सूरजमुखी: निशीथ के प्यार में तिलतिल जल रही थी छाया

romantic story in hindi

लड़का चाहिए: सुरेंद्र क्या अपने दिल की बात कह पाया

यह सुरेंद्र का दुर्भाग्य था या सौभाग्य, क्या कहें. वह उस संयुक्त परिवार के बच्चों में सब से आखिरी और 8वें नंबर पर आता था. अब वह 21 साल का ग्रैजुएट हो चुका था व छोटामोटा कामधंधा भी करने लगा था. देखनेदिखाने में औसत से कुछ ऊपर ही था. उस के विवाह के लिए नए प्रस्ताव भी आने लगे थे. यहां तक तो उस के भाग्य में कोई दोष नहीं था परंतु उस के सभी बड़े भाइयों के यहां कुल 17 लड़कियां हो चुकी थीं और अब किसी के यहां लड़का होने की उम्मीद नहीं थी. इसी कारण वंश को आगे बढ़ाने की सारी जिम्मेदारी सुरेंद्र पर टिकी हुई थी.

अब तक घरपरिवार और चेहरेमोहरे को देखने वाले इस परिवार ने दूसरी बातों का सहारा लेना भी शुरू कर दिया, जैसे जन्मपत्रिका मिलाना, परिवार में हुए बच्चों का इतिहास जानना आदि. पत्रिका मिलान करते समय पंडितों को इस बात पर विशेष ध्यान देने को कहा जाता कि पत्रिका में पुत्र उत्पन्न करने संबंधी योग, नक्षत्र भी हैं या नहीं.

एक पंडित से पत्रिका मिलवाने के बाद दूसरे पंडित की सैकंड ओपिनियन भी जरूर ली जाती. पंडित लोग भी मौका देख कर भारीभरकम फीस वसूल करते.

कई लड़कियां तो सुरेंद्र को अच्छी भी लगीं किंतु पंडितों की भविष्यवाणी के आधार पर रिजैक्ट कर दी गईं. एक जगह तो अच्छाखासा विवाद भी हो गया जब एक लड़की ज्योतिष के सभी परीक्षणों में सफल भी हुई, लेकिन स्त्री स्वतंत्रता की पक्षधर उस लड़की को यह सबकुछ बेहद असहज व स्त्रियों के प्रति अपमानजनक लगा.

सुरेंद्र से एकांत में मुलाकात के समय उस ने सुरेंद्र से कहा कि जब आप के परिवार में 17 कन्याओं ने जन्म लिया है तो मुझे आप के घर के पुरुषों के प्रति संदेह है कि उन में लड़का पैदा करने की क्षमता भी है या नहीं. मेरे साथ शादी करने से पहले आप को इस बात का मैडिकल प्रमाणपत्र देना होगा कि आप पुत्र उत्पन्न करने की क्षमता रखते हैं.

जब यह बात रिश्तेदारों और जानपहचान वालों को पता चली तो कई लोग बिन मांगे सुझाव और सलाहों के साथ हाजिर हो गए. किसी ने कहा कि ऐसी लड़की का चयन करना जिस की मां को पहली संतान के रूप में पुत्ररत्न की प्राप्ति हुई हो. किसी की सलाह थी, कमर से जितने अधिक नीचे बाल होंगे, लड़का होने की संभावना उतनी ही अधिक होगी. एक सलाह यह भी थी कि पुत्र उत्पन्न करने में वे लड़कियां ज्यादा सफल होती हैं जो चलते समय अपना बायां पैर पहले बाहर रखती हैं.

यदि लड़की की नानी ने भी पहली संतान के रूप में लड़के को जन्म दिया हो, संभावनाएं शतप्रतिशत हो जाती हैं.

इसी तरह की और भी न जाने क्याक्या सलाहें मिलती रहीं.

सुरेंद्र का परिवार सभी सलाहों पर हर मुमकिन अमल करने का प्रयास भी इस तरह से कर रहा था मानो यदि अब एक लड़की और हो गई तो वह उस की परवरिश करने में असमर्थ रहेगा. अब तो टोनेटोटके के बावजूद पैदा हुई सब से छोटी लड़की के पुराने कपड़ों को भी घर से हटा दिया गया था क्योंकि इस तरह के पुराने कपड़ों को रखना पनौती माना जाता है.

सुझावों को ध्यान में रख कर सुरेंद्र के लिए लड़कियां देखी जाती रहीं, और किसी न किसी आधार पर अस्वीकृत भी की जाती रहीं. इसी तरह 2 बरस बीत गए और कुछ रिजैक्टेड लड़कियों ने अपनी शादी के बाद अपनी पहली संतान के रूप में लड़कों को जन्म भी दे दिया.

आखिरकार, परिवार की मेहनत रंग लाई और कड़ी खोजबीन के बाद इस तरह की लड़की को खोजने में सफल हो ही गया. खोजी गई लड़की के बाल कमर से लगभग डेढ़ फुट तक नीचे जाते थे. मतलब, एक विश्वसनीय सुरक्षित लंबाई थी बालों की.

लड़की की मां, नानी, यहां तक कि परनानी ने भी पहली संतान के रूप में लड़के को ही जन्म दिया था. यानी यहां दोहरा सुरक्षाकवच मौजूद था. सोने पर सुहागा यह कि लड़की चलते समय बायां पैर ही पहले निकालती थी.

अब तो तीनसौ प्रतिशत संभावनाएं थीं कि यह लड़की, लड़का पैदा करने में पूरी तरह सक्षम है. परंतु जो बात सब से महत्त्वपूर्ण थी वह यह कि सुरेंद्र को यह लड़की पसंद नहीं थी क्योंकि लड़की रंगरूप के मामले में औसत भारतीय लड़कियों से भी नीचे थी.

उस से भी बड़ी बात यह थी कि लड़की मुश्किल से 3 प्रयासों के बाद इंटर की परीक्षा पास कर पाई थी. सभी चीजें तो एक लड़की में नहीं मिल सकती न, ‘वंश तो लड़कों से चलता हैं न कि लड़की की पढ़ाईलिखाई या रंगरूप से’ ये बातें सुरेंद्र को समझा कर किसी ने उस की एक न सुनी.

इस तरह सभी भौतिक परीक्षाओं में पास होने के बाद लड़की की जन्मकुंडली पंडितजी को दिखाई गई. पंडितजी भी एक ही जजमान की कुंडली बारबार देख कर त्रस्त हो चुके थे. वे भी चाहते थे जैसे भी हो, इस बार कुंडली मिला ही दूंगा चाहे कोई पूजा ही क्यों न करवानी पड़े.

उन के अनुसार भी, कुंडली का मिलान भी श्रेष्ठ ही था. किंतु एक हिदायत उन्होंने भी दे दी कि लड़का होने की संभावनाएं तब ही बलवती होंगी जब संतान शादी के एक वर्ष के भीतर गोद में आ जाए.

आखिरकार सुरेंद्र की अनिच्छा के बावजूद शादी धूमधाम से हो गई. लड़की ने इंटर की परीक्षा जरूर 3 प्रयासों में पास की थी लेकिन वह इतना तो जानती ही थी कि इतनी जल्दी मातृत्व का बोझ उठाना ठीक नहीं होगा. उस ने टीवी और फिल्मों के जरिए यह जान लिया था कि शादी के शुरुआती वर्ष पतिपत्नी को एकदूसरे को समझने के लिए बहुत अहम होते हैं. ऐसे में कुछ वर्ष बच्चा नहीं होना चाहिए.

सुरेंद्र की पत्नी को पहले ही दिन से वीआईपी ट्रीटमैंट दिया जा रहा था. उसे तरहतरह के प्रलोभन दिए जा रहे थे.

सुरेंद्र पर भी दबाव डाला जा रहा था और पंडितजी की हिदायतों की समयसमय पर याद करवाई जा रही थी.

2 माह बाद आखिर वह दिन भी आ ही गया जिस का सारे परिवार को इंतजार था. सुरेंद्र की पत्नी गर्भवती हो चुकी थी. मतलब, हर नजरिए से इस परिवार को पुत्र के रूप में वारिस मिलने की संभावनाएं बहुत अधिक हो गई थीं. किसी ने सलाह दी कि यदि इस में कुछ चिकित्सकीय सहायता भी ले ली जाए तो असफलता की संभावनाएं नहीं रहेंगी.

एलोपैथिक के डाक्टरों ने तो इस प्रकार की कोई भी औषधि देने से इनकार कर दिया. तब एक परिचित की सहायता से एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक वैद्यजी को दिखाया गया. वे इस शर्त पर दवा देने को तैयार हुए कि बच्चे के लिए सोनोग्राफी नहीं करवाई जाएगी.

परिवार वालों ने वैद्यजी की बातों को माना और वैद्यजी की बताई गई दवाई पूर्णिमा को खिला भी दी गई.

समयसमय एलोपैथी के डाक्टर को दिखा कर बच्चे की शारीरिक प्रगति पर ध्यान दिया जाता रहा. लेकिन वैद्यजी की सलाह के अनुसार सोनोग्राफी की अनुमति नहीं दी गई. डाक्टर अपने अनुभवों के आधार पर उपचारित करते रहे. परिवार वाले भी सुरेंद्र की पत्नी की हर इच्छा को आदेश मान कर पालन करते रहे.

सुरेंद्र की पत्नी अपनेआप को किसी वीआईवी से कम नहीं समझ रही थी. विवाह के 11 महीनों के बाद आखिर वह दिन भी आ ही गया जिस का सभी को इंतजार था. सुरेंद्र की पत्नी को अस्पताल में भरती करवा दिया गया. घर पर पूजापाठहवन आदि का इंतजाम किया गया. पूरे घर में लड़का होेने की अग्रिम खुशी में उत्सव जैसा माहौल हो गया.

आखिर वह समय भी आ गया

जब परिणाम घोषित हुआ. परिणाम पिछले 17 परिणामों से अलग नहीं था.

सुरेंद्र की पत्नी ने एक स्वस्थ और सुंदर कन्या को जन्म दिया. इस घड़ी में सुरेंद्र का परिवार तो कुछ कहने की स्थिति में नहीं था परंतु बाहर के लोग तो कह ही रहे थे, कुछ हंसी में और कुछ संवेदना में. कुछ लोग तो यह सलाह देने के लिए आ रहे थे कि दूसरी संतान पुत्र कैसे हो, इस के कुछ नुस्खे उन के पास मौजूद हैं.

किंतु, गुस्से से भरा सुरेंद्र पहले की सलाह देने वालों को ढूंढ़ रहा है. आप भी तो उन में से एक नहीं है न. यदि हैं, तो बच कर रहिए.

दुल्हन बनने से पहले: रत्ना की सूनी निगाहें क्यों दीवार ताकने लगीं

ढोलक की थाप पर बन्नाबन्नी गाती सहेलियों और पड़ोस की भाभियों का स्वर छोटे से घर को खूब गुलजार कर रहा था. रत्ना हलदी से रंगी पीली साड़ी में लिपटी बैठी अपनी सहेलियों के मधुर संगीत का आनंद ले रही थी. बन्नाबन्नी के संगीत का यह सिलसिला 2 घंटे से लगातार चल रहा था.

बीचबीच में सहेलियों और भाभियों के बीच रसिक कटाक्ष, हासपरिहास और चुहलबाजी के साथ स्वांग भी चलने लगता तो अम्मा आ कर टोक जातीं, ‘‘अरी लड़कियो, तुम लोग बन्नाबन्नी गातेगाते यह ‘सोहर’ के सासबहू के झगड़े क्यों अलापने लगीं?’’

थोड़ीबहुत सफाई दे कर वे फिर बन्नाबन्नी गाने लगतीं. अम्मा रत्ना को उन के बीच से उठा कर ‘कोहबर’ में ले गईं. बाहर बरामदे में उठते संगीत का स्वर कोहबर में बैठी रत्ना को अंदर तक गुदगुदा गया :

‘‘मेरी रुनकझुनक लाड़ो खेले गुडि़या

बाबा ऐसा वर खोजो

बीए पास किया हो,

बीए पास किया हो.

विलायत जाने वाला हो,

विलायत जाने वाला…’’

उस का वर भी तो विलायत में रहने वाला है. जी चाहा कि वह भी सहेलियों के बीच जा बैठे.

उस का भावी पति अमेरिका में इंजीनियर है. यह सोचसोच कर ही जबतब रत्ना का मन खुशी से भर उठता था. कोहबर में बैठेबठे वह कुछ देर के लिए विदेशी पति से मिलने वाली सुखसुविधाओं की कल्पना में खो गई. वह बारबार सोच रही थी कि वह कैसे अपने खूबसूरत पति के साथ अमेरिका घूमेगी, सुखसमृद्धि से सुसंपन्न बंगले में रहेगी और अपनी मोटरगाड़ी में घूमेगी. वहां हर प्रकार के सुख के साधन कदमकदम पर बिछे होंगे.

एकाएक उसे अपने मातापिता की उस प्रसन्नता की भी याद आई जो उसे सुखी देख कर उन्हें प्राप्त होगी. उस प्रसन्नता के आगे तो उसे अपने सुख के सपने बड़े सतही और ओछे नजर आने लगे.

वह सोचने लगी, ‘अम्मा और पिताजी बेटियों से उबर जाएंगे. दीदी की शादी से ही उन की आधी कमर टूट गई थी. घर के खर्चों में भारी कटौती करनी पड़ी थी. कई तरह के कर्जे भरतेभरते दोनों तनमन से रिक्त हो गए थे. रत्ना के नाम से जमा रकम भी बहुत कम थी. उस में वे हाथ भी नहीं लगाते कि कब देखते ही देखते रत्ना भी ब्याहयोग्य हो जाएगी और वे कहीं के नहीं रहेंगे.’

लेकिन रत्ना की शादी के लिए उन्हें कोई कर्ज नहीं लेना पड़ा. आनंद के परिवार वालों ने दहेज के लिए सख्त मना कर दिया था. अमेरिका में उसे किसी बात की कमी न थी.

रत्ना ने कोहबर की दीवारों पर नजर दौड़ा कर देखा, जगहजगह से प्लास्टर उखड़ा था. छत की सफेदी पपड़ी बनबन कर कई जगह से झड़ गई थी. दीदी की शादी के बाद घर में सफेदी तो दूर, मरम्मत जैसे जरूरी काम तक नहीं हो पाए थे. भंडारघर की चौखट दीवार छोड़ने लगी थी. रसोई के फर्श में जगहजगह गड्ढे बन गए थे. छत की मुंडेर कई जगह से टूट कर गिरने लगी थी.

कोहबर में बैठी रत्ना सोचने लगी, ‘अम्मापिताजी के दुख के दिन समाप्त होने वाले हैं. अब तो पिताजी के सिर्फ 40-50 हजार रुपए ही खर्च होंगे. बाकी जो 40-50 हजार रुपए और बचेंगे उन से वे पूरे घर की मरम्मत करा सकेंगे. अब पैसा जोड़ना ही किस के लिए है? मुन्ना की पढ़ाई का खर्च तो वे अपने वेतन से ही चला लेंगे.

‘जब सारी दीवार के उधड़े प्लास्टर की मरम्मत हो जाएगी और ऊपर से पुताई भी, तो दीवार कितनी सुंदर लगेगी. फर्श के भी सारे गड्ढे भर कर चिकने हो जाएंगे. मां को घर में पोंछा लगाने में आसानी होगी. फर्श की दरारों में फंसे गेहूं के दाने, बाल के गुच्छे, आलपीन वगैरह चाकू से कुरेदकुरेद कर नहीं निकालने पड़ेंगे…’

यही सब सोचसोच कर रत्ना पुलकित हो रही थी.

रत्ना के भावी पति का नाम आनंद था. आनंद के प्रति कृतज्ञता ने रत्ना के रोमरोम में प्यार और समर्पण भर दिया. बिना भांवर फिरे ही रत्ना आनंद की हो गई.

तभी बाहर के शोरगुल से उस के विचारों को झटका लगा और वह खयालों के आसमान से उतर कर वास्तविकता के धरातल पर आ गई.

‘‘कोई आया है.’’

‘‘बड़ी मौसी आई हैं.’’

‘‘दीदी आई हैं.’’

इन सम्मिलित शोरशराबे से रत्ना समझ गई कि पटना वाली मौसी आई हैं.

बहुत हंसोड़, खूब गप्पी और एकदम मुंहफट, घर अब शादी के घर जैसा लगेगा. कभी हलवाइयों के पास जा कर वे जल्दी करने का शोर मचाएंगी, घीतेल बरबाद नहीं करने की चेतावनी देंगी, तो कभी भंडार से सामान भिजवाने की गुहार लगाएंगी. इसी बीच ढोलक के पास बैठ कर बूआ लोगों को दोचार गाली भी गाती जाएंगी.

मां को धीरे से कभी किसी से सचेत कर जाएंगी तो कभी कुछ सलाह दे जाएंगी. दहेज का सामान देखने बैठेंगी तो छूटाबढ़ा कुछ याद भी दिला देंगी. बुलंद आवाज से खूब रौनक लगाएंगी. यह सब सोचतेसोचते रत्ना का धैर्य जाता रहा. वह जल्दीजल्दी कोहबर की लोकरीति खत्म कर बाहर आ गई.

रत्ना ने देखा कि मौसी का सामान अंदर रखा जा चुका था. मौसी भी अंदर आ तो गई थीं पर यह क्या? कैसा सपाट चेहरा लिए खड़ी हैं? शादी के घर में आने की जैसे कोई ललक ही न हो. कहां तो बिना वजह इस उम्र में भी चहकती रहती हैं और कहां चहकने के माहौल में जैसे उन्हें सांप सूंघ गया हो.

मां ने बेचैनी भरे स्वर में पूछा, ‘‘क्या बात है दीदी, क्या बहुत थक गई हो?’’

‘‘हूं, पहले पानी पिलाओ. फिर इन गानेबजाने वालियों को विदा करो तो बताऊं क्या बात है?’’ मौसी ने समय नष्ट किए बिना ही इतना कुछ कह दिया.

मां ने जैसे अनिष्ट को भांप लिया हो, फिर भी साहस कर आशंकित हो कर पूछा, ‘‘क्या हुआ, दीदी? गानाबजाना क्यों बंद करा दूं? यह तो गलत होगा. जल्दी कहो, दीदी, क्या बात है?’’

‘‘बैठो सुमित्रा, बताती हूं. अब समय बहुत कम है, इसलिए तुरंत निर्णय ले लो. हिम्मत से काम लो और अपनी रत्ना को बचा लो,’’ मौसी ने बैठेबैठे ही मां की दोनों हथेलियां अपनी मुट्ठी में दबा लीं.

‘‘जल्दी बताओ दीदी, कहना क्या चाहती हो?’’ घबराहट में जैसे मां के शब्द ही सूख गए. चेहरा ऐसा लग रहा था जैसे दिल का दौरा पड़ गया हो. मौसी भी घबरा गईं लेकिन समय की कमी देखते हुए उन्हें बात जल्दी से जल्दी कहनी थी वरना कोई और बुरा हादसा हो जाता. अभी तो ये अपनी बात कह कर सुमित्रा को संभाल भी लेंगी और जो सदमा देने जा रही थीं, उसे साथ रह कर बांट भी लेंगी.

‘‘सुनो सुमित्रा, जिस आनंद को तुम रत्ना का पल्लू से बांध रही हो वह पहले से ही शादीशुदा है.’’

सुमित्रा की भौंहें तन गईं, ‘‘क्या कह रही हो, दीदी? जिस ने यह शादी तय कराई है वह क्या इस बात को छिपा कर रखेगा?’’

‘‘हां सुमित्रा, शांत हो जाओ और धीरज धरो, या तो उस ने बात छिपाई होगी या लड़के वालों ने उस से बात छिपाई होगी. मैं तो कल ही आ जाती, लेकिन इस बात की सचाई का पता लगाने के लिए कल आरा चली गई थी. वहां मुझे दिनभर रुकना पड़ा, नहीं तो कल पहुंच जाती तो बात संभालने के लिए तुम लोगों को भी समय मिल जाता. खैर, अभी भी बिगड़ा कुछ नहीं है. किसी तरह समय रहते सबकुछ तय कर ही लेना है.’’

रत्ना के पैर थरथराने लगे. लगा कि वह गिर पड़ेगी. मौसी ने इशारे से रत्ना को पास बुलाया और हाथ पकड़ कर बगल में बिठा लिया.

‘‘दुखी मत हो बेटी, संयोग अच्छा है. समय रहते सचाई का पता चल गया और तुम्हारी जिंदगी बरबाद होने से बच गई.’’

मौसी के दिलासा दिलाने के बावजूद रत्ना को आंसू रोकना मुिश्कल हो रहा था.

रत्ना के पिता ने अधीर हो कर पूछा, ‘‘आप को कैसे पता चला कि आनंद शादीशुदा है?’’

समय की कमी देखते हुए मौसी ने जल्दीजल्दी बताया, ‘‘पटना में रत्ना के मौसा के दफ्तर में विष्णुदेवजी काम करते हैं. मैं यहां आने से ठीक एक दिन पहले उन के घर गई थी. उन्हें मैं ने बताया कि मैं अपनी बहन की लड़की की शादी में गया जा रही हूं. फिर उन्हें मैं ने बातोंबातों में आनंद के परिवार के बारे में भी बताया. बीच में ही उन की पत्नी उठ कर अंदर चली गईं. आईं तो एक एलबम लेती आईं. उस में एक जोड़े का फोटो लगा था, दिखा कर बोलीं, ‘यही आनंद तो नहीं है?’ फोटो देख कर मैं तो जैसे आकाश से गिर पड़ी. वह उसी आनंद का फोटो था. तुम ने मुझे देखने के लिए जो भेजी थी, वैसी आनंद की एक और फोटो उस एलबम में लगी थी. फिर जब सारे परिवार की बात चली तो शक की बिलकुल गुंजाइश ही नहीं रह गई, क्योंकि तुम ने तो सब विस्तार से लिख ही भेजा था.’’

रत्ना की मां आगे सुनने का धैर्य नहीं जुटा पाईं. वे अपनी बहन की हथेली पकड़ेपकड़े ही रोने लगीं, ‘‘हाय, अब क्या होगा? बरात लौटाने से तो पूरी बिरादरी में ही नाक कट जाएगी.’’

अब तक रत्ना भी जी कड़ा कर संयत हो गई थी. दुख और क्षोभ की जगह क्रोध और आवेश ने ले ली थी, ‘‘नाक क्यों कटेगी मां? नाक कटाने वाला काम हम लोगों ने किया है या उन्होंने?’’ रत्ना के पिता ने सांस भर कर कहा, ‘‘ये सारे इंतजाम व्यर्थ हो गए. अब तक का सारा खर्च पानी में…’’ बीच में ही उन का भी गला भरभराने लगा तो वे भी चुप हो गए.

इस समय पूरे घर का संबल जैसे रत्ना की बड़ी मौसी ही हो गईं, ‘‘क्यों दिल छोटा कर रहे हो तुम लोग? समय रहते बच्ची की जिंदगी बरबाद होने से बच गई. क्या इस से बढ़ कर खर्च का अफसोस है? यह सोचो कि अगर शादी हो जाती तो रत्ना कहीं की न रहती. तुम लोग धीरज से काम लो, मैं सब संभाल लूंगी. अभी कुछ बिगड़ा भी नहीं है, और समय भी है. मैं जा कर सब से पहले शामियाने वाले और सजावट वालों को विदा करती हूं. फिर इन लड़कियों और पड़ोसिनों को संभाल लूंगी. जो सामान बना नहीं है वह सब वापस हो जाएगा और जो पक गया है उसे हलवाइयों से कह कर होटलों में खपाने का इंतजाम करवाती हूं.’’

फिर तो मौसी ने सबकुछ बड़ी तत्परता से संभाल लिया. मांपिताजी और रत्ना तीनों को तो जैसे काठ मार गया हो. हमेशा चहकने वाला मुन्ना भी वहीं चुपचाप मां के पास बैठ गया. बाकी सगेसंबंधी समय की नाजुकता समझते हुए चुपचाप इधरउधर कमरों में खिसक लिए. सब तरफ धीमेधीमे खुसुरफुसुर में बात जानने की उत्सुकता थी पर स्थिति की नाजुकता को देखते हुए मुंह खोल कर कोई कुछ पूछ नहीं रहा था. सभी शांति से मौसी के आने के इंतजार में थे.

एकडेढ़ घंटे में सब मामला सुलझा कर, एकदो नजदीकी रिश्तेदारों को हर अलगअलग विभाग को निबटाने की जिम्मेदारी दे कर, मौसी अंदर आईं. अब इस थकान में उन्हें एक कप चाय की जरूरत महसूस हुई. महाराजिन से सब के लिए चाय भिजवाने का आदेश जारी करते हुए मां से बोलीं, ‘‘सुमित्रा, तुम जरा भी निराश मत हो. मैं रत्ना के लिए बढि़या से बढि़या लड़का ला कर खड़ा कर दूंगी. और वह भी जल्दी ही. जिस आनंद की तुम ने इतनी तारीफ लिख कर भेजी थी, वह दोदो शादियां रचाए बैठा है. विष्णुदेव के बड़े भैया की आरा में फोटोग्राफी की बहुत बड़ी दुकान है. उन्हीं की लड़की से शादी हुई थी उस धोखेबाज आनंद की. विष्णुजी के भैया ने खूब धूमधाम से अपनी बेटी की शादी की थी. लड़की भी बेहद खुश थी. एक हफ्ते ससुराल रह कर आई तो आनंद की खूब तारीफ की. आनंद 15 दिन रह कर अमेरिका चला गया. बहुत दिन तक आनंद के मातापिता कहते रहे कि बहू का वीजा बना नहीं है, बन जाएगा तो चली जाएगी. वैसे बहू को वे लोग भी प्यार से ही रखते थे.

‘‘लेकिन 3-4 माह बाद ही आनंद ने अपनी बीवी को पत्र लिखा कि ‘मुझे बारबार बुलवाने के लिए पत्र लिख कर तंग मत करो. मैं तुम्हें अंधेरे में रख कर परेशान नहीं करूंगा. मैं तुम्हें अमेरिका नहीं बुला सकता क्योंकि यहां मेरी पत्नी है जो 3 साल से मेरा साथ अच्छी तरह निभा रही है.

‘‘‘मेरे मांबाप को एक हिंदुस्तानी बहू की जरूरत थी, सो तुम से शादी कर मैं ने उन्हें बहू दे दी. मेरा काम खत्म हुआ. अब तुम उन की बहू बन कर उन्हें खुश रखो. वे भी तुम्हें प्यार से रखेंगे. मैं भी हिंदुस्तान आने पर जहां तक संभव होगा, तुम्हें प्यार और सम्मान दूंगा लेकिन अमेरिका आने की जिद मत करना. वह मेरे लिए संभव नहीं होगा.’

‘‘इस के बाद विष्णुजी के भैयाभाभी बेटी को हमेशा के लिए ससुराल से लिवा लाए. तलाक का नोटिस भिजवा दिया. हालांकि आनंद के मातापिता ने बहुत दबाव डाला कि बहू को छोड़ दें. वे कह रहे थे, ‘इसी की सहायता से हम लोग आनंद को हिंदुस्तान लाने में सफल होंगे. आनंद हम लोगों को बहुत प्यार करता है. देरसवेर उसे अमेरिकी बीवी को ही छोड़ना पड़ेगा.’ लेकिन विष्णुदेव के भैयाभाभी नहीं माने और समधी को इस धोखे के लिए खरीखोटी सुनाईं. तलाक भी जल्दी ही मिल गया. लेकिन जरा उन लोगों की धृष्टता तो देखो, इतना सबकुछ हो जाने के बाद भी हिंदुस्तानी बहू लाने का चाव गया नहीं है. फिर लड़के को देखो, वह कैसे दोबारा फिर सेहरा बांधने को तैयार हो गया.’’

किसी दूसरे के घर की यह घटना होती तो मौसी बड़ी रसिकता से आनंद के परिवार के साथसाथ उस से जुड़ने वाले बेबस परिवार को भी अपने परिहास की परिधि में लपेटने से नहीं चूकतीं. पर यहां मामला अपनी सगी बहन का था और इस संकट में उन का अवलंबन भी वही थीं. इसलिए वे पूरी संजीदगी के साथ स्थिति को विस्फोटक होने से बचाए हुए थीं.

‘‘मौसी, लड़के की अक्ल पर क्या परदा पड़ा है जो वह मांबाप के इस बेहूदा खेल में दोबारा शामिल हो रहा है?’’ अभी तक रत्ना जिसे मन ही मन महान समझ रही थी, उस के प्रति उस का तनमन वितृष्णा और घृणा से भर उठा.

‘‘अरी बेटी, अनदेखे लड़की वालों के घर से उसे क्या सहानुभूति होगी? हिंदुस्तान आने पर मांबाप फिर हिंदुस्तानी बहू की रट लगा देते होंगे, अपने अकेलेपन की दुहाई देते होंगे. रातदिन के अनुरोध को टालना उस के बस की बात नहीं रहती होगी.’’

‘‘सुना है, अभी भी वह मांबाप का बड़ा आदर करता है और उन से डरता भी है. अमेरिका जा कर वह जरा भी नहीं बदला है. बस, अमेरिका वाली ही उस के दिल का रोग हो गई है, जो सुना है कि हिंदुस्तान नहीं आना चाहती. हिंदुस्तान में मांबाप के साथ शांति से एकदो महीने गुजर जाएं और मौजमस्ती के लिए एक पत्नी भी मिल जाए, इस से बढि़या क्या होगा. शायद इसीलिए वह दोबारा शादी करने के लिए राजी हो गया होगा.’’

सबकुछ सुन कर रत्ना के मातापिता मोहन व सुमित्रा तो वहीं तख्त पर निढाल से पड़ गए. सुमित्रा की आंखों से अविरल आंसू बह रहे थे. रत्ना के पास भी अब उपयुक्त शब्द नहीं थे जो वह मां को चुप कराती. उस के तो हृदय में स्वयं एक मर्मांतक शूल सा उठ रहा था. सारे रिश्तेदार चुपचाप अपनेअपने कमरों में जा कर तय करने लगे कि जल्द से जल्द किस गाड़ी से वापस लौटा जाए? किसी ने भी मोहन और सुमित्रा पर आर्थिक और मानसिक बोझ बढ़ाना उचित नहीं समझा.

रत्ना के ताऊजी ने पुलिस कार्यवाही करने की सलाह दी. लेकिन मोहनजी ने भीगे और टूटे स्वर में कहा, ‘‘अब यह सब करने से हमें क्या फायदा होगा? उलटे मुझे ही शारीरिक, मानसिक और आर्थिक कष्ट होगा. उत्साह का काम होता तो शरीर भी सहर्ष साथ देता और पैसे की भी चिंता नहीं होती.’’

अपने मनोभावों को पूरी तरह व्यक्त करने की शक्ति भी मोहनजी में नहीं रह गई थी. इसलिए यही तय किया गया कि बरातियों को अपमानित कर के ही उसे दंडित किया जाए.

किया भी यही गया. बराती संख्या में बहुत कम थे. स्वागत तो दूर, उन्हें बैठने तक को नहीं कहा गया. चारों तरफ से व्यंग्यबाण बरसाए जा रहे थे. आनंद के पिता हर तरह से सफाई देने की कोशिश में थे, किंतु कोई कुछ सुनने को तैयार नहीं था. बरात में आए एकदो बुजुर्गों ने भी सुलह करने का परामर्श देना चाहा तो कन्या पक्ष वालों ने उन्हें भी बुरी तरह से लताड़ा.

रिश्तेदारों की निगाहों से बच कर रत्ना चुपचाप अकेली कोहबर में आ गई. बाहर उठता शोर रत्ना के कानों में सांपबिच्छू के दंश सा कष्ट दे रहा था. हालात ने उसे आशक्त, असमर्थ और जड़ बना दिया था. कांपते हाथों से धीरेधीरे वह विवाह के लिए पहनी जाने वाली पीली साड़ी उतारने लगी. दो चुन्नट खोलतेखोलते जैसे शक्ति क्षीण होने लगी. पास पड़ी पीढ़ी पर निढाल सी बैठ गई. रत्ना की सूनी निगाहें दीवार ताकने लगीं, ‘अब इन दीवारों पर प्लास्टर नहीं होगा, पुताई…’ आगे सोचने की भी सामर्थ्य जवाब दे गई और वह जोरजोर से हिचकियां भरने लगी.

कूल फूल: क्या हुआ था राजन के साथ

राजेश, विक्रम, सरिता, पिंकी और रश्मि कालेज के बाहर खड़े बातचीत में व्यस्त थे कि तभी एक बाइक तेजी से आ कर उन के पास रुक गई. वे सब एक तरफ हट गए. इस से पहले वे बाइक सवार को कुछ कहते उस ने हैलमैट उतारते हुए कहा, ‘‘क्यों कैसी रही ’’

वे फक्क रह गए, ‘‘अरे, राजन तुम,’’ सभी एकसाथ बोले.

‘‘बाइक कब ली यार ’’ विक्रम ने पूछा.

‘‘बस, इस बार जन्मदिन पर डैड की ओर से यह तोहफा मिला है,’’ कहते हुए वह सब को बाइक की खासीयतें बताने लगा.

राजन अमीर घर का बिगड़ा हुआ किशोर था. हमेशा अपनी लग्जरीज का घमंड दिखाता और सब पर रोब झाड़ता, लेकिन वे तब भी साथ खातेपीते और उस से घुलेमिले ही रहते. रश्मि को राजन का इस तरह बाइक ला कर बीच में खड़ी करना और रोब झाड़ना बिलकुल अच्छा नहीं लगा. वे सभी कालेज के फर्स्ट ईयर के विद्यार्थी थे. लेकिन रश्मि 12वीं तक स्कूल में राजन के साथ पढ़ी थी इसलिए वह अच्छी तरह उस के स्वभाव से वाकिफ थी. सरिता व पिंकी तो हमेशा उस से खानेपीने के चक्कर में रहतीं, अत: एकदम बोल पड़ीं, ‘‘कब दे रहे हो पार्टी बाइक की ’’

‘‘हांहां, बस, जल्दी ही दूंगा. ऐग्जाम्स खत्म होते ही खाली होने पर करते हैं पार्टी,’’ राजन लापरवाही से बोला और बाइक स्टार्ट कर घरघराता हुआ चला गया. रश्मि सरिता व पिंकी से बोली, ‘‘मुझे तो बिलकुल अच्छा नहीं लगा इस का यह व्यवहार, हमेशा रोब झाड़ता रहता है अपनी अमीरी का. उस पर तुम लोग उस से पार्टी की उम्मीद करते हो. याद है, पिछली बार उस ने फोन की पार्टी देने के नाम पर क्या किया था.’’

‘‘हां…हां, याद है,’’ पास खड़ी सरिता बोली, ‘‘उस ने पार्टी के नाम पर बेवकूफ बनाया था, यही न. लेकिन तुम्हें पता है न अचानक उस के मामा की तबीयत खराब हो गई थी जिस कारण वह पार्टी नहीं दे सका था.’’

दरअसल, राजन का जन्मदिन 20 मार्च को होता था और पिछले वर्ष उसे जन्मदिन पर स्मार्टफोन मिला था. उस ने सब को दिखाया. फिर पार्टी का वादा भी किया, लेकिन आया नहीं. बाद में सब ने पूछा तो कह दिया कि मामाजी की तबीयत खराब हो गई थी, जबकि रश्मि जानती थी कि ऐसा कुछ नहीं था. बस, वह सब को मूर्ख बना रहा था. अब तो बाइक मिलने पर राजन का घमंड और बढ़ गया था. वह तो पहले ही अपने सामने किसी को कुछ नहीं समझता था. अत: राजन ने सब को कह दिया, ‘‘ऐग्जाम्स के बाद मैं सभी को एसएमएस कर के बता दूंगा कि कहां और कब पार्टी दूंगा.’’

शाम को सरिता घर में बैठी अगले दिन के पेपर की तैयारी कर रही थी कि रश्मि का फोन आया. बोली, ‘‘राजन का मैसेज आया है. 1 तारीख को दोपहर 1 बजे शिखाजा रैस्टोरैंट में पार्टी दे रहा है. जाओगी क्या ’’

‘‘हां, यार, मैसेज तो अभीअभी मुझे भी आया है. जाना भी चाहिए. तुम बताओ ’’ सरिता ने जवाब दिया.

‘‘मुझे तो उस पर रत्तीभर भरोसा नहीं है. सुबह वह कह रहा था ऐग्जाम्स के बाद पार्टी देगा और अब यह मैसेज. फिर मैं तो पिछली बार की बात भी नहीं भूली,’’ रश्मि साफ मना करती हुई बोली, ‘‘मैं तो नहीं जाऊंगी.’’

तभी राजेश का भी फोन आया और उस ने भी रश्मि को बताया कि राजन ने उसे व विक्रम को भी मैसेज किया है. सब चलेंगे दावत खाने. रश्मि बोली, ‘‘भई, पहले कन्फर्म कर लो, कहीं अप्रैल फूल तो नहीं बना रहा सब को  मैं तो जाने वाली नहीं.’’

पहली तारीख को सभी इकट्ठे हो रश्मि के घर पहुंच गए और उसे भी चलने को कहने लगे. रश्मि के लाख मना करने के बावजूद वे उसे साथ ले गए. शिखाजा रैस्टोरैंट पहुंच कर सभी राजन का इंतजार करने लगे, लेकिन राजन का कहीं अतापता न था. वेटर 2-3 बार और्डर हेतु पूछ गया था. जब उन्होंने फोन पर राजन से संपर्क किया तो उस का फोन स्विचऔफ आ रहा था. काफी देर इंतजार के बाद उन्होंने रैस्टोरैंट में अपनेअपने हिसाब से और्डर दिया और थोड़ाबहुत खापी कर वापस आ गए. उन्हें न चाहते हुए भी अपनी जेब ढीली करनीपड़ी. जब वे सभी घर पहुंच गए तो राजन का मैसेज सभी के पास आया, ‘‘कैसी रही पार्टी अप्रैल फूल की ’’ सभी अप्रैल फूल बन कर ठगे से रह गए थे. ‘राजन ने हमें अप्रैल फूल बनाया’ सभी सोच रहे थे, ‘और हम लालच में फंस गए.’

रश्मि बारबार उन्हें कोस रही थी, ‘‘मैं तो मना कर रही थी पर तुम ही मुझे ले गए. खुद तो मूर्ख बने मुझे भी बनाया.’’

घर आ कर रश्मि ने अपनी मां को सारी बात बताई और राजन को कोसने लगी. मां ने उस की पूरी बात सुनी और बोलीं, ‘‘कूल रश्मि कूल.’’

‘‘कूल नहीं मां, फूल कहो फूल, हम तो जानतेसमझते मूर्ख बने,’’ रश्मि गुस्से से बोली.

‘‘रश्मि, अगर अप्रैल फूल बने हो तो गुस्सा कैसा  यह दिन तो है ही एकदूसरे को मूर्ख बनाने का. तुम भी तो कई बार झूठमूठ डराती हो मुझे इस दिन. कभी कहती हो तुम्हारी साड़ी पर छिपकली है तो कभी गैस जली छोड़ देने का झूठ. फिर जब मुझे पता चलता है तो तुम गाना गाती हो और मुझे चिढ़ाती हो, ‘अप्रैल फूल बनाया…’

‘‘अगर फूल बन ही गए हो तो कुढ़ने से कुछ होने वाला नहीं. सोचो, कैसे राजन को भी तुम अप्रैल फूल बना सकते हो,’’ मां ने सुझाया. अब रश्मि शांत हो गई और कुछ सोचने लगी. फिर उस ने सभी दोस्तों को फोन कर अपने घर बुलाया और राजन को फूल बनाने की तरकीब सोचने को कहा. सभी राजन को भी मूर्ख बना कर बदला लेना चाहते थे. फिर उन्होंने भी राजन को मूर्ख बनाने की तरकीब सोचनी शुरू की. थोड़ी देर बाद रश्मि ही बोली, ‘‘मेरे दिमाग में एक आइडिया आया है. हम राजन को कूल फूल बनाएंगे. उस ने हमें फोन पर एसएमएस कर मूर्ख बनाया है, हम भी उसे फोन के जरिए मूर्ख बनाएंगे. सुनो…’’ कहते हुए उस ने अपनी योजना बताई.

शाम को राजन घर के अहाते में फोन पर बातचीत कर रहा था. उस की बाइक आंगन में खड़ी थी. तभी रश्मि उस के घर पहुंची. उसे देखते ही राजन बोला, ‘‘आओआओ रश्मि, कैसे आना हुआ ’’ रश्मि सोफे पर बैठते हुए बोली, ‘‘वाह राजन, आज तो तुम ने सभी को अच्छा मूर्ख बनाया. अच्छा हुआ मैं तो गई ही नहीं थी,’’ उस ने झूठ बोला.

‘‘अरे भई, तुम्हारी पार्टी तो ड्यू है ही. यह तो वैसे ही मैं ने मजाक किया था. बैठो, मैं तुम्हारे लिए कुछ खाने को लाता हूं,’’ कह कर राजन घर के अंदर गया. वह अपना फोन मेज पर ही छोड़ गया था. रश्मि तो थी ही मौके की तलाश में. उस ने झट से राजन का फोन उठाया और भाग कर आंगन में जा कर राजन की बाइक का फोटो खींच कर उसी के फोन से ओएलएक्स डौट कौम पर बेचने के लिए डाल दिया. कीमत भी सिर्फ 10 हजार रुपए रखी. फिर वापस वैसे ही फोन रख दिया. राजन रश्मि के लिए खानेपीने को लाया. रश्मि ने 2 बिस्कुट लिए और बोली, ‘‘चलती हूं, तुम्हें फूल डे की कूल शुभकामनाएं. अच्छा है अभी तक तुम्हें किसी ने फूल नहीं बनाया और तुम ने सब दोस्तों को एकसाथ बना दिया,’’ और मुसकराती हुई चल दी.

अभी रश्मि घर के गेट तक ही पहुंची थी कि राजन के मोबाइल की घंटी बज उठी, ‘‘आप अपनी बाइक बेचना चाहते हैं न, मैं खरीदना चाहता हूं क्या अभी आ जाऊं ’’

‘‘क्या ’’ राजू सकपकाता हुआ बोला, ‘‘कौन हैं आप  किस ने कहा कि मैं ने अपनी बाइक बेचनी है. अरे, अभी चार दिन पहले ही तो खरीदी है मैं ने. मैं क्यों बेचूंगा ’’ कहते हुए उस ने फोन काट दिया. रश्मि अपनी योजना सफल होती देख मुसकराई और तेजी से घर की ओर चल दी. गुस्से में राजन ने फोन काटा ही था कि एक एसएमएस आ गया. ‘मैं आप की बाइक खरीदने में इंट्रस्टेड हूं. आप के घर आ जाऊं ’ राजन इस अनजान बात से बहुत आहत हुआ. आखिर थोड़ी ही देर में ऐसा क्या हुआ कि इतने फोन व एसएमएस आने लगे. उस ने तो कुछ भी ओएलएक्स पर नहीं डाला. उस के पास अब लगातार एसएमएस और फोन आ रहे थे. वह अभी एसएमएस के बारे में सोच ही रहा था कि तभी एक एसएमएस आया. वह मैसेज देखना नहीं चाहता था. लेकिन उस ने स्क्रीन पर देखा तो चौंका, मैसेज रश्मि का था.

‘अरे, रश्मि का मैसेज,’ सोच उस ने जल्दी से इनबौक्स में देखा तो पढ़ कर दंग रह गया. लिखा था, ‘क्यों, कैसा रहा हमारा रिटर्न अप्रैल फूल बनाना. तुम ने हमें रैस्टोरैंट में बुला कर फूल बनाया और हम ने तुम्हें तुम्हारे ही घर आ कर.’ राजन का गुस्सा सातवें आसमान पर था. उस ने आननफानन में बाइक उठाई और रश्मि के घर चल दिया. रश्मि के घर पहुंचा तो उस के घर सभी दोस्तों को इकट्ठा देख कर दंग रह गया. फिर तमतमाता हुआ बोला, ‘‘तुम मुझे मूर्ख समझते हो. मुझे फूल बनाते हो.’’

‘‘कूल बच्चे कूल. हम ने तुम्हें फूल बनाया है इसलिए गुस्सा थूक दो और सोचो तुम ने हमें रैस्टोरैंट में एकत्र कर मूर्ख नहीं बनाया क्या. तब हमें कितना गुस्सा आया होगा ’’

‘‘हां, पर तुम ने तो मेरी प्यारी बाइक ही बिकवाने की प्लानिंग कर दी.’’

तभी सभी दोस्त हाथ जोड़ कर खड़े हो गए और बोले, ‘‘कूल यार कूल… हमारा मकसद तुम्हें गुस्सा दिलाना नहीं था बल्कि तुम्हें एहसास दिलाना था कि तुम ऐसी हरकत न करो. पिछले साल भी तुम ने मूर्ख दिवस पर पार्टी रख हमें मूर्ख बनाया था. तब तो हम तुम्हारा बहाना भी सच मान गए थे पर इस बार फिर तुम ने ऐसा किया… क्या हम हर्ट नहीं होते ’’ ‘‘हां, लेकिन तुम ने यह सब किया कैसे  मैं तो तुम से पूरे दिन मिला भी नहीं,’’ राजन ने दोस्तों से पूछा.

‘‘तुम नहीं मिले तो क्या. रश्मि तो मिली थी तुम्हें तुम्हारे घर पर,’’ सरिता बोली.

फिर रश्मि ने उसे सारी बात बता दी. ‘‘रश्मि तुम…’’ दांत भींचता हुआ राजन अभी बोला ही था कि अंदर से रश्मि की मां पकौडे़ की प्लेट लेती हुई आईं और बोलीं, ‘‘कूल…फूल…कूल. इस तरह झगड़ते नहीं. अगर मजाक करते हो तो मजाक सहना भी सीखो. मुझे रश्मि ने सब बता दिया है. आओ, पकौड़े खाओ. मैं चाय लाती हूं,’’ कहती हुई मां किचन की ओर मुड़ गईं.

‘‘आंटी, आप भी मुझे फूल कह रही हैं,’’ राजन आगे कुछ बोलता इस से पहले ही रश्मि ने उस के मुंह में पकौड़ा ठूंस दिया और बोली, ‘‘कूल यार फूल… कूल.’’ यह देख सब हंसने लगे और ठहाकों के बीच पकौड़े खाते पार्टी का आनंद उठाने लगे. राजन पकौड़े खातेखाते अपने फोन से बाइक का स्टेटस डिलीट करने लगा.

थोड़ी सी जमीं थोड़ा आसमां: क्या थी कविता की कहानी

family story in hindi

बताएं कि हम बताएं क्या: मनोज ने क्या किया था

‘उई मां, मैं लुट गई’ के आर्तनाद के साथ वह दीवार के साथ लग कर फर्श पर बैठ गई.

कई दिनों से मुझे बुखार ने अपने लपेटे में ले रखा था और लीना आज डाक्टर के पास मेरी ब्लड रिपोर्ट लेने गई थी. मैं ने सोचा रास्ते में जाने उस ने किस रिश्तेदार के बारे में कौन सी मनहूस खबर सुन ली कि घर आते ही दुख को बरदाश्त न कर पाई और बिलख पड़ी.

तभी मेरे दिमाग की घंटियां बजीं कि अपने हाथों की चूडि़यां तोड़ना तो सीधे अपने सुहाग पर अटैक है. मैं ने जल्दी से अपने दिल की धड़कन को जांचा फिर नब्ज टटोली तो मुझे अपने जीवित होने पर कोई शक न रहा.

पलंग से उतर कर मैं लीना के पास पहुंचा और शब्दों में शहद घोल कर पूछा, ‘‘क्या हुआ?’’

‘‘दूर रहिए मुझ से,’’ लीना खुद ही थोड़ी दूर सरक गई और बोली, ‘‘आप को एड्स है.’’

‘‘मुझे… और एड्स…’’ मैं ने जल्दी से दीवार का सहारा लिया और गिरतेपड़ते बड़ी मुश्किल से अपने को संभाल कर पलंग तक ले गया.

‘‘हांहां, आप को एड्स है,’’ लीना ने सहमे स्वर में कहा, ‘‘मै

डा. गुप्ता के रूम में आप की ब्लड रिपोर्ट लेने बैठी थी. उन्होंने रिपोर्ट देखी और कहा कि पोजिटिव है. तभी उन का कोई विदेशी दोस्त आ गया. मुझे बाहर भेज कर वे दोनों आप के केस के बारे में विचार विमर्श करने लगे. बाहर बैठेबैठे मैं ने सुना कि वह इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि आप को एड्स है.’’

‘‘लीनाजी, मगर मुझे एड्स कैसे हो सकता है?’’ मैं ने थोड़ा संभल कर कहा, ‘‘मैं न तो बाहर दाढ़ी बनवाता हूं कि मुझे किसी एड्स रोगी के ब्लेड से कट लगा है. न ही आज तक किसी को अपना खून दियालिया कि किसी एड्स रोगी का खून मेरे शरीर में गया. यहां तक कि वर्षों से मुझे इंजेक्शन भी नहीं लगा है और वैसे भी आजकल डिसपोजेबल इंजेक्शन इस्तेमाल किए जाते हैं. यहां तक कि मेरे परिवार में भी किसी को यह बीमारी नहीं थी.’’

‘‘हूं,’’ हिंदी फिल्मों की खलनायिका की तरह लीना ने लंबी सांस छोड़ी, ‘‘फिर वह कौन थी?’’

‘‘वह कौन थी?’’ मैं ने दोहराया और उस की आंखों में इस सवाल का जवाब ढूंढ़ने लगा.

‘‘हां, मैं पूछती हूं, वह कौन थी?’’

‘‘वह कौन थी…ओ, वह कौन थी? तो भई ‘वह कौन थी’ एक फिल्म का नाम है, जिस में मनोज कुमार और साधना थे और कोई आत्मा…’’ मैं ने बतलाना चाहा.

मेरी इस हरकत पर आज लीना की आंखों में प्यार का सागर लहराने के बजाय लाल डोरे उभर आए और वह गुस्से में बोली, ‘‘मैं पूछती हूं कि वह कौन थी जिस से आप यह सौगात ले कर आए हैं?’’ लीना मेरे सामने आ खड़ी हुई.

‘‘लीनाजी, आप जो समझ रही हैं वैसी कोई बात नहीं है,’’ मैं ने लीना के कंधे पर हाथ रखा.

‘‘मत छुओ मुझे,’’ इतना कहते हुए लीना ने मेरा हाथ झटक दिया और फिर मोबाइल थामे वह दूसरे कमरे में चली गई.

थोड़ी देर बाद देखता क्या हूं कि 2 युवतियां कमरे के अंदर आ गईं. उन में से एक के गले में फ्लैश लगा कैमरा था. वह लड़की सुर्ख रंग की बिना बाजू की मिनी शर्ट और नीले रंग की स्लैक्स में थी. दूसरी लड़की ने सफेद सलवारकमीज पर काले रंग की जैकेट पहन रखी थी. उस के कंधे पर एक बैग लटका हुआ था.

अपने नाम की पुकार सुन लीना कमरे में आ गई और सिसकते हुए बारीबारी से दोनों के गले लगी.

‘‘घबराओ नहीं, हम सब संभाल लेंगे,’’ कैमरे वाली लड़की ने लीना की पीठ थपकते हुए कहा, ‘‘तो यह हैं तुम्हारे एड्स पीडि़त पति,’’ और इसी के साथ लड़की ने मुझे फोकस में ले कर 3-4 बार फ्लैश चमकाए.

‘‘मेरे फोटो क्यों ले रही हो?’’ यह कहते हुए मैं ने अपने चेहरे को हाथ से छिपाने का असफल प्रयास किया.

‘‘आप के फोटो कल समाचार- पत्रों में छापे जाएंगे ताकि जनता को पता चले कि इस शहर में भी कोई एड्स का मरीज है और तुम्हें देखते ही लोग पहचान जाएं,’’ उस ने मुझे बताया और फिर लीना से बोली, ‘‘दीदी, तुम तनिक इन के साथ लग कर बैठ जाओ ताकि मैं दुनिया को बता सकूं कि किस तरह एक आदर्श पत्नी, अपने एड्स रोगी पति की सेवा, अपनी सलामती की परवा किए बिना कर रही है.’’

लीना पलंग पर मुझ से सट कर ऐसे बैठी मानो हम स्टूडियो में बैठे हों और मेरे बालों में अपनी उंगलियों से कंघी करने लगी.

कैमरे वाली लड़की ने हमें फोकस में लिया और फ्लैश का झपाका हुआ.

इस के बाद लीना पलंग से मेढक की तरह कूद कर अपनी दोनों सहेलियों के पास पहुंच गई.

अब जैकेट वाली लड़की ने अपने कंधे पर लटके बैग से एक कागज निकाला जिस पर कोर्ट का टिकट लगा था.

‘‘लो, वकालतनामे पर दस्तखत करो, तुम्हारे तलाक का मुकदमा मैं

लड़ं ूगी. एड्स के रोगी के साथ तुम्हारी शादी पहली पेशी पर ही टूट जाएगी.’’

लीना ने अपनी सहेली के हाथ से पैन ले कर वकालतनामे पर दस्तखत घसीटे.

‘‘हां जनाब, अब आप अपनी उस ‘गर्लफ्रैंड’ का नाम बताएं जिस से आप को यह तोहफा मिला ताकि उस की तसवीरें और नामपता भी अखबार में छाप कर हम दूसरे भोलेभाले मर्दों को एड्स का शिकार होने से बचा सकें,’’ कैमरे वाली लड़की ने चुभती नजरों से मुझे देखा.

‘‘मगर मैं ऐसी किसी औरत को नहीं जानता और न ही मैं किसी दूसरी औरत के पास गया हूं.’’

‘‘ए मिस्टर,’’ जैकेट वाली लड़की बोली, ‘‘सीधी तरह बताएं कि वह कौन थी?’’

‘‘फिर वही ‘वह कौन थी?’ मैं ने कहा न मैं किसी ‘वह कौन थी’ को नहीं जानता,’’ मैं ने प्रोटेस्ट किया.

बाहर किसी ट्रक की गड़गड़ाहट को अनसुना कर मैं ने कहा, ‘‘आप मेरा विश्वास कीजिए, मैं किसी ‘वह कौन थी’ को नहीं जानता हूं.’’

‘‘विश्वास और तुम्हारा?’’ लीना के ताऊजी का गुस्से से भरा स्वर कानों में गूंजा.

मैं ने दरवाजे की ओर देखा तो लीना के ताऊजी, बलदेव भैया और 4 हट्टेकट्टे मजदूर अंदर आ गए. एक मजदूर के कंधे से रस्सी का गुच्छा लटक रहा था.

लीना अपने ताऊजी के गले लग कर रोने लगी और हिचकियों के बीच बोली, ‘‘ताऊजी, मैं लुट गई. बरबाद हो गई.’’

‘‘घबरा मत मेरी बच्ची, अब हम मनोज को लूटेंगे,’’ ताऊजी ने लीना के सिर पर हाथ फेर कर उसे पुचकारा. फिर वह मजदूरों की ओर पलटे, ‘‘घर का सामान उठा कर बाहर खड़े ट्रक में भर लो.’’

2 मजदूर फ्रिज और 2 सोफे की ओर बढे़. तभी मैं चिल्लाया और पलंग से उठ कर उन के बीच जा कर खड़ा हो गया कि किसी भी सामान को हाथ मत लगाना.

‘‘सामान हमारी बेटी का है और अब वह यहां नहीं रहेगी,’’ ताऊजी ने झाग छोड़ते हुए मुझ से कहा, ‘‘एक तरफ हट जाओ.’’

‘‘बलदेव भैया,’’ मैं ने उन की दुहाई दी, तो वह हाथी की तरह चिंघाड़े, ‘‘मुझे भैया कहा तो जबान खींच लूंगा,’’ और इसी के साथ उन्होंने अपना हाथ मेरे मुंह की ओर बढ़ाया. फिर जल्दी से हाथ पीछे खींच लिया.

‘‘आप लोग ऐसा नहीं कर सकते,’’ मैं ने ताऊजी को कहा.

‘‘हम क्याक्या कर सकते हैं यह हम तुम्हें अभी बताते हैं,’’ इतना कह कर ताऊजी मजदूरों की ओर मुडे़ और बोले, ‘‘अरे, तुम लोग देखते क्या हो, इसे इस पलंग पर डाल कर बांध दो.’’

3 मजदूरों ने मुझे बकरे की तरह गिरा कर दाब लिया और रस्सी वाले मजदूर ने मुझे पलंग से बांधना शुरू किया. एक तो बुखार की कमजोरी उस

पर हट्टेकट्टे मजदूरों की ताकत… मिनटों में पलंग के साथ जकड़ा बेबस पड़ा था.

चारों मजदूर जल्दीजल्दी घर का सामान बाहर ले जाने लगे.

लीना और उस की सहेलियां भी बाहर निकल गईं.

थोड़ी देर में ही खाली कमरे में वह पलंग रह गया जिस के ऊपर मैं बंधा पड़ा था.

‘‘अब इस को पलंग समेत उठाओ और बाहर ले चलो,’’  ताऊजी ने मजदूरों को आदेश सुनाया, ‘‘बलदेव बेटा, घर को ताला लगा कर चाबी साथ ले चलो.’’

मजदूरों ने मुझे पलंग समेत उठा लिया और दरवाजे की तरफ ले गए. पलंग चौड़ा होने से दरवाजे की चौखट में किसी अडि़यल नेता की तरह अड़ गया.

‘‘पलंग को थोड़ा तिरछा कर लो जी,’’ बलदेव ने मजदूरों को राय दी.

मजदूरों ने उन के बताए अनुसार पलंग को तिरछा कर उठाएउठाए ही दरवाजा पार कर लिया. उसे ले जा कर सड़क के किनारे रख दिया.

मैं पलंग से बंधा बेबस अपने सामान को देख रहा था जो ट्रक में बेतरतीब ढंग से रखा गया था. ट्रक के पास लीना, उस की दोनों सहेलियां, बलदेव भैया, ताऊजी और मजदूर खड़े थे. आसपड़ोस के कुछ लोग भी थे मगर वे घटनास्थल से काफी दूर खड़े थे. उन के चेहरों पर डर के भाव थे और वे सहमीसहमी निगाहों से मुझे ऐसे देख रहे थे जैसे मैं किसी दूसरे ग्रह का प्राणी हूं. कुछ एक ने तो अपनी नाक पर रूमाल ही टिका रखा था.

अब ताऊजी ने फरमान जारी किया कि इसे यहां से उठा कर सामने पार्क में किसी पेड़ के नीचे डाल दो.

चारों मजदूर पलंग की ओर बढ़े तो मैं बचाव में चिल्लाया और अपने को छुड़ाने की कोशिश करने लगा.

तभी मेरे घर के सामने एक कार आ कर रुकी तो मैं ने अपनी गरदन घुमा कर देखा.

कार में से डा. गुप्ता और एक लंबा, सुर्ख सफेद आदमी बाहर निकले.

सामान से भरे ट्रक पर एक नजर डालने के बाद डा. गुप्ता बोले, ‘‘लीनाजी, क्या मकान शिफ्ट कर रही हैं? तभी जल्दी में आप मनोजजी की रिपोर्ट भी क्लिनिक में छोड़ आईं,’’ फिर मेरी ओर देख कर डाक्टर बोले. ‘‘मनोजजी को ऐसे क्यों बांध रखा है? क्या बुखार सिर को चढ़ गया है?’’

‘‘नहीं, डाक्टर साहब, मुझे पार्क में डालने की तैयारी है,’’ लीना से पहले मैं बोल पड़ा.

‘‘मगर क्यों?’’

‘‘क्योंकि मुझे  एड्स है,’’ मैं ने रुंधे गले से कहा.

‘‘किस ने बताया कि तुम्हें एड्स है?’’

‘‘आप ही ने तो लीना को बताया था कि मुझे एड्स है.’’

‘‘मैं ने…कब,’’ डा. गुप्ता लीना की ओर देखने लगे.

‘‘आज जब मैं आप के क्लिनिक में गई थी तो आप ने बताया था कि पोजिटिव रिपोर्ट आई है. तभी आप के यह दोस्त आ गए और आप ने मुझे बाहर भेज दिया और अपने कमरे में बैठ कर आप इन के साथ इस केस पर विचारविमर्श करने लगे. मैं ने बाहर बैठ कर सुना था. आप के मित्र ने कहा था कि इन को एड्स है,’’ इतना कह कर लीना सिसकने लगी.

‘‘मिस्टर लाल, हम ने कब इन के केस को ले कर डिसकस किया था?’’ डा. साहब ने अपने मित्र से पूछा.

कुछ सोचते हुए मिस्टर लाल बोले, ‘‘डा. गुप्ता, मैं ने आप के अस्पताल के लिए जो चैक विदेश से ला कर दिए और बताया कि यह ‘ऐड’ है उसे ही इन्होंने एड्स तो नहीं समझ लिया?’’ मिस्टर लाल ने डा. गुप्ता से प्रश्न किया.

‘‘तो आप लोग इन को एड्स होने की बात नहीं कह रहे थे?’’ लीना ने डरतेडरते पूछा, ‘‘और वह पोजिटिव रिपोर्ट?’’

‘‘वह तो इन के मलेरिया की रिपोर्ट थी,’’ डा. साहब ने बताया, ‘‘मैं इधर से निकल रहा था तो मैं ने सोचा कि मनोजजी की रिपोर्ट देता चलूं और दवाइयां भी लिख दूंगा.’’

डा. गुप्ता ने मेरी ओर देखने के बाद लीना की ओर मुंह फेरा और चुभते शब्दों में बोले, ‘‘किसी एड्स के मरीज को यों जकड़ कर पार्क में डालने की क्या तुक है?’’

‘‘चाहिए तो यह कि एड्स के मरीज को इस बात का एहसास न होने दिया जाए कि वह मौत की ओर खिसक रहा है,’’ मिस्टर लाल कहते गए, ‘‘उस के साथ तो ऐसा व्यवहार करना चाहिए कि वह जीवन का आखिरी रास्ता सुकून से अपने हमदर्दों के बीच तय कर पाए और आप लोग तो जानते हैं कि यह बीमारी छूत की नहीं है फिर भी आप ने ऐसा बेवकूफी का काम किया?’’

डाक्टर के तेवर को देख कर ताऊजी बोले, ‘‘अरे, तुम लोग खडे़खडे़ मुंह क्या देख रहे हो. जाओ, जल्दी से जंवाई राजा के सामान को घर के अंदर पहुंचाओ’’.

ताऊजी ने बलदेव के हाथ से मकान की चाबी छीन कर घर का दरवाजा खोल दिया.

डेढ़ घंटे बाद कमरे में सामान के ढेर के पास मैं पलंग पर अधलेटे बैठा था. ट्रक जा चुका था. ताऊजी, बलदेव और लीना की दोनों सहेलियां बाहर से ही खिसक चुके थे और लीना?

लीना, अपनी नई कांच की चूडि़यां शृंगार बाक्स से निकाल, कलाइयों में पहने, डे्रसिंग टेबल के सामने बैठी अपनी कलाइयां घुमा कर चूडि़यां खनका रही थी.

दूर कहीं से गाने की आवाज आ रही थी :

‘‘मेरे हाथों में नौनौ चूडि़यां हैं…’’

खत्म हुआ तूफान: क्या सच्चा था आकाश का प्यार

शाम के 5 बज रहे थे, 170 से 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हवाएं तथा समंदर की कई फुट ऊंची लहरों का शोर किसी भी इंसान को भयभीत करने के लिए काफी था. ऐसे में एक लड़की का बचाओबचाओ का स्वर आकाश के कानों में पड़ा. बगैर परवाह किए वह चक्रवाती तूफान ‘हुदहुद’ के चक्रव्यूह को भेदता हुआ पानी में कूद पड़ा और उसे बचा कर किनारे की तरफ ले आया. वह उस लड़की को पहचानता नहीं था, मगर बचाने का हर संभव प्रयास कर रहा था. समुद्रतट पर उसे लिटा कर वह उस के शरीर में भरा पानी निकालने लगा. थोड़ी देर में लड़की ने आंखें खोल दीं. उसे होश आ गया था मगर वह ठंड से कांप रही थी. आकाश कुछ देर उसे देखता रहा. फिर उसे गोद में उठा कर सुरक्षित स्थान पर ले आया.

वह लड़की अभी भी भयभीत थी और आकाश को लगातार देख रही थी. ऐसा लग रहा था जैसे वह उस के साथ स्वयं को सुरक्षित महसूस कर रही हो. आकाश उसे ले कर दूर एक टूटेफूटे घर की तरफ बढ़ गया. घर के दरवाजे पर एक बूढ़ी खड़ी थी. आगंतुक की गोद में एक लड़की को देख बूढ़ी ने उन्हें अंदर आने दिया और पूछा, ‘‘क्या यह तुम्हारी बीवी है?’’

‘‘नहीं, दरअसल यह लड़की तूफान में फंस गई थी और डूब रही थी, इसलिए मैं इसे बचा कर यहां ले आया,’’ आकाश ने कहा.

‘‘अच्छा किया तुम ने. इसे ठंड लग रही होगी. ऐसा करो, तुम इसे मेरे बिस्तर पर लिटा दो. मैं इस के कपड़े बदल देती हूं. इस तूफान ने तो हमारा जीना ही दूभर कर रखा है. खाने के ऐसे लाले पड़ रहे हैं कि लूट मची हुई है. कल एक ट्रक सामान भर कर आने वाला था. खानेपीने की चीजें थीं उस में. मगर यहां पहुंचने से पहले ही सबों ने उसे लूट लिया. हमारे पास तक कुछ पहुंचा ही नहीं. अभी मेरा मरद गया है. शायद कुछ ले कर लौटे,’’ बूढ़ी बोली.

करीब 50 साल की थी वह महिला मगर दुख और परेशानियां उस की उम्र बढ़ा कर दिखा रही थीं. बूढ़ी के पास जो भी कपड़े थे, वह उन्हें ही ले आई और लड़की को पहनाने लगी. आकाश दूसरे कोने में खड़ा हो गया और कमरे का मुआयना करने लगा. यह एक छोटा सा कमरा था, जिस में बैड और किचन के कुछ छोटेमोटे सामानों के अलावा कुछ नजर नहीं आ रहा था. एक कोने में खाली बरतन पड़े थे और बाईं तरफ एक रस्सी बंधी थी जिस पर 2-4 फटे कपड़े लटके हुए थे. 2 दिनों में हुदहुद की मार हर किसी के घर पर नजर आने लगी थी. बहुत से लोग मर चुके थे, तो बहुतों के घर बह गए थे. पूरे गांव में खौफ और बरबादी का मंजर था. ऐसे में आकाश को विशाखापटनम पहुंचना जरूरी था.

जब वह निकला था अपने गांव से, तो उसे हुदहुद के आने की खबर नहीं थी. मगर रास्ते में इस तूफान में वह पूरी तरह फंस गया था. उस की प्रेमिका दिशा उसी के कहने पर हमेशा के लिए अपना घर छोड़ कर उस से मिलने पहुंच चुकी थी और एक होटल में ठहरी हुई थी. आकाश उस के पास जाने की हड़बड़ी में था, मगर बीच में यह वाकेआ हो गया. वह क्या करता? लग रहा था जैसे रास्ता लंबा होता जा रहा है. बूढ़ी ने अब तक लड़की के कपड़े बदल दिए थे और उस पर कंबल डाल दिया था. इस के बाद वह गरमगरम चाय बना लाई और दोनों के हाथों में 1-1 प्याला दे दिया.

लड़की अभी भी काफी परेशान और घबराई हुई लग रही थी. आकाश ने लड़की को समझाने का प्रयास किया कि वह घबराए न. वैसे आज वह खुद भी कम परेशान न था. एक तरफ तूफान का जोर और दूसरी तरफ प्रेमिका के पास पहुंचने की जल्दी. उस पर इस तूफान में मिली लड़की की जिम्मेदारी. उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करे. करीब 2-3 घंटे उस घर में गुजारने के बाद आकाश ने आगे जाना तय किया. मगर इस लड़की का क्या किया जाए, जो अभी भी बहुत ही घबराई हुई थी और ठीक से चल भी नहीं पा रही थी?

आकाश ने लड़की से पूछा, ‘‘अब बताओ, कहां छोड़ूं तुम्हें? तुम्हारा घर कहां है?’’

लड़की फफकफफक कर रोने लगी फिर रोतेरोते ही बोली, ‘‘मेरा घर तो डूब गया. मेरे तो केवल बाबा थे, उन्हें भी लहरें अपने साथ ले गईं. अब कोई नहीं है मेरा.’’ वह बोल कर फिर रोने लगी. आकाश उस के माथे पर हाथ फिराने लगा और बोला, ‘‘प्लीज, रोओ मत. मैं हूं न. कोई इंतजाम कर दूंगा. अभी चलो मेरे साथ, मैं ले चलता हूं तुम्हें.’’

थोड़ी देर में जब लड़की थोड़ी सामान्य हो गई तो आकाश ने आगे जाने की सोची. उस ने सहारा दे कर लड़की को उठाया तो वह दर्द से कराह उठी. शायद उस के पैर में गहरी चोट लगी थी. आकाश ने फिर से उसे गोद में उठा लिया और बाहर निकल आया. वह अब और रुक नहीं सकता था. काफी आगे जाने पर उसे एक बस मिल गई, जो विशाखापटनम ही जा रही थी. उस ने लड़की को बस में बैठाया और खुद भी बैठ गया. लड़की अब उसे कृतज्ञता और अपनेपन से देख रही थी. आकाश ने मुसकरा कर उस का सिर सहलाया और पहली बार गौर से लड़की को देखा. लंबे काले बालों वाली लड़की देखने में काफी खूबसूरत थी. रंग बिलकुल गोरा, चमकता हुआ. वह एकटक आकाश की तरफ ही देख रही थी. आकाश भी थोड़ी देर उसे देखता रहा फिर सहसा ही नजरें हटा लीं. उसे जल्द से जल्द अपनी प्रेमिका के पास पहुंचना था. वह दिशा को याद करने लगा. दिशा बहुत खूबसूरत नहीं पर अलग सा आकर्षण था उस के पूरे वजूद में. आकाश पूरी तरह दिशा की यादों में खो गया. लेकिन बस अचानक झटके से रुक गई तो उस का ध्यान बंट गया.

दोबारा बस चलने पर आकाश एक बार फिर से दिशा के बारे में सोचने की कोशिश करने लगा मगर अब बारबार उस के जेहन में बगल में बैठी लड़की का खयाल आने लगा था. इतनी सुंदर है, अकेली कहां जाएगी? सहानुभूति के अलावा शायद एक अजीब तरह का रिश्ता भी जुड़ने लगा था उन के बीच. इसे प्यास लग रही होगी, उस ने सोचा. एक जगह बस रुकते ही आकाश की नजर सामने दुकान पर गई. पानी की 1 लिटर की बोतल उठाते हुए उस ने पूछा, ‘‘कितने की है?’’

‘‘100 रुपए की.’’

‘‘क्या? पानी की बोतल इतनी महंगी?’’

‘‘क्या करें भैया, इस तूफान की वजह से चीजों के दाम आसमान छू रहे हैं.’’

आकाश ने पानी की बोतल खरीद ली और लड़की को पीने को दी. बाद में थोड़ा पानी उस ने भी पी लिया.

विशाखापटनम बस स्टौप आ चुका था. आकाश ने लड़की को सहारा दे कर नीचे उतारा और रिकशा ढूंढ़ने लगा. बड़ी मुश्किल से एक रिकशा वाला मिला. उस पर बैठ कर वह होटल की तरफ चल पड़ा. रास्ते में वह सोच रहा था कि इसे मां के पास छोड़ दूंगा. गांव में सहारा मिल जाएगा बेचारी को वरना इस अकेली लड़की को देख कोई इस के साथ क्या कर बैठे या कहां पहुंचा दे कुछ कहा नहीं जा सकता और फिर इस के बाबा भी नहीं रहे, घर भी बह गया. हुदहुद तूफान ने इस लड़की की जिंदगी सड़क पर ला कर खड़ी कर दी.

उधर दिशा होटल में बैठी लगातार टीवी समाचार पर नजरें टिकाए बैठी थी, जिस में आ रहा था: ‘चक्रवाती तूफान हुदहुद से प्रभावित आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्रों का सर्वेक्षण करने और स्थिति का जायजा लेने प्रधानमंत्री विशाखापटनम पहुंचे. गौरतलब है कि इस चक्रवाती तूफान में 24 लोगों की जान गई है और यह तटीय आंध्र प्रदेश में अपने पीछे भारी तबाही के निशान छोड़ गया है.

‘चक्रवात के कारण मची तबाही की दास्तां यह है कि सड़कों पर जड़ों के साथ उखड़े पेड़, बिजली के खंभे और तारें आदि पड़े हैं. चक्रवात के कारण जिले में 15 मौतें हो गईं. स्थिति सामान्य करने के लिए संघर्ष जारी है.’दिशा का मन वैसे ही घबरा रहा था, उस पर हुदहुद के समाचारों से परेशान हो वह कई दफा आकाश को फोन कर चुकी थी. मगर उस से कोई संपर्क नहीं हो पा रहा था. तभी दरवाजे की घंटी बजी.

वह दौड़ती हुई आई और दरवाजा खोला तो सामने खड़े आकाश को देख कर खुशी से उछल पड़ी. मगर यह क्या, बगल में एक सकुचाई, सुंदर सी लड़की. आकाश नेउस का हाथ पकड़ कर बैड पर बैठाया और फिर दिशा की तरफ मुखातिब हुआ. दिशा की आंखों में परेशानी साफ झलक रही थी. न चाहते हुए भी उस के चेहरे पर शिकन की लकीरें आ गई थीं. ‘यह कौन है?’ उस की निगाहों में यही प्रश्न था, जिसे भांपते हुए आकाश ने उसे किनारे लाते हुए कहा, ‘‘ऐक्चुअली, यह सुनीता है. दरअसल, यह तूफान में फंस गई थी. मैं ने इसे बचाया. इस का घर, बाबा, सब तूफान में बह गए. इसलिए मुझे साथ लाना पड़ा.’’

दिशा ने फिर लड़की की तरफ देखा तो उस के चेहरे पर शिकन और बढ़ गई. आकाश की ओर देखती हुई वह बोली, ‘‘तुम दोनों पूरे रास्ते साथ थे?’’

‘‘हां दिशा, मैं इसे अकेला नहीं छोड़ सकता था. यह घबराई हुई थी.’’

दिशा आकाश का हाथ पकड़ती हुई बोली, ‘‘इसे जाने दो. मुझे तो बस इस बात की खुशी है कि तुम सकुशल लौट आए. तुम्हें कुछ हुआ नहीं. सच बहुत डर गई थी मैं,’’ कहती हुई वह आकाश के सीने से लग गई.

आकाश ने प्यार से उसे बांहों में बांधा और बोला, ‘‘रास्ते भर बस तुम्हारे बारे में ही सोचता रहा.’’

मगर यह क्या, बोलतेबोलते उस की आवाज अटक गई. कहीं वह झूठ तो नहीं बोल रहा, उस ने सोचा.

तभी वह लड़की वहीं बैठेबैठे बोल पड़ी, ‘‘मुझे भूख लग रही है. कल से कुछ नहीं खाया.’’

‘‘मैं अभी कुछ मंगवाता हूं,’’ कहते हुए आकाश ने दिशा का हाथ छोड़ दिया और आगे बढ़ा तो दिशा उसे रोक कर बोली, ‘‘तुम बैठो. मेरे पास खाने की कुछ चीजें पड़ी हैं. अभी ही मंगवाया था उन्हें वही खिला देती हूं. भूख तो तुम्हें भी लगी होगी न? चलो हम दोनों बाहर जा कर कुछ खा लेते हैं.’’

आकाश समझ रहा था कि दिशा उस लड़की के साथ कंफर्टेबल नहीं है. वह उस के साथ अकेले वक्त बिताना चाहती है. उसे खुद भी उस लड़की की उपस्थिति अजीब लग रही थी. इतनी दूर से उस की दिशा सिर्फ उस की खातिर आई है और वह उसे गले भी नहीं लगा पा रहा है.

‘‘चलो,’’ आकाश उठ कर खड़ा हो गया. दिशा ने खाने की चीजें लड़की के आगे रखीं और आकाश के साथ बाहर निकल आई.

‘‘मैं तुम्हारी खातिर अपना कल छोड़ आई हूं आकाश. सिर्फ तुम ही अब मेरा आज, मेरा सब कुछ हो और मैं चाहती हूं कि तुम भी मेरे बन कर रहो,’’ दिशा आकाश की नजरों में झांक रही थी. वह उन आंखों में सिर्फ खुद को देखना चाहती थी.

आकाश ने पलकें झुका लीं. वह दिशा के मन की बेचैनी समझ सकता था.

उस ने दिशा का हाथ थाम कर कहा, ‘‘ऐसा ही होगा.’’ दिशा मुसकराई. पर उस मुसकराहट में संशय साफ नजर आ रहा था. आकाश और दिशा खाते वक्त खामोश थे पर दोनों के मन में तूफान मचा हुआ था. कहां पता था कि हुदहुद का यह तूफान उन के जीवन में भी तूफान ले आएगा.

‘‘बहुत सुंदर है वह लड़की,’’ अचानक दिशा बोल पड़ी.

‘‘तो?’’ आकाश ने अजीब नजरों से उस की तरफ देखा. दिशा का यह रवैया उसे नागवार गुजरा था.

‘‘बस यों ही कह रही हूं,’’ वह मुसकराई, ‘‘मुझे तुम पर पूरा विश्वास है. पर आज क्या यह हमारे साथ ही रहेगी?’’

‘‘हूं. अब क्या करूं, बताओ? अकेला कैसे छोड़ दूं इसे? मैं खुद परेशान हूं. कहां हम अपनी जिंदगी के इतने कठिन मोड़ पर खड़े हैं और कहां यह लड़की इस वक्त हमारी जिंदगी में…’’

‘‘परेशानी बढ़ाने आ गई है.’’ आगे के शब्द दिशा ने पूरे किए तो आकाश मुसकरा कर रह गया.

‘‘चलो इस की बातें छोड़ो. मैं इसे मां के पास छोड़ आऊंगा. वहां घर के काम में मदद कर दिया करेगी या अंकल के यहां छोड़ दूंगा. तुम यह सोचो कि अब आगे क्या करना है. अपने मांबाप को मैं काफी हद तक सहमत कर चुका हूं, इस शादी के लिए. बस तुम्हें देख लेंगे तो बाकी का एतराज भी जाता रहेगा.’’

आकाश ने दिशा का मूड ठीक करने का प्रयास किया तो दिशा के चेहरे पर प्यार की लाली फैल गई. दोनों खापी कर पुन: होटल लौट आए. वह लड़की अब काफी हद तक सामान्य हो चुकी थी.

रात में दोनों लड़कियां बैड पर और आकाश सोफे पर सो गया. अचानक 3-4 बजे के करीब आकाश की आंखें खुलीं तो देखा कि वह लड़की उस के सोफे के कोने पर बैठी है और उठ कर वाशरूम की तरफ जाने की कोशिश कर रही है. मगर पैर में चोट की वजह से ठीक से उठ नहीं पा रही है.

आकाश को उठा देख वह लाचार नजरों से उस की तरफ देखती हुई बोली, ‘‘मैं उधर जा रही थी तो चला नहीं गया, सो…’’

आकाश ने चुपचाप उसे पकड़ कर उठाया और वाशरूम तक ले गया.

इस दौरान दिशा की आंखें भी खुल चुकी थीं. वह इन दोनों को इस तरह साथ देख कर चौंक पड़ी. दिशा को उठा देख आकाश भी सकपका गया. फिर भी उस ने चुपचाप लड़की को बैड पर लिटाया और फिर दिशा की तरफ मुखातिब हुआ. वह करवट बदल कर सोने का उपक्रम करने लगी. आकाश भी आ कर लेट गया.

उधर दिशा रात भर करवटें बदलती रही. उसे नींद नहीं आ रही थी. दिमाग में बस वही दृश्य घूम रहा था, जो उस ने देखा था. आकाश कितने प्यार से उसे थामे हुए था और वह लड़की किन नजरों से उस की तरफ देख रही थी. पहले भी उस ने देखा है कि वह लड़की आकाश को वैसी ही नजरों से देखती है. और फिर वह इतनी खूबसूरत है कि कोई भी पिघल जाए.

दिशा सुबहसुबह उठी और बाहर निकल आई. पार्क में बेचैनी से चहलकदमी करती रही. फिर जब वह थक गई तो वापस कमरे की ओर लौट पड़ी. मगर दरवाजे पर पहुंचते ही उस के पांव ठिठक गए. उस ने परदे के अंदर झांक कर देखा. वह लड़की अभी भी आकाश की तरफ देख रही थी. वह आगे बढ़ती या कुछ सोचती, इस से पहले ही उस लड़की ने आकाश का हाथ पकड़ लिया. आकाश ने मुड़ कर उस की तरफ देखा तो वह पास आ गई और धीरे से बोली, ‘‘आकाश, मैं तुम्हें बहुत प्यार करने लगी हूं. प्लीज मुझे कभी अकेला मत छोड़ना मैं हमेशा तुम्हारे साथ रहना चाहती हूं…’’

दिशा के सीने में आग सी लग गई और मन में तूफान सा मच गया. आकाश भी दो पल के लिए निरुत्तर हो गया. दिशा को लगा अब अंदर जा कर उस लड़की के बाल पकड़ कर खींचती हुई बाहर ले आएगी. तभी लड़की का हाथ आहिस्ता से परे सरकाते हुए आकाश ने दृढ़ शब्दों में कहा, ‘‘मैं दिशा से प्यार करता हूं और सारी जिंदगी उसी का बन कर रहूंगा. जो तुम चाहती हो वह नहीं हो सकता. मगर हां, मैं तुम्हें तकलीफ में अकेला नहीं छोड़ूंगा. तुम मेरी जिम्मेदारी बन गई हो. इसी शहर में मेरे अंकल रहते हैं, जो डाक्टर हैं उन की कोई संतान नहीं. वे वृद्ध हैं और उन की वाइफ बीमार रहती हैं. तुम उन की सेवा कर देना और वे तुम्हें बेटी की तरह प्यार देंगे.’’

लड़की ने कुछ नहीं कहा. बस खामोश नजरों से आकाश की तरफ देखती रही. फिर धीरे से बोली, ‘‘मुझे नहीं पता था कि आप दिशा से प्यार करते हैं. मुझ से बहुत बड़ी गलती हो गई शायद. मगर मैं कभी भी आप को भूल नहीं पाऊंगी. आप मुझे जहां भेजना चाहते हैं, भेज दें. मुझे पूरा विश्वास है आप पर,’’ कह कर वह खामोश हो गई.

इधर दरवाजे पर खड़ी दिशा के लिए अपने आंसुओं को रोक पाना कठिन हो रहा था. वह रोती हुई पार्क की तरफ भाग गई ताकि अपने मन में उठ रहे तूफान पर काबू पा सके. मन के गलियारों में उमड़ताघुमड़ता यह तूफान अब थमता जा रहा था. उसे ऐसा लग रहा था जैसे उस के मन में उठी बेचैन लहरें धीरेधीरे शांत होती जा रही हैं. हुदहुद ने जो तूफान उस की जिंदगी में उठाया था, उसे आकाश की वफा ने एक झटके में प्यार के रंगों से सराबोर कर दिया था. वह पूरी तरह इस तूफान के साए से मुक्त हो चुकी थी. आकाश के प्रति उस का प्रेम और भी गहरा हो गया था.

फैन: क्या था शीला बूआ की नाराजगी का कारण

करीब 8 महीने पहले शीला बूआ का अपने भतीजे राजीव की शादी के अवसर पर सप्ताह भर के लिए कानपुर से दिल्ली आना हुआ था. उस के बाद अब वे 1 महीने के लिए अपने छोटे भाई शंकर के घर रहने आई थीं.

राजीव की बहू मानसी अपने कमरे से निकल कर जब उत्साहित अंदाज में भागती सी उन के पास आई तब उस ने जींस और टौप पहना हुआ था. बूआ के माथे में पड़े बल देख कर शंकर, उन की पत्नी सुमित्रा और राजीव तीनों समझ गए कि नई बहू का पहनावा उन्हें पसंद नहीं आया. बूआजी की नाराजगी से अनजान मानसी ने पहले उन के पैर छुए और फिर बड़े जोश के साथ गले लगते हुए बोली, ‘‘मैं ने मम्मी से आप की पसंद की चाय बनानी सीख ली है. आप के लिए चाय मैं ही बनाया करूंगी, बूआजी.’’

‘‘तुम्हारे शरीर से पसीने की बदबू आ रही है,’’ उस की बात से खुश होने के बजाय बूआ ने नाक सिकोड़ कर उसे परे कर दिया.

‘‘आप के आने से पहले मैं व्यायाम कर रही थी. जब आप की आवाज सुनी तो मुझ से रुका नहीं गया और भागती हुई मिलने चली आई. मेरे नहाते ही पसीने की बदबू गायब हो जाएगी.’’

‘‘क्या तुम अभी तक नहाई नहीं हो?’’ बूआ ने दीवार पर लगी घड़ी की तरफ देखा, जिस में 11 बज रहे थे.

‘‘आज रविवार है, बूआजी.’’

‘‘उस से क्या हुआ?’’

‘‘रविवार का मतलब है सब कुछ आराम से करने का दिन.’’

‘‘अच्छे घर की बहुओं की तरह तुम्हें रोज सूरज निकलने से पहले नहा लेना चाहिए,’’ बूआ ने तीखे स्वर में उसे डांट दिया.

‘‘आप के हुक्म को मान कर मैं संडे को भी जल्दी नहा लिया करूंगी. अब मैं आप के लिए चाय बना कर लाऊं?’’ बूआ की डांट का बुरा न मान मानसी मुसकराती हुई बोली.

‘‘हां, ले आओ बहू,’’ सुमित्रा ने अपनी बहू को बूआजी के सामने से हटाने की खातिर जवाब दिया, पर उन की यह तरकीब सफल नहीं हुई.

