सुबह साढ़े 4 बजे जब उन की सास नित्य स्नानध्यान के लिए ऊपर के बेडरूम से नीचे आने के लिए निकलीं तो पुलिस की तरह ऐन मौके पर बिजली चली गई. अंधेरे में जीने पर पड़े केले के छिलकों पर उन का पैर पड़ गया. उन की चीख के साथ ही पूरा घर जाग पड़ा और आनन- फानन में उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया. चोट तो ज्यादा नहीं आई थी लेकिन बेचारी का दिल शायद कमजोर था इसलिए फेल हो गया. खैर, यह तो होनी थी, होनी को कौन टाल सकता है. लेकिन इसी बीच एक अनहोनी हो गई.

उसी रात ठाकुर अभयप्रताप के घर में एक चोर घुस आया. गेट पर खड़ा गार्ड शायद लघुशंका के लिए कोने में गया था, तभी मौका पा कर वह चोर गेट खोल कर धीरे से अंदर सरक आया. फिर बगीचे की झाडि़यों के पीछे छिपताछिपाता रसोई के पिछवाड़े पहुंच कर खिड़की की ग्रिल निकाल कर अंदर दाखिल हो गया.

नीचे के सारे कमरों का चोर ने जायजा लिया, सब खाली थे. दूर बरामदे में एक नौकर खर्राटे भर रहा था. चोर ने एकएक कर के सारा कीमती सामान उठाया और बड़ी सी गठरी बना कर रख ली.

अभी ड्राइंगरूम का काफी कीमती सामान बाकी था. वह दूसरी गठरी बनाने की फिराक में था कि तभी सामने सीढि़यों पर होती आहट से उस के कान खड़े हो गए. वह फौरन ड्राइंगरूम में लगे मोटे परदे के पीछे छिप गया. नाइट बल्ब की धुंधली रोशनी में उस ने देखा कि कोई भारी- भरकम कदकाठी का व्यक्ति जीने पर कुछ दूर तक आया फिर झुकझुक कर कुछ इधरउधर रखा और वापस ऊपर लौट गया.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT