10 वर्षीया अविका आजकल हरदम अपनी दादी से चिपकी रहती है. क्योंकि जब से कोरोना के कारण लॉक डाउन हुआ है, दादी और पोती दोनों घर पर ही हैं. लॉक डाउन से पहले स्कूल के दिनों में तो अविका स्कूल से आकर ट्यूशन फिर होमवर्क करने में ही लगी रहती थी. सुबह जल्दी उठने के कारण रात को 9 बजे तो उसे नींद के झोंके ही आने प्रारम्भ हो जाते थे पर जब से लॉक डाउन हुआ है तो न ट्यूशन का झंझट और न स्कूल होमवर्क का. बस ऑनलाइन क्लास अटैंड करके वह दादी के पास आ जाती और दादी अपनी कहानियों का पिटारा खोल देतीं . अब हर दिन वह दादी के पास कहानी सुनकर ही सोती है. अविका कहती है,"स्कूल टाइम में तो मुझे कभी कहानी सुनने का मौका ही नहीं मिलता था पर कोरोना के टाइम में दादी मुझे हर रोज कहानी सुनाती हैं. " कहानी के माध्यम से दादी और पोती की दोस्ती बहुत मजबूत हो गयी है.

Digital Plans
Print + Digital Plans

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT