आज देशभर में किसी युवा जोड़े के लिए अपनी कमाई से अपना घर खरीदना लगभग असंभव हो गया है. जिनका पैकेज लाखों में है वे भी अपने मातापिता का पैसा जोड़ कर ही कुछ खरीद पाते हैं और जो मिलता है वह जरूरत से कम होता है. न मनमाफिक मकान होता है, न सुविधाएं, न साइज और न पड़ोस. सबको छोटे फ्लैटों या मकानों से काम चलाना पड़ रहा है और युवा जोड़ों को सुबून से 2 पल भी इन में अपने नहीं मिलते.

इसलिए जरूरी है कि पब्लिक प्लेसों को और खूबसूरत और ज्यादा बनाया जाए. इन में जोड़े, विवाहित हो या अविवाहित कम से कम हाथ पकड़ कर बतिया तो सकें. आमतौर पर शहरों के बागबगीचों मैलेकुचैले रहते हैं. बैच नहीं होते. पत्ते बिखरे रहते हैं. नशेड़ी कोनों में जम रहते हैं. बदबू आती है.

दिल्ली के लोधी गार्डन, रोशनारा गार्डन, या मुंबई की मेरिन ड्राइव जैसी जगह कई शहरों में हैं ही नहीं. दिल्ली में भी 2 करोड़ की आबादी के लायक सांस लेने की जगह काफी नहीं है और इसीलिए कुछ महिनों पहले तक इंडिया गेट पर हर इतवार को ऐसा लगता था कोई कुंभ का मेला हो. दिल्ली की घनी बस्तियों से उसे लोग सांस लेने के लिए पूरा इंडिया गेट व राजपथ भर देते थे. मोदी जी ने यह भी बंद कर दिया है. एक तरफ समर स्मारक बना दिया है जहां केवल वे ही किसी स्मारक में आते है. बाकी का सारा खुदा पड़ा है. उस का पुननिर्माण हो रहा है पर न जाने कैसा होगा.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT