सुप्रिया की शादी बुरी तरह असफल रही. पति बेहद नशेड़ी, उसे बहुत मारतापीटता था. मातापिता के घर के दरवाजे उस के लिए एक प्रकार से बंद थे इसीलिए पति से तंग आ कर घर छोड़ अकेली रहने लगी.

उसी के दफ्तर में काम करने वाले हेमंत से धीरेधीरे सुप्रिया की नजदीकियां बढ़ने लगीं. शादीशुदा हेमंत की पत्नी अत्यंत शंकालु थी. उस पर पत्नी का आतंक छाया रहता था. हेमंत के सुप्रिया के घर आनेजाने से महल्ले वाले सुप्रिया को अच्छी नजरों से नहीं देखते थे. उस को लगा वह कीचड़ से निकल कर दलदल में आ गई है.

बहुत सोचसमझ कर हेमंत से सारे संबंध समाप्त कर वह दूसरे महल्ले में आ जाती है. तनाव से मुक्ति पाने के लिए रोजसुबह सैर को जाती है. एक रोज उस का परिचय तनय नामके व्यक्तिसे होता है. वह योग शिक्षक तथा 2 बच्चों का पिता था. दार्शनिकलहजे में बातें करता तनय सुप्रिया को साफ दिल का इनसान लगता है. अब आगे…

ये भी पढ़ें- कुछ ऐसे बंधन होते हैं

यह सुन कर सुप्रिया एकाएक गंभीर हो गई. आदमी हमेशा अपनी पत्नी को ही क्यों दोषी ठहराता है जबकि दोष पतियों का भी कम नहीं होता.

‘‘हर इनसान सिर्फ अपने ही तर्कों से सहमत हुआ करता है मैडम…’’ तनय बोले तो वह मुसकरा दी, ‘‘अपना परिचय आप को दे दूं. मेरा नाम सुप्रिया है. मैं इस कालोनी के फ्लैट नंबर 13 में रहती हूं. लोगों के लिए फ्लैट का नंबर मनहूस था इसलिए मुझे आसानी से मिल गया. फ्लैट लेते समय मुझे लगा कि आदमी को जिस जगह रहते हुए सब से ज्यादा डर लगे, सब से ज्यादा खतरा महसूस हो, वहां जरूर रहना चाहिए. जिंदगी का असली थ्रिल, असली जोखिम शायद इसी में हो.’’

इस पर तनय ने हंसते हुए कहा, ‘‘और आप उस फ्लैट में अकेली रहती हैं क्योंकि पति से आप ने अलग रहने का फैसला कर लिया है. एक और विवाहित व्यक्ति के चक्कर में आप ने अपने को उस महल्ले में खासा बदनाम कर लिया जिस में आप पहले रहती थीं. अब आप उस सारे अतीत से पीछा छुड़ाने के लिए इस नए महल्ले के नए फ्लैट नंबर 13 में आ गई हैं, और यहां सुबह घूम कर ताजा हवा में अपने गम गलत करने का प्रयत्न कर रही हैं.’’

‘‘आप को यह सबकुछ कैसे पता?’’ चौंक गई सुप्रिया.

‘‘चौंकिए मत. मेरी इस सारी जानकारी से आप को कोई नुकसान नहीं होने वाला क्योंकि मैं कभी किसी के जीवन की बातें इधर से उधर नहीं करता. आप से यह बातें कह दीं क्योंकि आप को यह बताना चाहता था कि मैं आप के बारे में बहुत कुछ जानता हूं. असल में हेमंतजी मेरी योग कक्षा के छात्र रहे हैं. एक बार उन्होंने अपने तनावों के बारे में सब बताया था, वे दो नावों पर सवार थे, डूबना तो था ही. उन्हें पता है कि आप यहां फ्लैट नंबर 13 में रहती हैं पर मैं ने उन से कह दिया है कि अपना भला चाहते हो तो आप का पीछा न करें.’’

‘‘लेकिन आदमी बहुत स्वार्थी होता है, सर, वह हर काम अपने स्वार्थ के वशीभूत हो कर करता है. क्या आप के समझाने से उस की समझ में आया होगा?’’

‘‘मेरा फर्ज था उन्हें समझाना. समझ जाएंगे तो उन के हित में रहेगा, वरना अपने किए कर्मों का दंड वह जरूर भोगेंगे.’’

‘‘आप सचमुच बहुत समझदार और भले व्यक्ति हैं,’’ सुप्रिया ने ऊपर से नीचे तक देखते हुए तनय की मुक्तकंठ से प्रशंसा की.

अब सुबह की सैर के समय तनयजी से हर रोज सुप्रिया की मुलाकात होने लगी. ढेरों बातें, हंसी, ठहाके, खुश रहना, बातचीत करना, फिर उस ने अनुभव किया कि जिस दिन वह नहीं जा पाती या तनय से मुलाकात नहीं हो पाती उस दिन उसे लगता था जैसे जिंदगी में कुछ है जो छूट गया है. वह अपनी इस मानसिक स्थिति के बारे में बहुत सोचती थी पर किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाती.

सुप्रिया को अपना जन्मदिन याद नहीं था, पर उस दिन उसे अचरज हुआ जब ताजे गुलाबों का एक गुलदस्ता ले कर तनय उस के फ्लैट पर आ कर जन्मदिन की मुबारकबाद देते हुए बोले, ‘‘तुम ने तो नहीं बुलाया पर मुझे लगा कि मुझे तुम्हारे पास आज के दिन आना ही चाहिए.’’

‘‘धन्यवाद, सर,’’ खिल सी गई सुप्रिया, ‘‘दरअसल जिंदगी की उलझनों में मैं अपने जन्मदिन को ही याद नहीं रख पाई. आप गुलाबों के साथ आए तो याद  आया कि आज के दिन मैं पैदा हुई थी.

‘‘भीतर आइए न, सर, दरवाजे पर तो अजनबी खड़े रहते हैं. आप अब मेरे लिए अपरिचित और अजनबी नहीं हैं.’’

‘‘अपना मार्कट्वेन का वाक्य तुम भूल गईं क्या?’’ और ठहाका लगा कर हंसे तनयजी. फिर संभल कर बोले, ‘‘मैं यहां बैठने नहीं, आप को आमंत्रित करने आया हूं. मैं चाहता हूं कि आप आज मेरे घर चलें और मेरी पाक कला का जायजा व जायका लें.’’

ये भी पढ़ें- ब्लैकमेलर

अपना फ्लैट बंद कर जब सुप्रिया तनयजी के साथ बाहर निकली तो शाम पूरी तरह घिर आई थी. सड़क पर बत्तियां जल गई थीं.

रास्ते में तनयजी खामोशी को तोड़ते हुए बोले, ‘‘जानती हो सुप्रिया, प्रेम के अनेक रूप होते हैं. आदमी ऐसी हजार चीजें गिना सकता है जिन के बारे में वह कह सकता है कि यह प्यार नहीं है पर प्यार किसे कहते हैं, ऐसी वह एक भी बात नहीं गिना सकता.’’

सुप्रिया ने एक बार भर नजर तनयजी की तरफ देखा और सोचने लगी, क्या हर आदमी औरत से सिर्फ एक ही मतलब साधने की फिराक में रहता है? संदेह के कैक्टस उस की आंखों में शायद तनय ने साफ देख लिए थे. अत: गंभीर ही बने रहे.

‘‘आप मेरे बारे में कतई गलत सोच रही हैं. मैं ने आप को पहले ही बताया था कि मैं लोगों के चेहरे के भाव पढ़ने में माहिर हूं. असल में हर अकेला आदमी दूसरे लोगों में अपनी जगह तलाशता है पर मैं इस तरह अपने अकेलेपन को भरने का प्रयत्न करता रहता हूं. इसीलिए मैं ने कहा था कि प्रेम और मनुष्य के अनेक रूप होते हैं.’’

‘‘माफ करें मुझे,’’ सुप्रिया ने क्षमा मांगी, ‘‘असल में दूध का जला व्यक्ति छाछ भी फूंकफूंक कर पीता है. एक बार ठगी गई औरत दोबारा नहीं ठगी जाना चाहती.’’

‘‘जानती हो सुप्रिया, प्रेम का एक और रूप है. दूसरों के जीवन में अपनेआप को खोजना, अपने महत्त्व को तलाशना, मुझे नहीं पता कि मैं तुम्हारे लिए महत्त्वपूर्ण हो पाया हूं या नहीं पर मेरे लिए तुम एक महत्त्वपूर्ण महिला हो. इसलिए कि मुझे सुबह तुम से मिल कर अच्छा लगता है, बातें करने का मन होता है क्योंकि तुम अच्छी तरह सोचतीसमझती हो, शायद इसलिए कि अपनी इस छोटी सी जिंदगी में तुम ने बहुत कुछ सहा है.

‘‘जिंदगी की तकलीफें इनसान को सब से ज्यादा शिक्षित करती हैं और उसे सब से ज्यादा सीख भी देती हैं. शायद इसीलिए तुम समझदार हो और समझदार से समझदार को बातचीत करना हमेशा अच्छा लगता है.’’

‘‘क्या करते हैं हम ऐसी कोशिश. क्या बता सकते हैं आप?’’ अपने सवाल का भी वह शायद उत्तर तलाशने लगी थी तनय के तर्कों में.

‘‘क्योंकि हर व्यक्ति की जिंदगी में कुछ न कुछ गड़बड़, अभाव, कमी और अनचाहा होता रहता है जिसे वह दूसरों की सहायता से भरना चाहता है.’’

‘‘पर आप को नहीं लगता कि ऐसी कोशिशें बेकार जाती हैं,’’ सुप्रिया बोली, ‘‘यह सब असंभव होता है, दूसरे उस अभाव को, उस कमी को, उस गड़बड़ी को कभी ठीक नहीं कर सकते, न भर सकते हैं.’’

आगे कुछ न कह सकी वह क्योंकि तनय अपने फ्लैट का फाटक खोल कर उसे अंदर चलने का इशारा कर रहे थे. भीतर घर में दोनों बच्चों को खाने की मेज पर उन की प्रतीक्षा करते पाया तो सुप्रिया को अच्छा लगा. बेटे रोमेश ने कुरसी से उठ कर सुप्रिया का स्वागत किया और अपना नाम एवं कक्षा बताई पर बेटी रूपाली खड़ी नहीं हुई, उस का चेहरा तना हुआ था और आंखों

में संदेह व आक्रोश का मिलाजुला

भाव था.

‘‘हैलो, रूपाली,’’ सुप्रिया ने अपना हाथ उस की ओर बढ़ाया पर उस ने हाथ नहीं मिलाया. वह तनी बैठी रही. तनय ने उस की ओर कठोर नजरों से देखा, पर कहा कुछ नहीं.

जिस हंसीखुशी के मूड में वे लोग यहां पहुंचे थे वैसा खुशनुमा वातावरण वहां नहीं था, फिर भी औपचारिक बातों के बीच उन लोगों ने खाना

खाया था. विस्तृत परिचय हुआ था. सुप्रिया ने भी अपने फ्लैट का नंबर आदि बता दिया था और यह भी कहा था, ‘‘आप लोग जब चाहें, शाम को आ सकते हैं. मैं अकेली रहती हूं. आप लोगों को अपने फ्लैट में पा कर प्रसन्न होऊंगी.’’

रूपाली शायद कहना चाहती थी, क्यों? क्यों होंगी आप प्रसन्न? क्या हम दूसरों के मनोरंजन के साधन हैं? उस ने यह बात कही तो नहीं, पर उस के चेहरे के तनाव से सुप्रिया को यही लगा.

दरवाजे की घंटी बजी तो सुप्रिया ने सोचा, शायद तनयजी होंगे. दरवाजा खोला तो अपने सामने रूपाली को खड़ा देखा. चेहरा उसी तरह तना हुआ. आंखों में वही नफरत के भाव.

‘‘आप मेरे घर क्यों आई थीं, मैं यह अच्छी तरह से जान गई हूं,’’ वह उसी तरह गुस्से में बोली.

‘‘आप मुझ से सिर्फ यही कहने नहीं आई हैं,’’ सुप्रिया संभल कर मुसकराई, ‘‘पहले गुस्सा थूको और आराम से मेरे कमरे में बैठो. फिर पूछो कि क्यों आई थी मैं आप के घर…’’

‘‘मुझे ऐसी हर औरत पर गुस्सा आता है जो मेरे पापा पर कब्जा करना चाहती है. एक आंटीजी पहले भी थीं, मैं ने उन्हें अपमानित और जलील कर भगा दिया. हालांकि पापा मेरे इस व्यवहार से मुझ से नाराज हुए थे पर मुझे कतई अच्छा नहीं लगता कि

कोई औरत मेरे पापा की जिंदगी में दखल दे.’’

‘‘तुम ने यह कैसे मान लिया कि

मैं तुम्हारे पापा और तुम्हारी जिंदगी में दखल देने आ रही हूं?’’ रूपाली का हाथ पकड़ कर सुप्रिया उसे भीतर ले गई. कुरसी पर बैठाया. ठंडा पानी पीने को दिया, फिर पूछा, ‘‘क्या लेना चाहोगी. ठंडा या गरम?’’

‘‘कुछ नहीं. मैं सिर्फ आप से लड़ने आई हूं,’’ रूपाली सख्त स्वर में बोली.

‘‘ठीक है, हम लोग लड़ भी लेंगे, पहले कुछ खापी लें, फिर लड़ाई अच्छी तरह लड़ी जा सकेगी,’’ हंसती रही सुप्रिया.

सुप्रिया किचन से वापस लौटी तो उस के हाथ में एक टे्र थी और उस में कौफी व अन्य चीजें.

‘‘आप को कैसे पता कि मैं सिर्फ कौफी पीना पसंद करती हूं?’’

‘‘मुझे तो यह भी पता है कि एक लड़का है अरुण जो तुम्हारा दोस्त है और तुम से मिलने तब आता है जब तुम्हारे पापा घर पर नहीं होते. भाई स्कूल गया हुआ होता है. तुम स्कूल गोल कर के उस लड़के के साथ फ्लैट में अकेली होती हो.’’

एकदम सन्नाटे में आ गई रूपाली और सकपका कर बोली, ‘‘क्या पापा को भी पता है?’’

‘‘अभी तक तो नहीं पता है पर ऐसी बातें महल्ले में बहुत दिन तक लोगों की नजरों से छिपती नहीं हैं. आज नहीं तो कल लोग जान ही जाएंगे और घूमफिर कर यह बातें तुम्हारे पापा तक पहुंच ही जाएंगी.’’

‘‘आप ने तो पापा को कुछ नहीं बताया?’’ उस ने पूछा.

‘‘और बताऊंगी भी नहीं पर यह जरूर चाहूंगी कि स्कूल गोल कर किसी लड़के के साथ अपने खाली फ्लैट में रहना कोई अच्छी बात नहीं है. इस से तुम्हारी पढ़ाई बाधित होगी और ध्यान बंटेगा.’’

चुपचाप कौफी पीती रही रूपाली, फिर बोली, ‘‘असल में मैं नहीं चाहती कि कोई औरत मेरे पापा की जिंदगी में आए और मेरी मां बन बैठे. खासकर आप की उम्र की औरत जिस की उम्र मुझ से कुछ बहुत ज्यादा नहीं है. आप को पता है, पापा की उम्र क्या है?’’

‘‘हां, शायद 50-52 के आसपास,’’ सुप्रिया ने कहा, ‘‘और मुझे यह भी पता है कि उन की पत्नी… यानी आप लोगों की मां की मृत्यु एक कार दुर्घटना में हुई थी.’’

‘‘दुर्घटना के समय उन के साथ कौन था, शायद आप को यह भी पता है?’’ रूपाली ने पूछा.

‘‘हां, वह अपने प्रेमी के साथ थीं और वह प्रेमी शायद उन से पीछा छुड़ाना चाहता था. इसीलिए गाड़ी से उसे धक्का दिया था पर धक्का देने में स्टियरिंग गड़बड़ा गया और कार एक गहरे खड्ड में जा गिरी जिस से दोनों की ही मृत्यु हो गई.’’

‘‘आप को नहीं लगता कि हर औरत बेवफा होती है और हर आदमी विश्वसनीय?’’

‘‘अगर हम यही सच मान कर जिंदगी जिएं तो क्या तुम एक लड़के पर भरोसा कर के उस एकांत फ्लैट में मिलती हो, यह ठीक करती हो? और क्या यही राय तुम अपने बारे में रखती हो कि तुम उस के साथ बेवफाई करोगी? वह भी तुम्हें आगे चल कर धोखा देगा? जिंदगी क्या अविश्वासों के सहारे चल सकती है, रूपाली?’’

चुप हो गई रूपाली. उसे लगा कि वह सुप्रिया को जितना गलत समझ रही थी वह उतनी गलत नहीं थी. वह एक अदद काफी समझदार औरत लगी रूपाली को. अपनी मां से एकदम भिन्न, सहज, और सुहृदय.

‘‘आज के बाद मैं अरुण से कभी अपने फ्लैट के एकांत में नहीं मिलूंगी. पर प्लीज, पापा को मत बताना.’’

‘‘तुम न भी कहतीं तो भी मैं खुद ही तुम्हें किसी दिन इस के लिए टोकती. तुम्हारे पापा से तब भी नहीं कहती. मर्द ऐसी बातों को दूसरे रूप में लेते हैं,’’ सुप्रिया बोली, ‘‘मैं तुम्हारी उम्र से गुजर चुकी हूं, यह सब भली प्रकार समझती हूं.’’

‘‘अब आप मेरे घर कब आएंगी?’’ रूपाली मुसकरा दी.

‘‘अभी तो हमें लड़ना है एकदूसरे से,’’ कह कर हंस दी सुप्रिया, ‘‘क्या अपने घर बुला कर लड़ना चाहती हो मुझ से?’’

ये भी पढ़ें- करणकुंती

रूपाली उठते हुए बोली, ‘‘आंटी, आप घर आएं और पापा की जिंदगी का सूनापन अगर संभव हो सके तो दूर करें. हालांकि जो घाव पापा को मम्मी ने दिया है वह भर पाना असंभव है. पर मैं चाहती हूं, वह घाव भरे और पापा एक सुखी संतुष्ट जीवन जिएं. करेंगी आप इस में मदद…?’’ देर तक उत्तर नहीं दे सकी सुप्रिया.

Tags:
COMMENT