digital Plans
Print + Digital Plans

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT