पुरुषवादी समाज ने कभी महिला को देह से हट कर सोचा ही नहीं. पुरुषवादी सोच या तो महिलादेह की शुद्धता पर केंद्रित रही या उसे भूखे भेड़िए की तरह नोचने के लिए हवस भरती रही. जब ऊंचाई पर महिला पहुंचती, उसे स्वीकार करने से पुरुषसत्ता हमेशा बचती रही. यह पुरुषसत्ता स्त्री को स्वतंत्रता का भ्रम दे कर, उस की देह को केंद्र में रख कर, उस की हमेशा दोयम हैसियत को ही सुनिश्चित करती रही.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT