कहानी के बाकी भाग पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पिछला भाग- लंबी कहानी: कुंजवन (भाग-2)

इस बार जानकीदास चौंके, ‘‘क्या कह रही है? यह शादी तो तेरी मां ही तय कर के गई है.’’

‘‘4 वर्ष पहले मुंह की बात थी बस. 4 वर्षों में बहुत कुछ बदल गया है...’’

उन्होंने हैरानी के साथ पोती को देखा, ‘‘पर तू तो बंटी को पसंद करती है.’’

‘‘मैं बंटी को पसंद करती हूं यह तो नई खबर है? किस ने खबर दी आप को?’’

वो थोड़ा सकपका गए, ‘‘नहीं...वो इतना हैंडसम और स्मार्ट है. तू पार्टी पिकनिक क्लब में भी उस के साथ जाती है तो...’’

‘‘तो उस का मतलब मैं उसे पसंद करती हूं. ना दादू वो स्मार्ट नहीं सियार की तरह धूर्त है और हैंडसम तो धतूरे का फूल भी सुंदर लगता है पर है विषैला. रही उस के साथ पार्टी पिकनिक की बात तो दादू आप की मालकिन बहू ने इस घर के दरवाजे उस नालायक के लिए सपाट खोल रखे थे बंद करने में थोड़ा समय तो लगेगा. उसी समय की प्रतीक्षा है मुझे.’’

जानकीदास के मुख पर स्वरित की रेखाएं उभर आईं, ‘‘आज बहुत काम है मैं जल्दी निकल जाऊंगा तुम आराम से आना बेटी.’’

‘‘ठीक है. लंच टाइम में मिलेंगे.’’

बातों के भी पर होते हैं. जानकीदास ने ठीक ही कहा था. जो उड़ती चिडि़या पकड़ना जानते हैं वो पकड़ भी लेते हैं. थोड़ा लेट पहुंची शिखा. दादू आ गए थे तो चिंता नहीं थी. दादू वास्तव में ढाल की तरह सदा पोती के सिर पर छाया रखते हैं फिर भी मां के छोड़े बिजनैस को शिखा ने मजबूत हाथों से संभाला. डगमगाना तो दूर और भी फलाफूला. असल में शिखा ने भी अपने सामने आने वाले लंबे जीवन का एकमात्र सहारा इस बिजनैस को ही मान लिया है. उस के जीवन के सारे सुंदर और मधुर भावनाओं को तो उस की मां ही कुचल कर चली गईं और जातेजाते एक वायरस से चिपका गई जिस का नाम है ‘बंटी’. वो कहते हैं न कि शैतान का नाम लो तो शैतान हाजिर वही हुआ. सामने पड़ी फाइल को छूआ भी नहीं था शिखा ने कि दनदनाता अंदर आया ‘बंटी’. सामने की कुरसी खींच बैठ गया. मम्मा का सिर चढ़ाया ‘कुंजवन’ और ‘सोनी कंपनी’ के आफिस को अपनी बपौती समझता है. किसी प्रकार की औपचारिकता की परवा उसे नहीं शिखा का सिर तक जल उठा क्रोध से. उस के माथे पर बल पड़ गए. कठोर शब्दों में कहा, ‘‘यह औफिस है, यहां कुछ फौरमेलिटियों का पालन करना पड़ता है.’’ इस तरह एकदम मेरे कमरे में मत चले आया करो.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

गृहशोभा डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...