बूआ ने सुमित्रा से ही नाराजगी से घूरते हुए पूछा, ‘‘कहीं तुम ने भी बिना नहाए रसोई में घुस कर काम करने की आदत अपनी पढ़ीलिखी बहू से तो नहीं सीख ली है?’’

‘‘बिलकुल नहीं, दीदी. चाय मैं ही बना कर लाती हूं,’’ सुमित्रा अपनी जान बचाने को रसोई की तरफ चल पड़ीं.

‘‘और मैं आप से ढेर सारी बातें करने को फटाफट नहा कर आती हूं,’’ मानसी झुक कर बूआजी के गले लगी और फिर तुरंत अपने कमरे की तरफ भाग गई.

‘‘यह तो साफ दिख रहा है कि बहू अपने घर से कोई अदबकायदा सीख कर नहीं आई है, पर तुम तो उसे इज्जतदार घर की बहू की तरह ढंग से रहना सिखाओ… इसे इतना ज्यादा सिर चढ़ा कर सब रिश्तेदारों के बीच में अपना मजाक उड़वाने का इंतजाम न करो,’’ इस तरह की बातें करते हुए बूआ चाय आने तक शंकर और राजीव की क्लास लेती रहीं.

दोनों उन की सारी बातें खामोशी से सुनते रहे. बूआजी के सामने उलटा बोलने या उन के कहे को टालने की हिम्मत किसी में नहीं थी.

‘‘दीदी, अब आप ही उसे काबिल और समझदार बना कर जाना. मैं बाजार हो कर आता हूं,’’ चाय का कप बूआ के हाथ में आते ही शंकर अपनी जान बचा कर घर से निकल गए.

राजीव बूआजी की अटैची को उठा कर उसे गैस्टरूम में रखने के बहाने से वहां से खिसक लिया. बेचारी सुमित्रा अपनी ननद का लंबा लैक्चर सुनने के लिए तैयार हो उन के सामने सिर झुका कर बैठ गईं. उसी दिन शाम को ड्राइंगरूम में एकसाथ चाय पीते हुए राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी में हुए घोटालों पर चर्चा हो रही थी.

‘‘जरा धीरे हंसाबोला कर, बहू,’’ मानसी को गुस्से से टोकने के बाद बूआजी ने शंकरजी की तरफ मुड़ कर चुभते लहजे में पूछा, ‘‘तू ससुर है या बहू का देवर? अब जरा गंभीर हो कर घर में रहना सीख.’’

किसी के कुछ कहने से पहले ही मानसी बोल पड़ी, ‘‘ये तो सचमुच मेरे दोस्त ससुरजी हैं, बूआजी. हमारे बीच…’’

मानसी अपनी बात पूरी नहीं कर सकी, क्योंकि उस की बात सुन कर अपनी हंसी रोकने के चक्कर में शंकर का खांसतेखांसते दम फूल गया.

‘‘बड़ों के सामने इतना ज्यादा बोलना तुम्हें शोभा नहीं देता है, बहू. तुम बड़ों का शर्मलिहाज करना सीखो,’’ सब को मुसकराते देख बूआ को तेज गुस्सा आया और उन्होंने मानसी को इतनी जोर से डांटा कि घर के हर सदस्य के चेहरे पर तनाव झलक उठा.

‘‘जी, बूआजी,’’ मानसी ने पल भर को अपने मुंह पर उंगली रखी और फिर फौरन उसे हटा कर बूआजी को चहकते हुए बताने लगी, ‘‘यह सारा कुसूर मेरे पापा का है. आप जब उन से मिलें, तो उन्हें जरूर डांटना. उन्होंने मुझे बचपन से ही किसी भी विषय पर अपने साथ खुल कर चर्चा करने की छूट दे रखी थी. अब मैं यहां पापा के साथ बातें करतेकरते जोश में भूल जाती हूं कि ये तो मेरे ससुरजी हैं. मुझे इन के सामने खामोश रहना चाहिए.’’

‘‘शंकर, तू इसे गलत व्यवहार करते देख कर डांटताटोकता क्यों नहीं है?’’

‘‘दीदी, मैं अब से टोका करूंगा,’’ शंकरजी के लिए अभी भी अपनी हंसी रोकना मुश्किल हो रहा था.

‘‘और मैं अपने को सुधारने का वादा करती हूं, पापा,’’ मानसी ने यों गरदन झुका ली मानों बहुत बड़ा जुर्म करते पकड़ी गई हो. यह देख सब की हंसी छूट गई.

‘‘तुम सब का तो इस जोकर लड़की ने दिमाग खराब कर दिया है,’’ बूआजी को अपनी हंसी रोकना मुश्किल लगा तो वे बड़बड़ाती हुईं अपने कमरे में चली गईं.

बूआजी के आने से घर का माहौल अजीब सा हो गया था. वे मानसी की कमियां गिनाते हुए नहीं थकती थीं. जब और कोई उन की ‘हां’ में ‘हां’ नहीं मिलाता तो वे नाराज सी नजर आतीं घर में घूमतीं.

‘‘तुम लोगों ने इसे जरूरत से ज्यादा सिर चढ़ा रखा है,’’ यह डायलौग वे दिन भर में न जाने कितनी दफा कहती थीं.

बूआ के आने के करीब 10 दिन बाद सुमित्रा के नैनीताल वाले चाचाजी का देहांत हो गया. शंकरजी और सुमित्रा को राजीव कार से नैनीताल ले गया. वे तीनों अगले दिन शाम तक लौटने वाले थे.

उन के जाने के बाद बूआजी पड़ोस में रहने वाली अपनी सहेली आरती के साथ शाम को बाजार घूमने निकल गईं वहां दोनों ने जम कर चाट खाई. बदपरहेजी का नतीजा यह हुआ कि रात के 9 बजतेबजते बूआजी की तबीयत खराब होनी शुरू हो गई. उन्हें उलटियां शुरू हो गईं. बाद में जब दस्त भी शुरू हो गए तो उन्हें बहुत कमजोरी महसूस होने लगी. मानसी कालोनी के बाहर से तिपहिया स्कूटर ले कर आई और उन्हें डाक्टर को दिखाने चल दी.डाक्टर के वेटिंगरूम में इंतजार कर रहे मरीजों की काफी भीड़ थी पर वह बूआजी को ले कर सीध डाक्टर साहब के कक्ष में घुस गई. कंपाउंडर ने जब उन्हें रोकने की कोशिश की तो मानसी ने उसे डांटते हुए कहा, ‘‘जो उलटीदस्त कर कर के मरा जा  रहा है, उस मरीज को इंतजार करने को कहना गलत है. डाक्टर साहब पहले इस सीरियस मरीज को ही देखेंगे.’’

डाक्टर भी बूआजी को लाइन के बिना पहले देखने की उस की प्रार्थना को टाल नहीं सके. उन्होंने बूआजी की जांच करने के बाद दवा लिख दी. घर आ कर बूआजी को पहली खुराक लेने के कुछ देर बाद से आराम मिलना शुरू हो गया. मानसी पूरे जोश के साथ उन की तीमारदारी में जुट गई. उस ने बूआ से पूछ कर मूंग की दाल की खिचड़ी बनाई. बूआजी का कुछ खाने का मन नहीं कर रहा था पर मानसी ने सामने बैठ कर उन्हें प्यार से कुछ चम्मच खिचड़ी खिला ही दी. बूआजी को 2 घंटे बाद दर्द बढ़ने लगा तो उन्होंने घबरा कर मानसी से पूछा, ‘‘अगर रात को मुझे ले कर डाक्टर के यहां जाना पड़ा तो किसे बुलाएगी?’’

‘‘मैं हूं न, बूआजी. आप किसी बात की फिक्र न करो,’’ मानसी ने बूआजी के माथे का चुंबन ले कर इतने आत्मविश्वास से कहा कि बूआजी की सारी टैंशन दूर हो गई.

रात को नैनीताल से फोन आया तो मानसी ने अपने ससुरजी को भी आश्वस्त कर दिया, ‘‘चिंता की कोई बात नहीं है. मैं सब संभाल लूंगी.’’ रात में जब भी बूआजी की आंख खुली उन्होंने मानसी को जागता पाया. वह हर बार उन्हें नमकचीनी के घोल के कुछ घूंट पिला कर ही मानती. करीब 12 बजे जब उन का बुखार बढ़ने लगा तो मानसी ने काफी देर तक उन के माथे पर गीली पट्टियां रखीं. बुखार कम हुआ तो बूआजी की कुछ देर को आंख लग गई. फिर अचानक रात में उन्हें इतनी जोर से उलटी हुई कि वे अपने कपड़े व पलंग की चादर को खराब होने से नहीं बचा पाईं.

‘‘अब चिंता की कोई बात नहीं. इस बार पेट में बची बाकी चाट भी बाहर आ गई है. देखना, अब आप की तबीयत सुधरती चली जाएगी, बूआजी.’’

मानसी की बात सुन कर कष्ट भुगत रहीं बूआजी मुसकराने से खुद को रोक नहीं पाईं. मानसी ने उन के कपड़े उतरवाए. तौलिया गीला कर के पूरा बदन साफ किया. बाद में पलंग की चादर बदली. फिर उन्हें नए कपड़े पहनाने के बाद उन का सिर इतने अच्छे तरीके से दबाया कि बूआजी को 15 मिनट में गहरी नींद आ गई. सुबह 7 बजे के करीब बूआजी की नींद खुली तो उन्होंने मानसी को पलंग के पास कुरसी पर बेसुध सा सोते पाया. उन्होंने उस के सिर पर प्यार से हाथ रखा तो उस ने फौरन चौंक कर आंखें खोल दीं. बूआजी ने कोमल स्वर में मानसी से कहा, ‘‘बहू, अब तू अपने कमरे में जा कर आराम से सो जा.’’

‘‘अब आप की तबीयत कैसी है?’’ मानसी की आंखों में चिंता के भाव झलक उठे.

‘‘बहुत अच्छा महसूस कर रही हूं. आखिरी उलटी करने के बाद बहुत चैन मिला था.’’

‘‘मैं नहा कर आप के लिए चाय बनाती हूं.’’

‘‘अरे, नहीं. तुम आराम करो. मैं खुद बना लूंगी.’’

‘‘तब तो आप के हाथ की बनी चाय मैं भी पीऊंगी,’’ मानसी छोटी बच्ची की तरह तालियां बजा कर खुश हुई तो बूआजी भी खुल कर मुसकरा उठीं.

दोनों ने साथ चाय पी. फिर रात भर की थकी मानसी बूआ की बगल में सो गई. मानसी 12 बजे के करीब उठी तब तक बूआजी ने रोटीसब्जी बना दी थी. साथसाथ लंच करते हुए दोनों के बीच खूब गपशप चलती रही. शाम को शंकर, सुमित्रा और राजीव लौट आए. बूआजी को स्वस्थ देख कर उन सब की आंखों में राहत के भाव उभरे. बूआजी ने मानसी को अपनी छाती से लगा कर उस की खुले दिल से तारीफ की, ‘‘अब मेरी समझ में आ गया है कि क्यों तुम सब इस बातूनी लड़की के फैन हो. यह सचमुच हीरा है हीरा. कल रात क्या डांटा था इस ने कंपाउंडर को… इस ने ऐसी फर्राटेदार अंगरेजी बोली कि डाक्टर साहब की भी मुझे लाइन के बगैर देखने से इनकार करने की हिम्मत नहीं हुई.

‘‘सारी रात जाग कर इस ने मेरी देखभाल की है. तुम सब कल्पना भी नहीं कर सकते कि नमकचीनी का घोल पीने से इनकार करने पर कितनी जोर से यह मुझे डांट देती थी. इस हिम्मती लड़की ने कल रात न खुद का हौसला खोया और न मुझे खोने दिया.

‘‘घर के काम करना तो यह बातूनी लड़की देरसवेर सीख ही जाएगी पर इस के जैसी चुलबुली, हंसमुख और करुणा से भरा दिल रखने वाली बहू बहुत मुश्किल से मिलती है. राजीव, तू ने अपने लिए बहुत अच्छी लड़की चुनी है.’’

भावुकता का शिकार बनी बूआजी ने जब प्यार से राजीव और मानसी का माथा चूमा तो उन की आंखों में आंसू छलक उठे. अब बूआ के सामने मानसी को कोई कुछ नहीं कह सकता था, क्योंकि घर के बाकी लोगों की तरह अब वे भी सोने का दिल रखने वाली मानसी की जबरदस्त प्रशंसक बन गई थीं.

सूरजमुखी- भाग 1: निशीथ के प्यार में तिलतिल जल रही थी छाया

इंटर्नशिप के लिए आई छाया इस केस में डा. हितेश को असिस्ट कर रही है. बेहद जटिल केस था. रात के 8 बज गए थे. स्टाफ बस जा चुकी थी. अत: अस्पताल के कौर्नर वाले औटोस्टैंड पर खड़ी हो कर इंतजार करने के अलावा छाया के पास कोई चारा नहीं था.

तभी एक कार उस के नजदीक आ कर रुकी, ‘‘यदि आप बुरा न मानें तो मुझे आप को लिफ्ट देने में खुशी होगी.’’

‘‘लेकिन…’’

‘‘कोई बात नहीं. सच में अजनबी पर इतनी जल्दी भरोसा नहीं करना चाहिए. वैसे मैं आप को बता दूं कि आज औटो वालों की स्ट्राइक है… और कोई सवारी मिलना मुश्किल है.’’

‘‘जी, मैं मैनेज कर लूंगी…’’

‘‘देखिए आप को यहां अकेले खड़ा देख कर मेरे मन में मदद का जज्बा जागा और आप से पूछ बैठा… वरना…’’

उस की स्पष्टवादिता और अपनी मजबूरी समझ कर अब छाया मना न कर सकी. इस तरह छाया निशीथ से पहली बार मिली थी और फिर धीरेधीरे यह सिलसिला लंबा होता गया.

निशीथ छाया के अस्पताल से 4 किलोमीटर दूर जौब के साथसाथ रिसर्च सैंटर में भी काम करता था. अपनी थीसिस के सिलसिले में अकसर उस के अस्पताल आता तो छाया से उस का आमनासामना हो ही जाता. हर बार लोगों की भीड़ में मिले थे दोनों. इसी तरह

साल गुजर गया. अब छाया को लगने लगा था जैसे वह निशीथ के कदमों की आहट

हजारों की भीड़ में भी पहचानने लगी है… न जाने क्यों निशीथ के साथ घंटों बिताने की अजीब सी इच्छा उस के मन में जागने लगी थी. जब निशीथ की आंखें उस के चेहरे पर गड़ जातीं तो छाया की धड़कनें बढ़ जातीं…

वह नहीं जानती थी कि निशीथ के प्रति प्रेम का यह अंकुर कब उस के मन में फूटा. छाया के लिए प्रेम की यह अनुभूति बिलकुल अप्रत्याशित थी वरना जिंदगी में उस ने जो लक्ष्य अपने लिए तय किए थे उन्हें पाने के लिए मन का वैरागी होना आवश्यक था. बचपन से ही सोचा था कि डाक्टर बन कर लोगों की सेवा करेगी.

पिछले 6 सालों से छाया दुनिया के हर गम और खुशी से दूर अपने लक्ष्य के लिए समर्पित थी. इसीलिए निशीथ के प्रति प्रेम का यह एहसास सब्र के सारे बांध तोड़ गया.

छाया ने ही पहल की थी, ‘‘निशीथ, मैं अपनी सारी जिंदगी आप के साथ गुजारना चाहती हूं. क्या आप भी ऐसा महसूस करते हैं?’’

‘‘छाया ऐसा फैसला जल्दबाजी में करना समझदारी का काम नहीं है. थोड़ा वक्त गुजर जाने दो… एकदूसरे को समझपरख लेने दो,’’ निशीथ ने समझाया.

इस जवाब से छाया मायूस हो गई.

एक दिन निशीथ का फोन आया. बोला, ‘‘छाया तुम्हारी ओर अपने कदम बढ़ाने से पहले मैं चाहता हूं कि हम दोनों के परिवार आपस में मिल लें. अचानक बिना सोचेसमझे किए प्यार पर मेरा विश्वास नहीं है.’’

‘‘पर निशीथ…’’ छाया असमंजस में थी.

‘‘देखो छाया मैं अपने मातापिता की इकलौती संतान हूं… हमेशा से यही सीखा है कि कोई भी फैसला दिल से नहीं, दिमाग से लेना चाहिए. अत: आने वाली जिंदगी में न अपने लिए और न ही परिवार के लिए कोई परेशानी खड़ी करना चाहता हूं. अत: मेरे मातापिता का फैसला ही हमारे प्यार का भविष्य तय करेगा.’’

निशीथ के ये नपेतुले विचार छाया को अच्छे नहीं लगे, पर उस के प्रति अपने जज्बातों के सामने छाया ने घुटने टेक दिए.

उस दिन हर संभव तैयारी के साथ छाया सपरिवार निशीथ के मातापिता से मिली थी. सब कुछ ठीकठाक चल रहा था. छाया जैसी सुंदर व डाक्टर लड़की भला किसे पसंद नहीं आती. पर तभी निशीथ की मां की एक बात अच्छेखासे माहौल को टैंस कर गई.

‘‘वैसे हमारे पास किसी चीज की कोई कमी नहीं. निशीथ की हर ख्वाहिश उस के बोलने से पहले पूरी करते आए हैं हम. पर अपनी बेटी को शानदार जिंदगी देने के लिए यानी निशीथ सा दामाद पाने के लिए आप ने भी तो कुछ सोचा होगा?’’ निशीथ की मां ने कहा.

‘‘जी, मैं समझा नहीं,’’ छाया के पिता दुविधा भरे स्वर में बोले.

‘‘देखिए, निशीथ अपनी एमबीए की पढ़ाई आस्ट्रेलिया से करना चाहता है… मैं चाहती हूं कि आप सगाई के बाद निशीथ को आस्ट्रेलिया भेज दें… शादी बाद में होती रहेगी,’’ निशीथ की मां बोलीं.

‘‘लेकिन…’’

निशीथ की मां बीच में ही बोल पड़ी, ‘‘देखिए बाहर से आने के बाद इंडिया में स्टेटस और सैलरी दोनों ही दोगुनेचौगुने हो जाते हैं, फिर इस ऐशोआराम को आप की बेटी को ही तो भोगना है. अत: इतना तो आप का भी हक बनता है अपनी बेटी के भविष्य के लिए.’’

मन ही मन खर्च का हिसाब लगाने पर पिताजी के चेहरे पर आतेजाते भावों को छाया खुद देख रही थी. अपनी आर्थिक स्थिति से वह वाकिफ थी. 1 छोटे भाई और 1 बहन की जिम्मेदारी पापा के कंधों पर थी. अत: अपनेआप को वह रोक नहीं पाई. बोली, ‘‘निशीथ ये कैसी बातें हो रही हैं? क्या इसी तरह समझने और समझाने के लिए तुम ने मुझे यहां बुलाया था?’’

‘‘देखो छाया, यह दुनियादारी है… इन बातों को बड़ों को आपस में निबट लेने दो… इस में हम बच्चों का दखल ठीक नहीं.’’

निशीथ के जवाब ने छाया के तनबदन में आग लगा दी. दुनियादारी के नाम पर उस जैसे पढ़ेलिखे सभ्य इंसान से छाया ने यह आशा कभी नहीं की थी. अत: अपने पर भरसक कंट्रोल करने के बावजूद वह पापा से बोली, ‘‘उठिए पापा, हमें यह रिश्ता मंजूर नहीं.’’

‘‘हमें भी यह रिश्ता मंजूर नहीं… तुम ही मेरे बेटे के पीछे पड़ी थी,’’ निशीथ की मां ने सभ्यता का नकाब उतार फेंका.

कहासुनी के दौरान छाया ने अनेक बार निशीथ को देखा पर हर बार सिर झुकाए देख छाया को अपने प्यार पर शर्मिंदगी महसूस होने लगी. बात बिगड़ चुकी थी. आंखों में आंसू लिए वह घर की ओर चल दी.

मम्मापापा क्या कहते. सब चुप थे. स्वयं छाया का स्वाभिमान बुरी तरह आहत हुआ था. अत: घर आ कर सीधे अपने कमरे में चादर ओढ़ कर सो रही है, ऐसा मां को दिखाने की कोशिश करने लगी. अपने पहले प्यार का उसे इस तरह ठुकराना गहरे अवसाद में धकेल गया था. ‘रिजैक्ट’ जैसे वह कोई वस्तु है जिस पर निशीथ के परिवार ने रिजैक्टेड का लेवल लगा दिया. हाथ नींद की गोलियों की ओर बढ़ गए पर तभी मोबाइल की घंटी ने उस के हाथ रोक दिए, ‘‘डा. छाया तुरंत अस्पताल पहुंचो, इमरजैंसी है…’’

छाया कुछ कह पाती, उस से पहले ही फोन कट गया. उस की ऐसी मनोस्थिति में अस्पताल जाने की हिम्मत नहीं हो रही थी.

सूरजमुखी- भाग 2: निशीथ के प्यार में तिलतिल जल रही थी छाया

छाया की सीनियर डाक्टर हाथ में फै्रक्चर की वजह से छुट्टी पर थीं. नेहा की प्रीमैच्योर डिलिवरी आज ही करवानी थी. उन का केस अनेक जटिलताओं से भरा था. केस की सारी जिम्मेदारी छाया पर आ पड़ी, एक तो उस दिन वह खुद को ही नहीं संभाल पा रही थी. उस पर जीवन का वह पहला पर अत्यंत जटिल केस. उस की अपनी निराशा उस के हाथों पर हावी हो गई और जिस का डर था वही हुआ. छाया ने बच्चे को तो बचा लिया पर मां के शरीर में फैलते जहर को न रोक पाई.

सुबह नेहा की मौत की खबर सारे अस्पताल में आग की तरह फैल गई. अस्पताल ने सारी जिम्मेदारी छाया पर डाल कर पल्ला झाड़ लिया. सब की नाराजगी और मीडिया में मचे हल्ले के चलते साल भर के लिए छाया के प्रैक्टिस करने पर रोक लगा दी गई. चौबीस घंटों में ही फिर से रिजैक्ट. ऐसा लगा जैसे वाकई वह एक वस्तु है.

एक के बाद एक दूसरी असफलता ने छाया के लिए जीवन के सारे माने ही बदल दिए. 1-2 बार आत्महत्या का प्रयास भी किया… जिंदगी का लक्ष्य दिशा जैसे भूल गई. मनोचिकित्सकों की भी सलाह ली, पर सब बेकार. मांपिताजी ने हार कर निशीथ के सामने घुटने टेकने का भी मन बना लिया. पर पता चला कि वह विदेश जा चुका है. अपनी बेटी की ऐसी हालत देख असहाय पिता ने एक दोस्त की सलाह पर आबोहवा बदलने के लिए छाया को शिमला भेज दिया उस के मामा के पास ताकि पुराने माहौल से निकल कर एक नए माहौल में सांस ले सके.

शिमला की सुंदर वादियां छाया के चेहरे पर फीकी ही सही मुसकराहट बिखेर गईं. पड़ोस में रह रही नन्ही सी बच्ची के क्रियाकलाप में धीरेधीरे वह डूबती चली गई. 4-5 साल की होगी वह. शिमला की चंचल हवा से भी ज्यादा चंचल और मासूम. रोज नएनए खेल खेलती थी वह. कभी पापा बनती तो कभी पापा की बौस.

एक दिन छाया अपने को रोक न पाई. पूछ ही बैठी, ‘‘हैलो, क्या नाम है तुम्हारा?’’

‘‘आला,’’ कह अपना खेल छोड़ कर वह भी भागी आई, ‘‘आप रोज यहां आती हैं और हम आप को देखते हैं… बहुत अच्छी लगती हैं हमें आप,’’ आला की बेतकल्लुफ चटरपटर सुन कर छाया मुसकरा उठी.

‘‘अच्छा, एक बात बताओ. आप खेल में कभी पापा बनती हैं तो कभी कुछ और… आप मम्मी क्यों नहीं बनतीं कभी?’’ आला से कुछ मिक्स होने के इरादे से छाया ने पूछा.

‘‘क्योंकि हम नहीं जानते मम्मी कैसी होती है? हम ने तो उन्हें कभी देखा ही नहीं. फिर कैसे बनें हम?’’ उस की मासूम आंखों में मायूसी देख छाया चुप हो गई.

आला छाया की जिंदगी में आशा की उजली किरण बन कर आई थी. बहुत जल्द ही घुलमिल गई थी. महीने भर की दोस्ती में उस ने छाया पर पूरा अधिकार जताना शुरू कर दिया था. कभी होमवर्क ले कर चली आती, तो कभी डर लग रहा है का बहाना बना कर छाया के घर ही सो जाती. आला की बातों में उस के पापा ही ज्यादातर हीरो हुआ करते थे. सुबह उस के सो कर उठने से ले कर रात बिस्तर पर जाने तक सारा दिन पापा की बातें. आला के मुंह से उस के पापा के बारे में सुनसुन कर एक समझदार और बेहद भावुक इंसान की छवि छाया के मन में बन गई थी. उन से मिलने, आला की मां के बारे में जानने के लिए उस का मन उत्सुक हो उठा.

एक दिन आला को तेज बुखार था और उस के पिता को किसी बहुत जरूरी काम से जाना पड़ा, तो उन्होंने छाया को फोन पर बड़ी विनम्रता से आला की देखभाल करने का आग्रह किया. तभी छाया का उन से परिचय हुआ था. आला की वजह से बहुत बार आमनासामना हो ही जाता था.

‘‘आप को दूसरी शादी कर लेनी चाहिए. आला अपनी मां और परिवार को बहुत मिस करती है,’’ एक दिन आला के पापा डा. राज के साथ टहलते वक्त छाया के मुंह से अचानक निकल गया.

‘‘मैं बेटी के लिए बेहद चिंतित रहता हूं. इसीलिए आज से पहले कभी इस बारे में सोचा ही नहीं, चलिए, संकोच की दीवारें गिर ही गई हैं तो मैं भी आप से पूछना चाहता हूं कि इस छोटी सी उम्र में अपनी जिंदगी के प्रति इतनी उदासीनता की क्या कोई खास वजह है? कई बार अजनबियों के साथ अपना फीलिंग शेयर करने से मन हलका हो जाता है और आत्मग्लानि के बोध से भी नहीं दबना पड़ता,’’ आला के पिता की आवाज में न जाने क्या था कि छाया रोक नहीं पाई अपनेआप को.

निशीथ का यों घाव दे कर उस की जिंदगी से अलग हो जाना, डिप्रैशन में आ कर अपने कैरियर के पहले ही पड़ाव पर असफल हो एक मासूम जिंदगी से उस की मां को छीन लेना. सब कुछ परदे पर चल रही फिल्म सा उस के सामने से गुजर रहा था और वह तो सिर्फ अपनी जबान से बयां कर रही थी. भूल गई थी कि आला के पिता उस के लिए अजनबी ही तो हैं, जिन से कुल मिला कर यह 5वीं बार ही तो मिल रही थी वह. सब कुछ बताने के बाद वह चुप हो गई. अपनी भावुकता से उबरी तो शर्मिंदगी के भाव से चेहरा छिपा लिया. गहन चुप्पी पसर गई वहां.

‘‘बुरा न मानना छाया, अपने सारे दुखों के लिए आप स्वयं दोषी हैं. दरअसल, आप अपनेआप को सूरजमुखी बना लिया है, ऐसा फूल जो खुद खिलने के लिए सूर्य की किरणों का मुहताज है. सूरज के बिना उस की अपनी कोई पहचान ही नहीं. आप ने निशीथ जैसी एक असफलता को सूरज मान न मिलने पर निराशा का गहन तानाबाना बुन लिया है अपने चारों ओर. वह तो प्रकृति के नियमों में बंधा एक फूल है पर आप तो इंसान हैं. सोचनेसमझने की शक्ति रखने वाली प्रकृति की सब से सुंदर रचना.

‘‘अरे, आप को तो यह सोचना चाहिए था कि यदि गलती से आप ने किसी की जान ली है तो सौ लोगों की जान बचा भी तो सकती हैं. आप यदि उस मां की मौत से सचमुच आहत हुई थीं तो उस के प्रायश्चित्त के लिए बदले में 10 लोगों की जान बचाने का संकल्प क्यों नहीं किया आप ने? किसी एक सोच को अपनेआप पर कैसे इतना हावी होने दिया, जिस ने आप की 5 सालों की तपस्या और मांपिता के प्यार, पैसे और सपनों को व्यर्थ कर दिया? आप तो डाक्टर हैं. चोट लगने पर मरहम लगा कर उसे ठीक करना जानती हैं. फिर इस जख्म को नासूर कैसे बनने दिया? अपनी दुनिया से बाहर झांक कर तो देखिए कितने दुखी हैं लोग.’’ और फिर राज चुप हो गया.

अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें