बीजेपी नेत्री और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का 67 साल की उम्र में निधन हो गया. सुषमा स्वराज को गंभीर हालत में एम्स में भर्ती कराया गया, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली. बताया जा रहा है कि उन्हें दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद मंगलवार देर रात 9:35 बजे एम्स में भर्ती कराया गया था. एम्स के सीनियर डौैक्टर रणदीप गुलेरिया ने सुषमा स्वराज के निधन की पुष्टि की.

14 फरवरी 1952 को हरियाणा के अंबाला शहर में जन्मीं सुषमा स्वराज की गिनती भाजपा के कद्दावर नेताओं में होती है। यहां तक की प्रधानमंत्री नरेंद्र ने भी कई मौकों पर उनकी तारीफ की. ऐसा ही एक वाक्या उस वक्त का है जब बतौर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में पाकिस्तान को निशाने पर लिया था. यहां तक कि उनके समय में ही आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित कराने में भारत ने कामयाबी हासिल की.  2014 में मोदी सरकार के आने के बाद उन्हें विदेश मंत्रालय का प्रभार मिला था. सुषमा दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री भी थी.

एक नजर सुषमा स्वराज के राजनीतिक जीवन पर:

– 1970 में उन्होंने राजनीतिक करियर की शुरुआत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से की.

– 1977 में जब सुषमा स्वराज 25 साल की थीं तब वह भारत की सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री बनी थीं.

– 1977-82 और 1987-89 तक सुषमा स्वराज हरियाणा विधानसभा की सदस्य निर्वाचित हुईं.

– 1990 में सुषमा स्वराज राज्यसभा सदस्य बनीं.

ये भी पढ़ें- हिमा दास की एथलीट बनने की कहानी

– 1996 और 1998 में दक्षिण दिल्ली से सुषमा स्वराज लोकसभा सांसद बनी.

– 1998 में सुषमा स्वराज दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री बनी.

– 1999 में भाजपा ने सुषमा स्वराज को सोनिया गांधी के खिलाफ बेल्लारी से उतारा, जिसमें उन्हें सात फीसदी मतों से हार मिली.

– 2000 से 2003 तक सुषमा स्वराज केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री रहीं. इसके बाद उन्होंने 2003 से 2004 तक स्वास्थ्य मंत्री का कार्यभार संभाला. उनके स्वास्थ्य मंत्री रहते केंद्र ने छह नए एम्स को हरी झंडी दी.

– 2014 में मोदी सरकार के आने के बाद सुषमा स्वराज विदेश मंत्री बनाया गया.

ये भी पढ़ें- सरकार मंदिरों के चढ़ावे का भी ले हिसाब

Tags:
COMMENT